अभ्रक भस्म

अभ्रक भस्म अभ्रक की जलाई हुई राख है जिसका उपयोग आयुर्वेद में श्वसन विकारों, यकृत और पेट की बीमारियों, मानसिक बीमारियों और मनोदैहिक विकारों के लिए किया जाता है। अभ्रक भस्म को निस्तापन की प्रक्रिया के द्वारा तैयार किया जाता है, जिसमें अभ्रक मुख्य घटक होता है और पौधों के रस, अर्क और काढ़ों का उपयोग किया जाता है। इस निस्तापन की प्रक्रिया को आयुर्वेद में पुट कहते हैं। पुटों की संख्या अभ्रक भस्म की गुणवत्ता का निर्धारण करती है। आम तौर पर, यह 7 पुट अभ्रक भस्म से 1000 पुट अभ्रक भस्म तक भिन्न होती है। 1000 पुट अभ्रक भस्म का अर्थ है की इसके निर्माण की प्रक्रिया में अभ्रक में पौधों का रस मिलाकर, धूप में सुखाकर 1000 बार निस्तापन करना। पुट अभ्रक भस्म का निर्माण करने की वास्तविक प्रक्रिया एक वर्ष या उससे अधिक समय ले सकती है।

समानार्थक शब्द

  1. अबर भस्म
  2. निस्तापित अभ्रक
  3. अभ्रक राख
  4. ऑक्सीकृत अभ्रक
  5. अभ्रक नैनोकण
  6. निस्तापित और पीसा हुआ अबरक
  7. बायोटाइट राख
  8. अभ्रक छार
  9. निस्तापित बायोटाइट

अभ्रक भस्म के घटक

अभ्रक भस्म का मुख्य घटक शुद्ध अभ्रक है। अभ्रक भस्म के निर्माण के समय पौधों के रस, तरल अर्क और काढ़ों का उपयोग किया जाता है।

मुख्य घटक

अभ्रक (काला अभ्रक)

अभ्रक का रासायनिक सूत्र

K(Mg2Fe)3AlSi3O10(F,OH)2

निर्माण में उपयोग किये गए पौधे और जड़ी-बूटियां

अभ्रक भस्म के निर्माण में 72 जड़ी-बूटियों का उपयोग किया जाता है। उनके रस और काढ़े का उपयोग अभ्रक भस्म बनाने के लिए किया जाता है।

रासायनिक घटक

निम्नलिखित तत्व और घटक अभ्रक भस्म में उपस्थित हैं।

  1. लोह
  2. मैगनीशियम
  3. पोटेशियम
  4. कैल्शियम
  5. एल्यूमिनियम
  6. वनस्पतियों का क्षार

मौलिक संरचना

घनता द्वारा निर्धारण

अवयव घनता (%)
मैगनीशियम 3.522%
अल्युमीनियम 2.36%
सिलिकॉन 12.543%
पोटैशियम 7.844%
कैल्शियम 10.698%
टाइटेनियम 1.452%
सोडियम 0.114%
लोहा 21.534%
क्लोरीन 0.08%
फास्फोरस 0.218%
ऑक्सीजन 35.392%

अभ्रक भस्म में उपस्थित यौगिकों द्वारा निर्धारण

सूत्र घनता (%)
MgO 5.839%
Al2O3 4.459%
SiO2 26.832%
K2O 9.449%
CaO 14.968%
TiO2 2.422%
Na2O3 0.166%
Fe2O3 30.788%
KCl 0.1%
P3O5 0.273%

औषधीय गुण

अभ्रक भस्म में निम्नलिखित औषधीय गुण हैं:

  1. धमनीकलाकाठिन्य विरोधी
  2. अम्लत्वनाशक
  3. अवसाद नाशक
  4. दाहक नाशक
  5. कामोद्दीपक
  6. ह्रदय शक्तिवर्धक औषध
  7. शक्तिशाली कोशिका सुधारक
  8. हार्ट टॉनिक
  9. सामान्य शारीरिक शक्तिवर्धक औषध
  10. ऊर्जा बढ़ाने वाला
  11. रक्तोत्पादन संबंधी
  12. यकृत के लिए सुरक्षात्मक
  13. शांति प्रोत्साहक
  14. प्रतिरक्षा न्यूनाधिक
  15. पौष्टिक शक्तिवर्धक औषध
  16. पाचन उत्तेजक

चिकित्सकीय संकेत (Indications)

अभ्रक भस्म निम्नलिखित व्याधियों में लाभकारी है:

तंत्रिका तंत्र

  1. गंभीर सिरदर्द
  2. अधकपाटी
  3. उन्माद और अल्जाइमर रोग
  4. स्मरण शक्ति की क्षति
  5. पार्किंसंस रोग
  6. मिर्गी
  7. मस्तिष्क शोष
  8. सिर चकराना

मनोवैज्ञानिक रोग

  1. मानसिक कमजोरी के साथ व्यग्रता
  2. अनिद्रा या नींद ना आना
  3. आत्महत्या की प्रवृत्ति के साथ अवसाद
  4. चिड़चिड़ापन (मुक्ता पिष्टी – Mukta Pishti के साथ)
  5. स्किज़ोफ्रेनिया (रजत भस्म – Rajat Bhasma के साथ)
  6. मानसिक तनाव
  7. मिर्गी
  8. ध्यान की कमी के सक्रियण विकार

पेट के विकार (यकृत और उदर)

  1. अम्लता
  2. सीने में जलन
  3. व्रण
  4. यकृत प्रदाह
  5. यकृत बढ़ना
  6. पीलिया
  7. प्लीहा वृद्धि
  8. शीघ्रकोपी आंत्र के लक्षण
  9. व्रणयुक्त बृहदांत्रशोथ

श्वसन रोग (फेफड़े)

  1. साँस लेने में परेशानी
  2. दमा
  3. खाँसी
  4. गंभीर खांसी
  5. काली खांसी

ह्रदय और रक्त

  1. गलप्रदाह
  2. हृदयपेशीय अरक्तता संबंधी
  3. हृद्बृहत्ता (ह्रदय की असामान्य वृद्धि)
  4. ह्रदय की कमजोरी
  5. घबराहट
  6. धमनीकलाकाठिन्य
  7. रक्ताल्पता

पुरुषों के रोग

  1. बांझपन
  2. नपुंसकता
  3. अल्पशुक्राणुता

महिलाओं के रोग

  1. प्रसवोत्तर अवसाद
  2. रजोनिवृत्ति के लक्षण

आयुर्वेदिक गुण

स्वाद (रस) कसैला और मीठा
मुख्य गुणवत्ता (गुण) सौम्य
क्षमता (वीर्य) शीतल
चयापचय के परिणामी (विपाक) मधुर
प्रमुख प्रभाव (प्रवाव) पौष्टिक
मस्तिष्क पर प्रभाव मस्तिष्क को शांत रखता है

शारीरिक दोषों पर प्रभाव (दोष कर्म)

आयुर्वेद के अनुसार, यह तीनों दोषों (त्रिदोष – Tridosha) को शांत करता है।

उपयोग और सह-औषध

अभ्रक भस्म के उपयोग और उसके सह-औषध निम्नलिखित तालिकाओं में दिए गए हैं:

# नोट: यह खुराक वयस्क रोगियों के अनुसार है और रोगी इस मिश्रण को एक दिन में दो बार ले सकते हैं।

जीर्ण ज्वर

अभ्रक भस्म 125 मिलीग्राम
रस सिन्दूर 50 मिलीग्राम
शहद एक चम्मच

या

अभ्रक भस्म 125 मिलीग्राम
पिप्पली रसायन 500 मिलीग्राम
शहद एक चम्मच

दृष्टि में वृद्धि करने के लिए

अभ्रक भस्म 125 मिलीग्राम
त्रिफला चूर्ण – Triphala Powder 2 ग्राम

शीघ्रकोपी आंत्र के लक्षण

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
वायविडंग 250 मिलीग्राम
त्रिकटु चूर्ण 250 मिलीग्राम
घी – Ghee (Clarified butter) 1/2 चम्मच

आंतरिक रक्तस्राव

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
इलायची (हरा) बीज चूर्ण – Cardamom 500 मिलीग्राम
गुड़ – Jaggery 3 ग्राम
हरीतकी 1 ग्राम

लगातार पेशाब आना

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
हल्दी चूर्ण – Turmeric Powder 1 ग्राम
पिप्पली चूर्ण 250 मिलीग्राम
शहद एक चम्मच

या

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
गिलोय सत्व – Giloy Satva 500 मिलीग्राम
गुड़ 2 ग्राम

घाव

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
दूर्वा सत्व 500 मिलीग्राम

अम्लता, व्रण और सीने में जलन

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
नद्यपान चूर्ण 1 ग्राम
आंवला चूर्ण – Indian Gooseberry 1 ग्राम
प्रवाल पिष्टी – Praval Pishti 250 मिलीग्राम

प्रदर

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
स्वर्ण गैरिका या सोनागेरु 250 मिलीग्राम
गिलोय सत्व 500 मिलीग्राम

* इस मिश्रण को चावल के पानी के साथ लिया जाना चाहिए।

खॉँसी के साथ बलगम आना

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
श्रृंग भस्म – Shringa bhasma 100 मिलीग्राम
नद्यपान चूर्ण 1 ग्राम
सितोपलादि चूर्ण – Sitopaladi powder 2 ग्राम

या

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
श्रृंग भस्म 100 मिलीग्राम
लवंगादि चूर्ण 1 ग्राम

अभ्रक भस्म के लाभ

अभ्रक भस्म ताकत और स्वास्थ्य को बढ़ाता है और शरीर में प्राकृतिक चयापचय को बनाए रखने के लिए लाभदायक है। यह कोशिकाओं की मरम्मत करता है और उनका जीर्णोद्धार करने में मदद करता है। यह शरीर के सभी ऊतकों की मरम्मत करता है और शरीर की हर कोशिका को इष्टतम पोषण प्रदान करता है। अभ्रक भस्म घावों, मधुमेह, प्लीहावर्धन, पेट की बीमारियों, यकृत के अल्सर, आंतों की कीड़े और संकेतों में ऊपर सूचीबद्ध सभी रोगों में मददगार है। अभ्रक भस्म शारीरिक सहनशक्ति और सहनशीलता क्षमता को बढ़ाता है। महिलाओं के मामले में यह गर्भाशय को मजबूत करता है और अंडाशय को पोषण प्रदान करता है। यह त्वचा की चमक और हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ाता है।

उच्च रक्तचाप

अभ्रक भस्म में अच्छी मात्रा में मैग्नीशियम और पोटेशियम होता है। मुख्य रूप से तीन पोषक तत्व उच्च रक्तचाप के जोखिम को कम करने में लाभदायक होते हैं। इसमें मैग्नीशियम, पोटेशियम, और कैल्शियम शामिल हैं।

आम तौर पर अभ्रक भस्म का प्रयोग ह्रदय रोगियों के लिए और हल्के उच्च रक्तचाप के प्रबंधन में मुक्ता पिष्टी के साथ होता है। यह संयोजन प्रभावी रूप से प्रकुंचक रक्तचाप और अनुशिथिलनीय रक्तचाप दोनों को कम करता है। यह संयोजन ह्रदय और रक्त वाहिकाओं के उचित कामकाज के लिए तीन अति महत्वपूर्ण पोषक तत्व प्रदान करता है।

अभ्रक भस्म में उपस्थित मैग्नीशियम रक्त वाहिकाओं के शिथिलीकरण और ह्रदय की मांसपेशियों की क्रिया के लिए उत्तरदायी है। यह रक्त वाहिका की दीवारों और हृदय की मांसपेशियों की ऐंठन को रोककर रक्त वाहिकाओं को फैलाने में मदद करता है, जिससे अंततः उच्च रक्तचाप कम हो जाता है।

निम्न संयोजन उच्च रक्तचाप में प्रभावी है:

उपचार खुराक – दिन में दो बार
अभ्रक भस्म 100 मिलीग्राम
मुक्ता पिष्टी 125 मिलीग्राम

ह्रदय रोग

(हृदयपेशीय इस्कीमिया, हृद्बृहत्ता, हृद्‍शूल, धमनीकलाकाठिन्य आदि)

अभ्रक भस्म हृदय की मांसपेशियों को शक्ति प्रदान करता है, ह्रदय का आकार सामान्य रखता है, ह्रदय के सभी भागों में रक्त की आपूर्ति में सुधार करता है और यह हृद्‍शूल में भी लाभदायक होता है।

इसके अतिरिक्त, अभ्रक भस्म पुष्करमूल, अर्जुन (Arjuna) और गुगल (Guggulu) के साथ मिलकर रक्त के थक्कों को घुलित करता है, रक्त वाहिकाओं की सूजन को कम करता है, और धमनीकलाकाठिन्य को रोकता है।

अंतर – गर्भाशय वृद्धि अवरोध

(गर्भावस्था के दौरान बच्चे का धीमा विकास)

अंतर्गर्भाशयी विकास प्रतिबंध एक ऐसी स्थिति है जिसमें सामान्य गर्भधारण की तुलना में बच्चे की वृद्धि धीमी हो जाती है। इस स्थिति में नीचे बताई गयी विधि के अनुसार आयुर्वेदिक चिकित्सक  अभ्रक भस्म का प्रयोग सितोपलादि चूर्ण और प्रवाल पिष्टी के साथ करने की सलाह देते हैं:

अभ्रक भस्म 120 मिलीग्राम
सितोपलादि चूर्ण 1 ग्राम
प्रवाल पिष्टी – Praval Pishti 250 मिलीग्राम

इस मिश्रण को दूध या शहद के साथ प्रयोग करने की सलाह दी जाती है। यह मिश्रण स्वास्थ्य को सुधारता है और विकसित होते भ्रूण का वजन बढ़ाने में मदद करता है। आप अंतर – गर्भाशय वृद्धि अवरोध में दूध के साथ नद्यपान चूर्ण भी ले सकते हैं।

यक्ष्मा (T.B.)

अभ्रक भस्म तपेदिक में स्वर्ण भस्म और च्यवनप्राश के साथ बहुत उपयोगी है।

अभ्रक भस्म 120 मिलीग्राम
स्वर्ण भस्म –  swarna bhasma 1 से 15 मिलीग्राम
च्यवनप्राश – chyawanprash 10 ग्राम

इस मिश्रण में अभ्रक भस्म होता है जिससे तपेदिक से लड़ने में मदद मिलती है। यह प्रतिरोधी तपेदिक के मामलों में भी प्रभावी है।

पुरानी खांसी

आयुर्वेदिक चिकित्सक लगातार आने वाली खांसी को कम करने की प्रभावशीलता के कारण पुरानी खांसी में अभ्रक भस्म का उपयोग करने का सुझाव देते हैं।

पुरानी खांसी का सूत्र

अभ्रक भस्म 125 मिलीग्राम
पिप्पली 125 मिलीग्राम
शहद 1 चम्मच

ऑस्टियोपोरोसिस

ऑस्टियोपोरोसिस के लिए हड़जोड़ चूर्ण के साथ अभ्रक भस्म एक पसंदीदा औषधि है। निम्न संयोजन ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने और उसका उपचार करने में प्रभावी है।

अभ्रक भस्म 120 मिलीग्राम
हड़जोड़ चूर्ण – Hadjod (Cissus quadrangularis) 2 ग्राम
यशद भस्म – Yashad bhasma 125 मिलीग्राम
लक्षादि गुग्गुलु – Laxadi Guggulu 500 मिलीग्राम

नपुंसकता

हालांकि, अभ्रक भस्म एक प्रबल कामोद्दीपक नहीं है, लेकिन इसमें हल्का कामोद्दीपक प्रभाव है क्योंकि यह चयापचय और शक्ति में सुधार करके सभी ऊतकों को ठीक करता है।स्तंभन दोष में इसका प्रभाव स्थिर रहता है और दीर्घकालिक लाभों के लिए यह एक प्रभावी औषधि सिद्ध होता है। हालांकि, आशाजनक परिणामों के लिए आपको कम से कम छह महीने तक इसके नियमित उपयोग की आवश्यकता हो सकती है।

नपुंसकता में उपयोगी आयुर्वेदिक सूत्र

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
लौंग चूर्ण 500 मिलीग्राम
अश्वगंधा चूर्ण – Ashwagandha 1 ग्राम
जायफल चूर्ण 500 मिलीग्राम
अकरकरा – Akarkara 250 मिलीग्राम

अल्पशुक्राणुता

अभ्रक भस्म उन आयुर्वेदिक औषधियों में से एक है, जिनका उपयोग अन्य औषधियों के साथ सह-औषध के रूप में अल्पशुक्राणुता के उपचार के लिए किया जाता है। यह स्थिर प्रभाव देता है और गतिशीलता और गुणवत्ता में सुधार करता है। अभ्रक भस्म के निम्नलिखित संयोजन प्रभावी हैं:

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
रजत भस्म – Rajat Bhasma 125 मिलीग्राम
स्वर्ण भस्म – Swarna bhasma 10 मिलीग्राम
नद्यपान चूर्ण 1 ग्राम
अश्वगंधा चूर्ण 1 ग्राम

या

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
लौंग चूर्ण 1 ग्राम
शहद 1 चम्मच

आलस और थकान

कुछ लोग सुबह उठने के बाद भी थकावट का अनुभव करते हैं। इस स्थिति में, अभ्रक भस्म अच्छा काम करता है, यह स्वास्थ्य में सुधार करता है और थकान को कम करता है।

थकान और सामान्य शारीरिक कमजोरी के लिए संयोजन

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
अश्वगंधा चूर्ण 1 ग्राम
रस सिंदूर 25 मिलीग्राम
शिलाजीत – Shilajit 250 मिलीग्राम

मानसिक कमजोरी और अवसाद

अभ्रक भस्म मानसिक कमजोरी और अवसादग्रस्तता विकारों के लिए एक महान आयुर्वेदिक उपाय है। यह मानसिक तनाव, चिंता, अवसाद, और उदासी को कम कर देता है। यह मस्तिष्क को लाभकारी पोषक तत्व प्रदान करता है और तंत्रिकाओं और मस्तिष्क के ऊतकों को मजबूत करता है। कुछ लोगों को लगातार चक्कर आने, अधिक पसीना आने, तेज धड़कन, असहज महसूस करने, और मानसिक चिड़चिड़ेपन से पीड़ित होते हैं। इन सभी परिस्थितियों में, आयुर्वेद में अभ्रक भस्म एक पसंदीदा औषधि है। इन विकारों में अभ्रक भस्म का निम्नलिखित संयोजन प्रभावी है।

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
लौह भस्म – Loha Bhasma 60 मिलीग्राम
रजत भस्म – Chandi Bhasma 60 मिलीग्राम
जटामांसी चूर्ण – Jatamansi 1 ग्राम

स्मरणशक्ति क्षति, अल्जाइमर रोग या मनोभ्रंश

अभ्रक भस्म स्मरणशक्ति की क्षति, तंत्रिकाओं और तंत्रिकाकोशिका की हानि को रोकता है। यह स्मृति को बढ़ाता है, इसलिए यह स्मृति हानि, मनोभ्रंश, और अल्जाइमर रोग में लाभदायक है।

स्मरणशक्ति क्षति, अल्जाइमर रोग या मनोभ्रंश के लिए सूत्र

अभ्रक भस्म 250 मिलीग्राम
ब्राह्मी 500 मिलीग्राम
शंखपुष्पी – Shankhpushpi (convolvulus pluricaulis) 500 मिलीग्राम
मुलेठी 500 मिलीग्राम
गिलोय – Giloy (tinospora cordifolia) 500 मिलीग्राम

मानसिक मंदता और धीमा शारीरिक-मानसिक विकास

कुछ बच्चों में, शारीरिक और मानसिक विकास में धीमी प्रगति देखी जाती है। इन मामलों में, अभ्रक भस्म बहुत लाभदायक है। इन बच्चों में निम्नलिखित आयुर्वेदिक औषधियां प्रभावी होती हैं।

अभ्रक भस्म 50 मिलीग्राम
सितोपलादि चूर्ण 500 मिलीग्राम
प्रवाल पिष्टी 125 मिलीग्राम
गिलोय सत्व 250 मिलीग्राम
अश्वगंधा चूर्ण 500 मिलीग्राम

इस संयोजन को दूध के साथ दिया जाना चाहिए। यदि आपके बच्चे को भूख कम लगती हो तो आप इस मिश्रण में पिप्पली चूर्ण (50 मिलीग्राम) मिला सकते हैं।

मिर्गी

अभ्रक भस्म मिर्गी के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सा है। यह मिर्गी के दौरों को कम कर देता है। मिर्गी में कम से कम 2 से 4 साल के लिए अभ्रक भस्म के नियमित उपयोग की सलाह दी जाती है।

रोग प्रतिरोधक शक्ति

अभ्रक भस्म प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाता है और विभिन्न ऊपरी श्वसन संक्रमणों से बचाता है।

पक्षाघात

हालांकि, अभ्रक भस्म सीधे पक्षाघात में प्रभावी नहीं है, लेकिन ये आयुर्वेद के अन्य लकवा विरोधी औषधियों को सहायता प्रदान करता है।

जीर्ण पक्षाघात का सूत्र

अभ्रक भस्म 50 मिलीग्राम
रजत भस्म 50 मिलीग्राम
योगेंद्र रस 150 मिलीग्राम
अश्वगंधा चूर्ण 2 ग्राम
ताप्यादि लोह 500 मिलीग्राम

अम्लता, जठरशोथ, जीईआरडी और व्रण

अभ्रक भस्म पेट में अम्ल के उत्पादन को नियमित करता है और जठरांत्र पथ की श्लेष्म झिल्ली को सौम्य करता है। यह व्रण को भरता है और हेलिकोबैक्टर पाइलोरी बैक्टीरिया को मारता है। यह अम्ल प्रतिवाह, सीने में जलन, पेट में जलन आदि जैसे लक्षणों को कम करता है।

रक्ताल्पता

अभ्रक भस्म का उपयोग उसके हेमेटोजेनिक गुणों के कारण रक्ताल्पता के उपचार में किया जाता है। नए शोध अध्ययनों से पता चला है की चिंता और तनाव भी रक्ताल्पता से जुड़े होते हैं। इस मामले में अभ्रक भस्म बहुत लाभदायक है।

जीर्ण खुनी बवासीर

अभ्रक भस्म बवासीर के कारण होने वाले रक्तस्राव को कम करने और रोकने में मदद करता है, लेकिन यह बवासीर के आकार को कम नहीं करता है।

भगन्दर

हालांकि, भगन्दर के उपचार में शल्य चिकित्सा की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन त्रिफला गुग्गुलु ( Triphala guggulu) के साथ अभ्रक भस्म घाव जल्दी भरने में मदद करती है और संक्रमण का प्रबंधन करती है।

दमा

अभ्रक भस्म दमा में लाभ प्रदान करती है। यह श्वसन प्रणाली और फेफड़ों को मजबूत करता है, इसलिए यह दमा रोगियों के समग्र स्वास्थ्य में सुधार करता है। निम्नलिखित अभ्रक भस्म संयोजन का प्रयोग दमा में किया जाता है।

अभ्रक भस्म 125 मिलीग्राम
पिप्पली 125 मिलीग्राम
पुष्करमूल 250 मिलीग्राम
नद्यपान चूर्ण 500 मिलीग्राम
शहद 5 मिलीलीटर

रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम

शुद्ध गुग्गुलु (suddha guggulu) के साथ अभ्रक भस्म रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम में लाभ प्रदान करती है। यह संयोजन पैरों में अप्रिय सनसनी को कम करता है। यह दर्द विकारों और पैरों में चुभने वाली सनसनी में भी प्रभावी है।

खुराक

अभ्रक भस्म की खुराक वयस्कों में 750 मिलीग्राम प्रतिदिन और 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में 250 मिलीग्राम प्रति दिन से अधिक नहीं होनी चाहिए।

0 से 1 वर्ष तक की आयु के बच्चों में: 15 मिलीग्राम से 30 मिलीग्राम दिन में दो बार

1 से 10 वर्ष तक की आयु के बच्चों में: 30 मिलीग्राम से 125 मिलीग्राम दिन में दो बार

वयस्कों की खुराक: 125 मिलीग्राम से 250 मिलीग्राम तक दिन में दो या तीन बार

दुष्प्रभाव

इस लेख में बताई गयी स्वास्थ्य स्थितियों में अभ्रक भस्म का उपयोग सुरक्षित है। हालांकि, अभ्रक भस्म की उचित खुराक घबराहट और अतालता का उपचार करती है, लेकिन इस औषधि की अधिक खुराक हृदय की धड़कन में वृद्धि कर सकती है। अभ्रक भस्म का दुष्प्रभाव बहुत कम लोगों में प्रकट होता है और यह दैनिक उपभोग में अधिक मात्रा में उपयोग करने के कारण होता है। अभ्रक भस्म के दुष्प्रभाव से बचने के लिए, इस औषधि का उपयोग चिकित्सक की देखरेख में  करें। इस औषधि की खुराक का समायोजन व्यक्तिगत आवश्यकता के अनुसार करें।

अगर आपको लगता है की अभ्रक भस्म के उपयोग के कारण आपके दिल की धड़कन में वृद्धि हुई है, तो आपको कम से कम 2 सप्ताह के लिए अभ्रक भस्म का उपयोग रोक देना चाहिए। उसके बाद, अगर अभ्रक भस्म किसी भी रोग के प्रबंधन के लिए आवश्यक है तो आप इसे किसी चिकित्सक की देखरेख में इसे ले सकते हैं।

अभ्रक भस्म वाली औषधियां

निम्नलिखित आयुर्वेदिक औषधियों में अभ्रक भस्म एक प्रमुख घटक के रूप में है:

  1. महायोगराज गुग्गुलु – Mahayograj Guggul
  2. स्वर्ण भूपति रस
  3. पंचामृत पर्पटी
  4. प्राणदा पर्पटी
  5. अभ्रक पर्पटी
  6. त्रैलोक्य चिंतामणि रस

निर्माता

निम्नलिखित कंपनियां अभ्रक भस्म बनाती हैं:

  1. डाबर
  2. दिव्य फार्मेसी
  3. बैद्यनाथ
  4. धूतपापेश्वर
  5. झंडु

संदर्भ

  1. Abhrak Bhasma – AYURTIMES.COM

संबंधित पोस्ट