अकीक भस्म एवं अकीक पिष्टी

अकीक भस्म (पिष्टी) एक खनिज आधारित आयुर्वेदिक औषधि है, जिसका उपयोग सामान्य दुर्बलता, हृदय की कमजोरी, शरीर में अत्यधिक गर्मी, मानसिक रोगों, नेत्र रोगों और महिलाओं में गर्भाशय से होने वाले अत्यधिक रक्तस्राव के उपचार में किया जाता है। अकीक बनाने के लिए मुख्य रूप से गोमेद रत्न को जड़ी बूटियों के रस में पीसकर, फिर तपाकर उसकी भस्म बनायी जाती है। यह मुख्य रूप से हृदय, मस्तिष्क, यकृत और तिल्ली पर काम करता है, इसलिए यह इन अंगों के विकारों में लाभदायक है।

घटक

सामान्य नाम वैज्ञानिक नाम
अकीक पत्थर (गोमेद) सिलिकॉन डाइऑक्साइड (SiO2) (क्रिप्टोक्रीस्टीलिन सिलिका)
एलो वेरा रस एलो वेरा (बनाने के लिए)
गुलाब जल गुलाब की किस्में (बनाने के लिए)
गाय का दूध

रासायनिक संरचना

अकीक भस्म में सिलिकॉन डाइऑक्साइड होता है और एलो वेरा और गुलाब जल के साथ प्रसंस्करण के समय हर्बल अर्क उत्पन्न होता है।

रासायनिक फार्मूला: SiO2

औषधीय गुण

अकीक भस्म और अकीक पिष्टी में निम्नलिखित उपचार के गुण है:

  1. अम्लत्वनाशक
  2. ह्रदय और मस्तिष्क की शक्तिदायक औषध
  3. अकीम भस्म हड्डी के गठन में लाभ दिया है
  4. हृदय के लिए सुरक्षात्मक
  5. अवसादरोधी
  6. चिंता निवारक
  7. उच्चरक्तदाबरोधी

चिकित्सा सम्बन्धी संकेत

अकीक भस्म और अकीक पिष्टी स्वास्थ्य की निम्न स्थितियों में सहायक होते हैं:

  1. सामान्य दुर्बलता
  2. ह्रदय की कमजोरी
  3. शरीर में अत्यधिक गर्मी महसूस करना
  4. मानसिक थकान
  5. बेचैनी
  6. आंखों में जलन
  7. नेत्रश्लेष्मलाशोथ
  8. महिलाओं में गर्भाशय से अधिक खून बहना
  9. उत्तेजना, चिड़चिड़ेपन और क्रोध के साथ अवसाद
  10. भावनात्मक आघात जिसमें रोगी हिंसा करता है
  11. जठरशोथ
  12. भाटापा रोग
  13. सीने में जलन
  14. व्रण
  15. ग्रहणी व्रण
  16. व्रणयुक्त बृहदांत्रशोथ
  17. ऑस्टियोपोरोसिस
  18. अल्जाइमर रोग
  19. बालों का झड़ना

चिकित्सा उपयोग और स्वास्थ्य लाभ

मुख्य रूप से अकीक भस्म का प्रभाव हृदय, मस्तिष्क, यकृत और तिल्ली पर होता है, इसलिए इसका उपयोग इन अंगों के रोगों में किया जाता है। इसके अतिरिक्त, यह रक्तस्राव विकारों में भी लाभकारी प्रभाव डालता है जैसे की महिलाओं में गर्भाशय से अधिक खून बहना और नकसीर फूटना।

उच्च रक्त चाप

हालांकि, रक्तचाप को कम करने के लिए अकीक का प्रभाव कम पड़ता है, इसलिए इसे अकेले उपयोग करने से लाभ नहीं मिलता है। अकीक पिष्टी को उसके उच्च रक्तचाप के लक्षणों जैसे सोने में परेशानी, घबराहट, बेचैनी, चेहरे की निस्तब्धता और अधिक पसीना आना आदि को कम करने के उसके प्रभाव के कारण उच्चरक्तचापरोधी हर्बल योगों में मिला दिया जाता है।

बेचैनी के साथ हृदक्षिपता

अकीक भस्म हृदक्षिपता में लाभ प्रदान करती है। यह इससे संबंधित लक्षणों जैसे बेचैनी, चक्कर आना और भ्रम को कम करता है। यह हृदय गति को भी सामान्य बनाता है, लेकिन इस उद्देश्य के लिए, इसका उपयोग अभ्रक भस्म (Abhrak Bhasma) के साथ किया जाता है।

ह्रदय की शक्तिवर्धक औषध

अकीक भस्म का उपयोग ह्रदय की शक्तिवर्धक औषध के रूप में भी किया जाता है। आयुर्वेदिक चिकित्सकों का मानना ​​है कि यह हृदय की मांसपेशियों को मजबूत करता है और हृदय रोगों के लक्षणों को कम करता है।

ह्रदय की कमजोरी के लिए, आयुर्वेद में निम्नलिखित संयोजन का उपयोग किया जाता है।

सामग्री एकल खुराक
अकीक भस्म 250 मिलीग्राम
जहरमोहरा पिष्टी 250 मिलीग्राम
मुक्ता पिष्टी – Mukta Pisthi 125 मिलीग्राम
अभ्रक भस्म – Abhrak Bhasma 125 मिलीग्राम
अर्जुन की छाल का चूर्ण – Arjuna 3 ग्राम

इस मिश्रण का उपयोग दूध या गर्म पानी के साथ दिन में दो बार किया जाता है। यह हृदय की मांसपेशियों को ताकत प्रदान करता है और हृदय कार्यों में सुधार करता है। यह हृद्पात के रोगियों को भी मदद करता है।

विषादपूर्ण अवसाद

अकीक भस्म तंत्रिकाकोशिका पर काम करता है और ऐसा माना जाता है की यह उनके प्राकृतिक कार्यों को सही और पुनर्स्थापित करता है। यह खुश ना होना, उदासी, भूख ना लगना, वजन कम होना, व्याकुलता और ग्लानि की भावना जैसे लक्षणों वाले लोगों के लिए बहुत लाभदायक है। यह विषादपूर्ण अवसाद के लिए एक बहुत ही लाभदायक औषधि है। बेहतर परिणाम के लिए, इसका प्रयोग आम तौर पर मुक्ता-पिष्टी के साथ किया जाता है।

अत्यधिक गर्भाशय रक्तस्राव

अकीक भस्म रक्तस्राव को रोकता है, इसलिए यह अत्यधिक गर्भाशय रक्तस्राव में लाभदायक है। इस उद्देश्य के लिए, निम्नलिखित आयुर्वेदिक संयोजन मदद करता है।

सामग्री एकल खुराक
अकीक भस्म 250 मिलीग्राम
त्रिकांतमणि पिष्टी 250 मिलीग्राम
अभ्रक भस्म 125 मिलीग्राम
गिलोय सत्व – Giloy Satva 500 मिलीग्राम
गोदन्ती भस्म – Godanti Bhasma 250 मिलीग्राम

सामान्यतः इस नियमन का उपयोग दिन में दो बार दूध के साथ किया जाता है।

खुराक

अकीक भस्म की खुराक एक दिन में दो बार 125 मिलीग्राम से 250 मिलीग्राम तक है। इसकी मात्रा प्रति दिन 1000 मिलीग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए।

अकीक भस्म के लिए सतर्कता और दुष्प्रभाव 

अकीक भस्म में अधिक मात्रा में सिलिकॉन डाइऑक्साइड होता है, जो मौखिक उपयोग करने पर सुरक्षित है। यह स्वाभाविक रूप से पृथ्वी की परत पर पाया जाता है। यह सिलिकेट के रूप में पानी और पौधों में भी मौजूद है। प्राकृतिक मानव आहार में भी सिलिकेट होता है। आधुनिक विज्ञान के अनुसार, सिलिकॉन डाइऑक्साइड जैविक रूप से एक अक्रिय और निष्क्रिय पदार्थ है, इसलिए एफडीए ने सिलिकॉन डाइऑक्साइड को सुरक्षित पदार्थ के रूप में मान्यता दी है। इसलिए, अकीक भस्म सुरक्षित है।

हालांकि, अकीक गर्द को सांस से खींचने पर सिलिकोसिस हो सकता है। सिलिकोसिस तभी होता है जब कोई व्यक्ति अकीक, सिलिका, बिल्लौर या स्लेट के कणों को अंदर ले जाता है।

अकीक भस्म या सिलिकॉन के दीर्घकालिक उपयोग के कारण गुर्दे की पथरी हो सकती है, लेकिन यह शायद ही कभी होता है।

गर्भधारण और स्तनपान

गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान, आयुर्वेदिक चिकित्सक की देखरेख में और केवल बताई गयी खुराक लेने पर अकीक भस्म सुरक्षित मानी जाती है। हालांकि, अधिक खुराक लेने पर इसके प्रभाव अभी तक अज्ञात हैं। इसके लिए कोई शोध डेटा उपलब्ध नहीं है। सावधानी के लिए आप गर्भावस्था और स्तनपान कराते समय अधिक मात्रा में अकीक भस्म का उपयोग करने से बचें।

विपरीत संकेत (Contraindications)

तपेदिक, अस्थमा, घरघराहट और कफ वाली खाँसी से पीड़ित रोगियों को अकीक भस्म का उपयोग नहीं करना चाहिए।

औषधियों का पारस्परिक प्रभाव

अकीक भस्म में  सिलिकॉन डाइऑक्साइड होता है, जो एक निष्क्रिय पदार्थ है, इसलिए इस बात की कम संभावना है कि यह अन्य औषधियों पर प्रभाव डाल सकता है। हालांकि, इस कथन के समर्थन के लिए कोई साक्ष्य नहीं है।

संदर्भ

  1. Akik Bhasma – AYURTIMES.COM
आपको यह भी पसंद आ सकता हैं