जड़ी बूटी, आयुर्वेद, स्वास्थ्य, घरेलू नुस्खे, रोगों के बारे में हिंदी में जानें
Browsing Category

आसव अरिष्ट

अभयारिष्ट (Abhayarishta)

अभयारिष्ट (Abhayarishta) आयुर्वेद में एक महत्वपूर्ण दवा है जो ज्यादातर कब्ज और बवासीर के इलाज के लिए प्रयोग की जाती है।  यह जठराग्नि को प्रदीप्ति करता है और साथ ही भूख भी बढ़ाता है। इसका प्रयोग उदर रोग में भी किया जाता है। यह कब्ज और सख्त मल के कारण होने वाली परिकर्तिका रोग (anorectal fissure) में भी लाभकर है। बवासीर और परिकर्तिका  का मुख्य कारण…
Read More...

लोध्रासव (Lodhrasava or Lodhrasavam)

लोध्रासव (Lodhrasava or Lodhrasavam) का प्रयोग विशेषतः स्तंभनार्थ किया जाता है। यह रक्त का स्तंभन करता है इस लिए यह स्त्रियों में रक्तप्रदर, गर्भाशय से होने वाला असामान्य रक्तस्राव और माहवारी समय होने वाला भारी रक्तस्राव आदि में किया जाता है। इसका स्तंभन कार्य होने से यह श्वेतप्रदरह (leucorrhea) में भी लाभ करता है। लोध्रासव कफ पित्त शामक है और…
Read More...

अश्वगंधारिष्ट (Ashwagandharishta or Aswagandharishtam)

अश्वगंधारिष्ट मुख्यतः बृहण और बल्य औषधि है जो शरीर और मन को ताकत देती है और शरीर के घटको को मजबूत बनाती है। यह शरीर में स्फूर्ति लाता है और वीर्य की शुद्धि और वृद्धि करता है। यह रक्त वाहिनियाँ (blood vessels), वातवाहिनियों (nerves) और सभी धातुओं को सबल बनाता है और हृदय, मस्तिष्क, फेफड़े, और मांसपेशियों को बल प्रदान करता है। इस के इलावा यह दीपन…
Read More...

अर्जुनारिष्ट (Arjunarishta)

अर्जुनारिष्ट (Arjunarishta) ह्रदय से सम्बंधित विकारों के लिए अत्यंत लाभदायक औषधि है। हालांकि यह बिना किसे दोष के विचार किये सभी ह्रदय रोगोयों को दिया जा सकता है। पर यह यह अरिष्ट पित्तप्रधान लक्षणों में अति उत्तम काम करता है। यह रक्त वाहिनियाँ की शिथिलता को दूर करता है और उन मजबूत बनाकर उनकी कमजोरी दूर करता है। यह दिल की पेशियों को ताकत देता है और…
Read More...

दशमूलारिष्ट (Dasamoolarishtam)

दशमूलारिष्ट (Dasamoolarishtam या Dashmularishta) एक अति लाभप्रद औषधि है। इसके सेवन से विभिन्न प्रकार के रोगों में लाभ मिलता है। मुख्य रूप से वात संबंधी विकारों, उदर रोग और मूत्र रोगों में लाभ देती है। यह औषधि बन्ध्या महिला को संतान प्राप्ति में सहायक है, गर्भाशय की शुद्धि करती है और निर्बलों को बल, तेज और वीर्य प्रदान करती है। इसके अतिरिक्त बहुत से…
Read More...

झंडू पंचारिष्ट (Zandu Pancharishta) के लाभ, उपयोग, मात्रा तथा दुष्प्रभाव के बारे में जानें।

झंडू पंचारिष्ट (Zandu Pancharishta) पाचन संबंधी रोगों और पेट की बीमारियों के लिए एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि है। यह पाचन तंत्र के कार्यों में सुधार लाती है और भूख बढ़ाती है। यह पेट की गैस, पेट फूलना, उदर विस्तार और पेट के भारीपन को दूर करती है। इस में मौजूद घटक अम्लपित में भी हितकर है। इसका प्रयोग पुरानी कब्ज और पेट में दर्द में भी किया जाता है।…
Read More...

सारस्वतारिष्ट स्वर्ण युक्त (सारस्वतारिष्टम गोल्ड)

सारस्वतारिष्ट या Saraswatharishtam) एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसका उपयोग प्राचीन काल से कई मानसिक रोगों के उपचार ले लिए किया जाता रहा है। यह स्मरण शक्ति, ध्यान केंद्रित करना, बुध्दिमत्ता, तनाव, आयु, बल, वीर्य, यौन एवम सामान्य दुर्बलता, अवसाद, अनिद्रा, व्यग्रता, हृदय रोग, भूख न लगना, बेचैनी आदि की एक उत्तम आयुर्वेदिक औषधि है। इसे स्वर-भंग और हकलाने में…
Read More...