जड़ी बूटी, आयुर्वेद, स्वास्थ्य, घरेलू नुस्खे, रोगों के बारे में हिंदी में जानें
Browsing Category

चूर्ण

चूर्ण आयुर्वेदिक दवाओं की एक श्रेणी / समूह है, जिसमें एकल जड़ी बूटी या एक विशिष्ट संख्या में जड़ी बूटियों को महीन पाउडर बनाने के लिए पीसा जाता है। चूर्ण में जड़ी बूटियों के अलावा लवण, चीनी और अन्य आयुर्वेदिक अवयव भी हो सकते हैं। हींग (असफेटिडा) जैसी कुछ अन्य सामग्रियों को पीसकर चूर्ण बनाने से पहले भूना जा सकता है।

चूर्ण का निर्माण विधि

चूर्ण का निर्माण सूखी और साफ़ जड़ी-बूटियों से किया जाता हैं। चूर्ण बनाने से पहले जड़ी बूटियों में से धूल-मिट्टी को साफ़ करने के लिए उन्हें अच्छी तरह धोया जाता हैं। जड़ी-बूटियों की सुगन्धित और उड़नशील सामग्री के अनुरूप कुछ को धूप में और कुछ को छाया में सुखाया जाता हैं।

चूर्ण को बनाने के लिए जड़ी-बूटियों की गुणवत्ता की जांच भी की जाती है कि वे चूर्ण निर्माण के लिए अच्छी, स्वस्थ और परिपक्व है कि नहीं। जड़ी-बूटियों की मिलावट के लिए भी जाँच करनी चाहिए।

  1. स्वच्छ और सूखी जड़ी-बूटियों को छोटे टुकड़ों में कुचल देना चाहिए।
  2. प्रत्येक घटक को अलग से पीसें। प्रत्येक जड़ी-बूटी का महीन चूर्ण बनायें।
  3. यदि चूर्ण में विभिन्न जड़ी-बूटियां हैं तो प्रत्येक घटक को तौलकर उन्हें एक साथ मिलायें।

चूर्ण के बारे में महत्वपूर्ण नोट

  1. अगर एक चूर्ण निर्माण विधि में लवण भी है तो इसे सबसे अंत में मिलाया जाना चाहिए।
  2. हिंग (असफेटिडा) को चूर्ण में मिलाने से पहले उसे भूनकर कूटना चाहिए।
  3. शतावरी और गुडुची जैसी कुछ जड़ी-बूटियों को ताजा प्रयोग में लेना चाहिए। इन बूटियों को कुचलकर पेस्ट बना लिया जाता है। जब पेस्ट सूख जाता है तो इनका उपयोग चूर्ण निर्माण में करने से पहले इन्हें इसे फिर से पीसकर महीन पाउडर बना लिया जाता है।
  4. प्रत्येक जड़ी-बूटी को अलग-अलग सुखाना चाहिए जिससे की उनके अंदर की नमी पूरी तरह चली जाये। अगर जड़ी-बूटी में नमी होगी तो चूर्ण खराब हो जाएगा।
  5. चूर्ण को कांच या चीनी मिट्टी के बर्तन में संग्रहित करना चाहिए। कंटेनर हवा-बंद (एयर-टाइट) होना चाहिए।
  6. हवा-बंद (एयर-टाइट) कंटेनरों में संग्रहीत करने पर 1 से 2 वर्ष के लिए चूर्ण की गुणवत्ता बनी रहती है।
  7. हवा-बंद (एयर-टाइट) कंटेनरों में संग्रहीत करने पर चूर्ण की शेल्फ आयु 2 साल है।
  8. जिन चूर्णों में क्षार होता है उनको हवा-बंद (एयर-टाइट) कंटेनरों में संग्रहीत करने पर उनकी शेल्फ आयु 1 साल है।
  9. कंटेनर को खोलने के बाद, 1 से 3 महीनों के भीतर चूर्ण का सेवन कर लेना चाहिए।

आयुर्वेदिक चूर्ण सूची

  1. अस्थिसंहारकादि चूर्ण
  2. अविपाठी चूर्णम
  3. अविपत्तिकर चूर्ण
  4. चूर्ण – आयुर्वेदिक पाउडर
  5. ऐलादी चूर्णम (ऐलादी चूर्ण)
  6. लवण भास्कर चूर्ण
  7. महासुदर्शन चूर्ण
  8. नमकीन जीरा
  9. सितोपलादि चूर्ण
  10. स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण
  11. तालीसादि चूर्ण
  12. त्रिकटु चूर्ण
  13. त्रिफला (त्रिफला पाउडर या चूर्ण)
  14. अग्निमुख चूर्ण
  15. अजमोदादि चूर्ण
  16. अश्वगंधा चूर्ण
  17. अश्वगन्धादि चूर्ण
  18. बकुचियादि चूर्ण
  19. बालचतुरभद्र चूर्ण
  20. भूम्यामलकि चूर्ण (भूमि अमलकी चूर्ण)
  21. भूनिम्बड़ी चूर्ण
  22. बिल्वादि चूर्ण
  23. बिल्वफलादि चूर्ण
  24. चित्रकादि चूर्ण
  25. चोपचिन्यादि चूर्ण
  26. ददिमाष्टक चूर्ण
  27. दन्त मंजन लाल
  28. दँतप्रभा चूर्ण
  29. दशन संस्कार चूर्ण
  30. धातुपौष्टिक चूर्ण
  31. धातुपौष्टिक चूर्ण
  32. द्राक्षादि चूर्ण
  33. गन्धर्व हरीतकी चूर्ण
  34. गंगाधर चूर्ण
  35. गोक्षुरादि चूर्ण
  36. हिंगुवाचादि चूर्ण
  37. हिंग्वाष्टक चूर्ण
  38. जतिफलादि चूर्ण
  39. कमलाक्षादि चूर्ण
  40. कामदेव चूर्ण
  41. कर्कटी बीज चूर्ण
  42. कर्पूरादि चूर्ण
  43. कृमिघ्न चूर्ण
  44. कर्षणादि चूर्ण
  45. कुंकुमादि चूर्ण
  46. लघु सुदर्शन चूर्ण
  47. लाई चूर्ण
  48. लवंगादि चूर्ण
  49. लवंगादि चूर्ण
  50. मदन प्रकाश चूर्ण
  51. मधुयाष्ट्यादि चूर्ण
  52. महाखांडव चूर्ण
  53. मलशोदक चूर्ण
  54. मंजिष्ठादि चूर्ण
  55. मरीचादि चूर्ण
  56. मीठा स्वादिष्ट चूर्ण
  57. नागकेसरादि चूर्ण
  58. नमक सुलेमानी चूर्ण
  59. नरसिम्हा चूर्ण
  60. नारायणा चूर्ण
  61. निम्बड़ी चूर्ण
  62. पंचसमा चूर्ण
  63. पंचकोल चूर्ण
  64. पंचसकार चूर्ण
  65. प्रदर नाशक चूर्ण
  66. प्रवाहिका हर चूर्ण
  67. पुनर्नवा चूर्ण
  68. पुष्यानुग चूर्ण
  69. राजन्यादि चूर्ण
  70. रक्त चंदनादि चूर्ण
  71. रसादि चूर्ण
  72. रास्नादि चूर्णम
  73. सारस्वत चूर्ण
  74. शांति वर्धक चूर्ण
  75. शतावर्यादि चूर्ण
  76. शतपत्रादि चूर्ण
  77. शतपुष्पादि चूर्ण
  78. शिर दर्द नाशक चूर्ण
  79. शिवक्षार पाचन चूर्ण
  80. सुदर्शन चूर्ण
  81. सुख विरेचन चूर्ण
  82. तालीसादि चूर्ण
  83. तीक्ष्ण विरेचन चूर्ण
  84. त्रिफला चूर्ण
  85. वज्रक्षार चूर्ण
  86. विडंगादि चूर्ण
  87. विदरयादि चूर्ण
  88. वीर्य शोधन चूर्ण
  89. वीर्य वर्धक चूर्ण
  90. व्योषादि चूर्ण
  91. यवक्षारादि चूर्ण

संदर्भ

अश्वगंधा चूर्ण

अश्वगंधा चूर्ण एक आयुर्वेदिक औषधि हैं जो अश्वगंधा नाम का प्राकृतिक जड़ी-बूटी से युक्त हैं, अश्वगंधा जिसे यादाश्त बढ़ाने के लिए जाना जाता हैं।अश्वगंधा को अन्य बुद्धि-सम्बन्धी क्षमतायों  जैसे ध्यान बढ़ाना, ज्ञान-संबंधी निपुणता और एकाग्रता में सुधार करने के लिए प्रयोग किया जाता है। यह एक तनाव को दूर करने का काम भी करता हैं। यह सामान्य कमजोरी का इलाज़ करने…
Read More...

त्रिफला चूर्ण लाभ, उपयोग, खुराक और दुष्प्रभाव

त्रिफला अथवा त्रिफला चूर्ण एक आयुर्वेदिक हर्बल औषधि है जिसमें तीन प्रकार के फलों का चूर्ण होता हैं। इसके समान मात्रा में आमला, बहेड़ा और हरड़ होते है। त्रिफले का प्रयोग चूर्ण, गोलियों और सत्त कैप्सूल्स के रूप में किया जाता है। यह कब्ज, वजन घटाने, पेट की चर्बी को कम करने, शरीर शोधन, अपच और पेट की समस्याओं में लाभ देता है। घटक (संरचना) त्रिफला चूर्ण…
Read More...

सितोपलादि चूर्ण

सितोपलादि चूर्ण (Sitopaladi Churna) एक आयुर्वेदिक औषधि है। प्राचीन काल के महान ग्रन्थ चरक चिकित्सा स्थान के राजयक्ष्मा अध्याय में इसका उल्लेख है। कुछ अन्य ग्रन्थ जैसे शारंगधर संहिता, गद निग्रह, योग रत्नाकर, भैषज्य रत्नावली आदि में भी इसका उल्लेख खांसी, कफ और बहुत सी अन्य बिमारियों के उपचार में है। सितोपलादि चूर्ण का सेवन विभिन्न प्रकार के रोगों…
Read More...