Browsing Category

वटी गुटिका

अलग अलग प्रकार की औषधियों एवं जड़ी बूटियों को बारीक पीसकर शहद, चासनी, खांड़ आदि में मिलाकर या पानी, जड़ी बूटी स्वरस, काढ़े आदि में पकाकर जो गोलियां बनायी जाती हैं, उन्हें गुटिका या वटी कहा जाता है।

पुराने समय में यह हाथ से बनाई जाती थी जिससे गोलियां का आकार छोटा बड़ा हो सकता था। अब यह मशीन से बनाई जाती है और मात्रा भी प्रत्येक गोली की उचित होती है।

चंद्रप्रभा वटी

चंद्रप्रभा वटी (Chandraprabha Vati) को चंद्रप्रभा गुलिका और चंद्रप्रभा वाटिका भी कहा जाता है। यह एक अति उत्कृष्ट आयुर्वेदिक औषधि है जिसका प्रभाव गुर्दे, मूत्राशय, मूत्र पथ, अग्न्याशय, हड्डियों, जोड़ों और थायरॉयड ग्रंथि आदि अंगों पर पड़ता है। इसका प्रयोग इन अंगों से संबंधित रोगों के उपचार के लिए प्रयोग किया जाता है। इसकी सिफारिश मधुमेह, पुरुषों की…
Read More...

पतंजलि आरोग्य वटी (Arogya Vati)

पतंजलि आरोग्य वटी या दिव्य आरोग्य वटी (Patanjali Arogya Vati or Divya Arogya Vati) रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) बढ़ाने के लिए एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि है। कई रोगाणु हमारे शरीर पर हमला कर के इस को बीमार करने का काम करते हैं और अगर आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हैं तो आप जल्दी ही बीमार हो सकते हैं। आरोग्य वटी रोगों से बचाने में सहायक हैं। इसके…
Read More...

दिव्य शिलाजीत रसायन वटी (Divya Shilajeet Rasayan Vati)

दिव्य शिलाजीत रसायन वटी (Divya Shilajeet Rasayan Vati) एक आयुर्वेदिक दवा है जो पुरुषों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। यह पुरुषों की शक्ति को बढ़ाती है और शरीर की कोशिकायों को मजबूत बनाती है। यह इरेक्टाइल डिसफंक्शन, नपुंसकता, शीघ्रपतन, स्वप्नदोष आदि के इलाज के लिए लाभकारी है। इसमें प्रमुख द्रव्य शुद्ध शिलाजीत है जो एक रसायन है और बल्य औषधि का कार्य…
Read More...

दिव्य अर्शकल्प वटी (Divya Arshkalp Vati)

दिव्य अर्शकल्प वटी (Divya Arshkalp Vati) बवासीर और भंगदर जैसी बिमारियों के निवारण के लिए के एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि हैं और इस औषधि का मुख्य रूप से प्रयोग इन्हीं बिमारियों के लिए किया जाता हैं। इस रोग में अक्सर आपरेशन की सलाह दी जाती हैं, ऐसे में यदि रोग की शुरुआत से ही इस औषधि का सेवन किये जाये तो यह औषधि आपरेशन के खतरे को दूर करती हैं और इसका…
Read More...

दिव्य मधुकल्प वटी (Divya Madhukalp Vati)

दिव्य मधुकल्प वटी (Divya Madhukalp Vati) मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए के बेहतरीन औषधि हैं। इसका प्रयोग मुख्य रूप से रक्त में शक्कर की मात्रा को नियंत्रित करने लिए किया जाता हैं। मधुकल्प वटी खून में ग्लूकोज़ की मात्रा कम करने में मदद करती हैं। इसके लगातार सेवन से मधुमेह पर अच्छा नियंत्रण आ जाता है। साथ में रोगियों को मधुमेह के कारण होने वाली अन्य…
Read More...

दिव्य मेधा वटी (Divya Medha Vati)

दिव्य मेधा वटी एक आयुर्वेदिक औषधि है जो दिमाग, नसों एवं ज्ञान इंद्रियों पर काम करती है।  यह स्मरणशक्ति व बुद्धि वर्धक दवा है। यह औषधि ऐसी जड़ी-बूटियों का मिश्रण है जो याददाश्त को इसके साथ साथ एकाग्रता को भी बढाती है, इसलिये दिव्य मेधा वटी बड़ों के साथ साथ बच्चो के लिए भी बहुत लाभदायक है। इसके साथ ही दिव्य मेधा वटी पुरानी सिर दर्द, घबराहट और नींद से…
Read More...

दिव्य हृदयामृत वटी (Divya Hridyamrit Vati)

दिव्य हृदयामृत वटी (Divya Hridyamrit Vati) दिल से सम्बंधित रोगो और ह्रदय रोगों के लिए एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि है। इसका सेवन मुख्य रूप से ह्रदय सम्बंधित रोगो का उपचार करने के लिए किया जाता हैं। यह औषधि मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करती हैं और दिल से सम्बंधित रोगो की कठिनाईयों को दूर करती हैं। इसमें मौजूद घटक उच्च रक्तचाप को कम करने में भी सहायक…
Read More...

दिव्य मेदोहर वटी (Divya Medohar Vati in Hindi)

दिव्य मेदोहर वटी (Divya Medohar Vati) आयुर्वेदिक गुणों वाली एक दवाई हैं जिसका प्रयोग वजन को कम करने के लिए किया जाता हैं। यह पेट की चर्बी को कम करने, चयापचय को सही करने और पाचन संबंधी स्वास्थ्य को सुधारने में बहुत असरकारक हैं। वजन कम करने का यह हर्बल उत्पाद हैं। जब ऊर्जा का ग्रहण ऊर्जा की खपत से ज्यादा होता हैं तो उससे भी शरीर का वजन बढ़ सकता हैं और…
Read More...

गिलोय घन वटी घटक द्रव्य, औषधीय कर्म, उपयोग, लाभ, मात्रा तथा दुष्प्रभाव

गिलोय घन वटी (Giloy Ghan Vati) गिलोय के सत्व (extract) से बनाई जाती है। गिलोय चिकित्सकों के बीच एक लोकप्रिय जड़ी बूटी है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार की आयुर्वेदिक औषधियों में भी किया जाता है। संस्कृत में, गिलोय को 'अमृता' कहते हैं, जो इसके औषधीय गुणों के कारण कहा जाता है। गिलोय सदा अमर रहने वाली बेल है और इसके अनगिनत लाभ हैं। नीम के पेड़ पर चढ़ी हुई…
Read More...