स्वस्थवृत्त विज्ञान

आयुर्वेद के अनुसार सर्वश्रेष्ठ नमक

दैनिक उपयोग के लिए सर्वश्रेष्ठ नमक

अष्टांग संगह, आयुर्वेदिक प्राचीन शास्त्रीय पुस्तक, उन खाद्य पदार्थों का सारांश प्रदान करती है जिन्हें आप दैनिक आधार पर उपभोग कर सकते हैं। इस पुस्तक के अनुसार, शाली चावल, गेहूं, जौ, शशिका चावल, जीवन्ती, मूली, हरीतकी, आंवला, मुनक्का और किशमिश, मूंग दाल, शक्कर या आयुर्वेदिक चीनी, गाय का घी, बारिश का पानी, दूध, शहद, अनार और सेंधा नाम दैनिक उपभोग के लिए सर्वोत्तम हैं।

शीलयेच्छालिगोधूमयवषष्टिकजाङ्गलम्। निषण्णक जीवन्ती बालमुलकवास्तुकम् ॥४२ जीव पथ्यामल कमृद्वीकापटोलीमुद्ग शर्कराः। घृत दिव्योदक क्षीर क्षौद्र दाडिम सैंधवम् ।। 43। (अ। स। च।।)

अतः आयुर्वेद के अनुसार सेंधा नमक का उपयोग खाना बनाने में करना चाहिए। सेंधा नमक को अंग्रेजी में रॉक साल्ट कहा जाता है। इसकी कई  श्रेणियां हैं। सफेद और गुलाबी सेंधा नमक सबसे अच्छे गुण वाला होता हैं। हिमालयन पिंक नमक आमतौर पर हर जगह उपलब्ध है और खाना पकाने के लिए अच्छा है।

आइए चर्चा करते हैं कि सेंधा नमक के क्या लाभ हैं। भावप्रकाश निघंटु, जो कि एक आयुर्वेदिक प्रामाणिक पुस्तक है, सेंधा नमक के लाभों और गुणों की एक सूची प्रदान करती है।

सैंधव लवणं स्वादु दीपनं निवृत्ति लघु ।। स्निग्धं चच्यं हिमां वृष्यं सूक्ष्मं नेत्र्यं त्रिदोषहत् ।। (भावप्रकाश निघंटु)

भावप्रकाश निघंटु के अनुसार सेंधा नमक में क्षुधावर्धक गुण है और यह पाचन क्रिया के लिए अच्छा होता है। यह पचाने में हल्का होता है। यह भोजन में रुचि भी बढ़ाता है। इसलिए जिन लोगों को खाने की इच्छा नहीं होती है , उन लोगों के लिए यह बहुत ही अच्छा है।

यह प्रकृति में ठंडा होता है और पुरुषों के लिए भी गुणकारी है। यह शरीर में सूक्ष्म रूप से फैलता है और यह एकमात्र नमक है, जो आंखों के लिए फायदेमंद होता है। यह तीन दोषों को संतुलित करता है, इसलिए यह उन सभी बीमारियों को रोकने में मदद करता है जो कि दोषों वृद्धि के कारण विकसित होती हैं।

दीपनं Appetizer
पाचनं Digestive
लघु Light to digest
स्निग्धं Oily and Emollient (softening or soothing effect)
रुच्यं Increases interest in food.
हिमं Cooling in nature
वृष्यं Aphrodisiac (beneficial for males)
सूक्ष्मं Spreads minutely.
नेत्र्यं Beneficial for eyes
त्रिदोषहत् Balances three doshas (Tridosha)

क्योंकि यह त्रिदोष को संतुलित करता है, इसलिए यह दैनिक आधार पर खाने में सबसे अच्छा है। यह अन्य खाद्य पदार्थों के गुणों में परिवर्तन नहीं करता है। इसलिए यह ज्यादतर खाद्य पदार्थों के साथ खाया जा सकता है।

अन्य सभी प्रकार के लवण प्रकृति में थोड़े से गर्म होते हैं। सेंधा नमक एकमात्र नमक है जिसका शीतलन प्रभाव होता है। आयुर्वेद मानता है कि अन्य सभी लवण आंखों के लिए खराब हैं। सेंधा नमक एकमात्र नमक है जो आंखों की रोशनी में सुधार करता है और सुरक्षा करता है।

हालाँकि, सेंधा नमक के रासायनिक घटक अन्य प्रकार के नमक से थोड़ा भिन्न होते हैं, लेकिन थोड़ी भिन्नता इसकी संपूर्ण विशेषताओं को बदल देती है।

आयुर्वेद सभी प्रकार के उपलब्ध लवणों के बजाय दैनिक खाना पकाने में सेंधा नमक के उपयोग की सिफारिश करता है।

Subscribe to Ayur Times

Get notification for new articles in your inbox

Dr. Jagdev Singh

डॉ जगदेव सिंह (B.A.M.S., M.Sc. Medicinal Plants) आयुर्वेदिक प्रैक्टिशनर है। वह आयुर्वेद क्लिनिक ने नाम से अपना आयुर्वेदिक चिकित्सालय चला रहे हैं।उन्होंने जड़ी बूटी, आयुर्वेदिक चिकित्सा और आयुर्वेदिक आहार के साथ हजारों मरीजों का सफलतापूर्वक इलाज किया है।आयुर टाइम्स उनकी एक पहल है जो भारतीय चिकित्सा पद्धति पर उच्चतम स्तर की और वैज्ञानिक आधार पर जानकारी प्रदान करने का प्रयास कर रही है।
Back to top button