घरेलू नुस्खे

भगन्दर (Bhagandar – fistula-in-ano) का देसी इलाज (घरेलू उपचार और नुस्खे)

भगन्दर (Fistula-in-Ano) एक जटिल रोग है जिसमे मरीज़ को काफी पीड़ा सहन करनी पड़ती है। इस में सबसे जरूरी है, इसकी पहचान और चिलित्सा सही समय पर हो जाये। इस लेख में हम जानेगे कि भगन्दर से पीड़ित रोगी को क्या खाना चाहीहे और कौन से घरेलू उपचार वा नुस्खे भगन्दर रोगी के लिए हितकारी है।

भगन्दर रोग के बारे में अधिक पढ़ें
  1. भगन्दर रोग और इस के लक्षण, कारण, जाँच और निदान

भगन्दर का घरेलू उपचार वा नुस्खे

निम्नलिखित घरेलू उपचार वा नुस्खे भगन्दर रोगी के लिए हितकारी है।

हरी शाकाहारी सब्ज़ियों

ये अक्सर देखा गया है हम अपने खाने पीने में हरी सब्जियों का सेवन कम कर दिया है। हरी सब्जियां जैसे पालक, मूली, परवल, करेला, बथुआ, सरसों का साग, हरी सब्जियों का सलाद, गेहूं के आटे की रोटी चोकर के साथ का अवश्य खाना चाहिए। ये कब्ज़ की शिकायत नहीं होने देती।

फलों का ख़ूब उपयोग करे

रोगी को फलों का सेवन ज़रूर करना चाहिये, इसमें कई तरह के पौष्टिक तत्व पाए जाते है, जो इस रोग में बहुत मदद कर सकते हैं। फल जैसे पपीता, केला, सेब, नाशपाती, तरबूज़, अमरुद और मौसमी फल बहुत आवश्यक हैं। इनका नियमित रूप से सेवन करना चाहिए।

ज़्यादा पानी पियें

इस रोग में रोगी को नियमित रूप से पानी का सेवन करना चाहिए। पानी की कमी से शरीर के अंदर से गंदगी नहीं निकल पाती। पानी में जैसे जूस, नारियल पानी, छाछ, निम्बू पानी, लस्सी आवश्यक रूप से लेना चाहिए।

मल मूत्र को न रोके

अपने मल मूत्र का सही समय पर त्याग करें। ज्यादा समय तक मल मूत्ररोक कर रखने से मल सख्त और सुखा हो जाता हे, जिससे भगन्दर रोगी को पीड़ा का अनुभव होता है। इसको ज्यादा देर तक को रोक कर न रखे।

व्यायाम और सुबह की सैर रोज़ करें

व्यायाम नियमित रूप से करना चाहिए। २० से ३० मिनट तक घूमना चाहिए या सुबह की सैर करनी चाहिए। इससे कब्ज़, उच्च रक्तचाप और मोटापा कम करने में मदद मिलती है।

गर्म पानी से सिकाई

नहाने के समय गरम पानी से मल की जगह की सिकाई १५ मिनट तक अवश्य करें। इससे रोगी को काफी राहत मिलती है। दिन में कम से कम २ से ३ बार अवश्य करें। अपने मल मूत्र और उसके आस पास की जगह को हमेशा साफ रखे।

बर्फ़ से सिकाई

बर्फ़ की सिकाई करने से रोगी को पीड़ा में राहत मिलती है। इसे दिन में कई बार किया जा सकता है। इससे मल त्याग करने में दर्द का कम अनुभव होता है। सूजन को कम करता है।

भगन्दर में इन बातों का ध्यान रखें

  1. तेल में तली भुनी चीजों का इस्तेमाल कम करें।
  2. शराब से बचें।
  3. पानी के कम से कम ८ – ९ गिलास अवश्य पियें।
  4. काफ़ी और चाय का कम सेवन करें ।
  5. एक जगह पर ज्यादा देर तक न बैठे।
  6. दर्द निरोधक दवाओं का सेवन कम करें, इससे कब्ज़ की सम्भावना बढ़ती है।
  7. सूती कपड़े का इस्तेमाल ज्यादा करें।
  8. बैठने के लिए तकिये का इस्तेमाल करें , सख्त सतह पर न बेठे।
  9. अपने रहन सहन की आदतों में परिवर्तन करें। समय पर उठना और समय पर अवश्य खाना खायें।
  10. मल की जगह को साफ रखे।
भगन्दर के बारे में अधिक पढ़ें
  1. भगन्दर रोग और इस के लक्षण, कारण, जाँच और निदान

Subscribe to Ayur Times

Get notification for new articles in your inbox

Dr. Jagdev Singh

डॉ जगदेव सिंह (B.A.M.S., M.Sc. Medicinal Plants) आयुर्वेदिक प्रैक्टिशनर है। वह आयुर्वेद क्लिनिक ने नाम से अपना आयुर्वेदिक चिकित्सालय चला रहे हैं।उन्होंने जड़ी बूटी, आयुर्वेदिक चिकित्सा और आयुर्वेदिक आहार के साथ हजारों मरीजों का सफलतापूर्वक इलाज किया है।आयुर टाइम्स उनकी एक पहल है जो भारतीय चिकित्सा पद्धति पर उच्चतम स्तर की और वैज्ञानिक आधार पर जानकारी प्रदान करने का प्रयास कर रही है।
Back to top button