भृंगराजासव पेट और यकृत पर क्रिया करके भूख बढ़ाता है। यह यकृत कार्यों में सुधार करता है और चयापचय दर को बढ़ाता है। यह शरीर को पोषण और ताकत प्रदान करता है। यह दुर्बलता, भूख की कमी और खाँसी के मामलों (आयुर्वेद के अनुसार पांच प्रकार की खाँसी) में उपयोगी है। यह आम सर्दी और लगातार आने वाली खांसी को रोकता है। यह कामेच्छा में सुधार करता है और आंतरिक बल और समग्र ताकत को बढ़ाता है। यह त्वचा की चमक में भी सुधार करता है। इसका नियमित और दीर्घकालिक उपयोग समय पूर्व बालों के सफ़ेद होने में मदद कर सकता है। यह बालों के काले रंग को बरकरार रखने में मदद कर सकता है।

घटक द्रव्य (संरचना)

घटक मात्रा
भृंगराज (Bhringraj)2460 भाग
गुड़ (Jaggery)1000 भाग
हरीतकी या हरड़40 भाग
पिप्पली10 भाग
जायफल10 भाग
लौंग10 भाग
दालचीनी10 भाग
इलायची (Elachi – Green cardamom) – Elettaria Cardamomum)10 भाग
तेजपत्ता (Tejpata – Cinnamomum Tamala)10 भाग
नागकेशर10 भाग

निर्माण की विधि

  1. भृंगराज के रस को घी से लेपित आसव के पात्र में लें। इसमें गुड़ को घोल दें और हरीतकी के चूर्ण को मिला दें।
  2. अब इस मिश्रण को किण्वन के लिए 5 दिनों के लिए छोड़ दें।
  3. 15 दिनों के बाद, आसव के पात्र को फिर से खोलें और अन्य सामग्री मिला दें। उन्हें अच्छी तरह से मिलायें।
  4. फिर से इस मिश्रण को 15 दिनों के लिए छोड़ दें।
  5. अब, तरल (भृंगराजासव) को छान लें और इसे खाद्य संरक्षित करने वाली बोतलों में भर लें।

औषधीय क्रियाऐं

भृंगराजासव में निम्नलिखित औषधीय गुण हैं:

  • कासरोधक
  • कफरोधक
  • आम पाचक (विषहरक)
  • पाचन उत्तेजक
  • क्षुधावर्धक
  • प्रतिउपचायक
  • यकृत रक्षक
  • पित्ताशय को संकुचित होने के लिए उत्तेजित करता है (पित्त के निर्वहन को बढ़ावा देता है)
  • विशोधक (रक्त शुद्ध करता है)
  • ह्रदय रक्षक
  • अतिवसा नाशक
  • दाह नाशक
  • बालों की बढ़वार का उत्तेजक
  • कण्डूरोधी
  • रोगाणुरोधी
  • पौष्टिक
  • गर्भाशय विषहरक
  • अंडाशय उत्तेजक – डिंबक्षरण को उत्तेजित करता है
  • आर्तवजनक – मासिक धर्म को प्रेरित करता है
  • बांझपन विरोधी
  • कामलिप्सा बूस्टर

दोष कर्म

भृंगराजासव की मुख्य क्रिया वात दोष और कफ दोष पर देखी गई है। यह पित्त दोष को विषहरित करता है, लेकिन यह पित्त दोष को बढ़ा सकता है। यह यकृत और पित्त मूत्राशय से पित्त प्रवाह को भी सुधारता है।

चिकित्सीय संकेत

भृंगराजासव स्वास्थ्य की निम्नलिखित स्थितियों में सहायक है।

  • खाँसी – आयुर्वेद के अनुसार पांच प्रकार की खाँसी
  • दुर्बलता
  • थकान
  • कामेच्छा की कमी
  • महिलाओं का बांझपन
  • बार बार होने वाली सामान्य सर्दी या फ्लू
  • शक्ति का ह्लास
  • भूख की कमी
  • यकृत का असामान्य विकास
  • दमा
  • नेत्र रोग
  • नपुंसकता (दीर्घकालिक उपयोग लाभप्रद है)
  • बालों का झड़ना
  • बाल गिरना
  • बालों का समयपूर्व सफ़ेद होना

भृंगराजासव की खुराक

औषधीय मात्रा (Dosage)

बच्चे(5 वर्ष की आयु से ऊपर)1 से 2.5 मिलीलीटर
वयस्क6 से 15 मिलीलीटर

सेवन विधि

दवा लेने का उचित समय (कब लें?)खाना खाने के बाद लें
दिन में कितनी बार लें?2 बार – सुबह और शाम
अनुपान (किस के साथ लें?)गुनगुने पानी के साथ
उपचार की अवधि (कितने समय तक लें)चिकित्सक की सलाह लें

भृंगराजासव का दुष्प्रभाव

भृंगराजासव के उपयोग के साथ कोई दुष्प्रभाव नहीं देखा गया है।

विपरीत संकेत

भृंगराजासव के साथ कोई पूर्ण विपरीत संकेत नहीं है।

गर्भावस्था और स्तनपान

गर्भावस्था में और स्तनपान कराते समय भृंगराजासव का उपयोग करने से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करें।

संदर्भ

  1. Bhringrajasava – AYURTIMES.COM
आयुर्वेदिक डॉक्टर से परामर्श करें
Click Here to Consult Dr. Jagdev Singh