0

आयुर्वेदिक प्रकृति – आयुर्वेदिक शारीरिक प्रकार

आयुर्वेद में  शरीर को तीनों दोषों के अनुपात द्वारा निर्मित माना जाता है, जिसे कि आयुर्वेदिक प्रकृति (आयुर्वेदिक शारीरिक प्रकार) भी कहा जाता…

0

वात प्रकृति, पित्त प्रकृति और कफ प्रकृति में अंतर

निम्नलिखित तालिका आपको वात शारीरिक प्रकार, पित्त शारीरिक प्रकार, और कफ शारीरिक प्रकार में अंतर जानने में मदद करेगी। विवरण…

0

सम प्रकृति के शारीरिक और मानसिक लक्षण एवं सामान्य समस्याऐं

शरीर में किसी भी प्रकार के गैर-प्रभुत्व और शरीर में प्रत्येक दोष के संतुलन और सामंजस्य को सम शरीर प्रकार…

0

कफ प्रकृति के शारीरिक और मानसिक लक्षण एवं सामान्य समस्याऐं

शारीरिक गठन में कफ दोष की प्रबलता को कफ प्रकृति (कफज प्रकृति) या कफ शारीरिक प्रकार कहा जाता है। इसे कफ गठन के…

0

पित्त प्रकृति के शारीरिक और मानसिक लक्षण एवं सामान्य समस्याऐं

शारीरिक गठन में पित्त दोष की प्रबलता को पित्त प्रकृति (पित्तज प्रकृति) या पित्त शारीरिक प्रकार कहा जाता है। इसे पित्त गठन के…

0

आयुर्वेदिक और हर्बल औषधियों की खुराक की गणना

आधुनिक विज्ञान में औषधियों की उपयुक्त खुराक की गणना करने के लिए विभिन्न तरीके हैं। हमने बच्चों के साथ-साथ वयस्कों…

0

कफ दोष के गुण, कर्म, मुख्य स्थान, प्रकार, असंतुलन, बढ़ने और कम होने के लक्षण

कफ एक ऐसी संरचनात्मक अभिव्यक्ति है जो द्रव्यमान को दर्शाता है यह हमारे शरीर के आकार और रूप के लिए…

0

पित्त दोष के गुण, कर्म, मुख्य स्थान, प्रकार, असंतुलन, बढ़ने और कम होने के लक्षण

पित्त शरीर का ऐसा भाव(दोष) है जो शरीर की गर्मी, आग और ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है। जैविक रूप से,…

0

वात दोष के गुण, कर्म, मुख्य स्थान, प्रकार, असंतुलन, बढ़ने और कम होने के लक्षण

“वा गतिगंधनयो” धातु से वात अर्थात वायु शब्द निष्पति होती है।  वात एक अभिव्यक्ति है और मुख्य कार्यकारी शक्ति है…