0

आयुर्वेद के त्रिसूत्र

हेतुलिँगौषधज्ञानं स्वस्थातुरपरायणम्। त्रिसूत्रं शाश्वतं पुण्यं बुबुधे यं पितामहः।। आयुर्वेद में चिकित्सा के तीन अंग – हेतु, लिंग, और औषध माने…