Browsing Category

आयुर्वेदिक दवाइयाँ

गिलोय घन वटी घटक द्रव्य, औषधीय कर्म, उपयोग, लाभ, मात्रा तथा दुष्प्रभाव

गिलोय घन वटी सभी प्रकार के बुखार में फद्येमंद होती है। खासकर इसका प्रयोग रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाने के लिए किया जाता है। चरक संहिता में गिलोय को मेध्य रसायन माना है। रसायन होने के कारण यह बुद्धिवर्धक और आयुवर्धक है।इसका प्रयोग चिरकालीन और जीर्ण रोगावस्था में अधिक होता है। और इन रोगों में यह अच्छा प्रभाव डालती है। इसलिए इसको जीर्ण ज्वर अर्थात…
Read More...

च्यवनप्राश

च्यवनप्राश आयुर्वेद में एक रसायन के रूप में जाना जाता है। रसायन का अर्थ है कि यह रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाता है, बुढापे को विलंबित करता है और बहुत से रोगों की रोकथाम करता है। इसलिए इसको आयुर्वेद में एक सब से उत्तम स्वास्थ्य सप्लीमेंट की तरह प्रयोग किया जाता है।इसके अतिरिक्त यह बहुत से जीर्ण रोगों के इलाज के लिए भी दूसरी औषधिओं के साथ प्रयोग किया…
Read More...

बीजीआर 34 शुगर ( मधुमेह) के लिए

भारत में ५० लाख से आधिक लोग टाइप-२ मधूमेह रोग से ग्रसित हैं l भारत को मधूमेह की राजधामनी के नाम से भी जाना जाता है l सामान्य शब्दों में टाइप-१ मधूमेह इन्सुलिन के अपर्याप्त उत्पादन एवम स्त्राव के कारन होता है जबकि टाइप-२ मधूमेह इन्सुलिन के दोषपूर्ण प्रतिक्रिया के कारन होता है l आधुनिक मधूमेह औषिधियों के दुष्प्रभाव एवम विषक्ता चर्चा का विषय है l…
Read More...

सितोपलादि चूर्ण

सितोपलादि चूर्ण (Sitopaladi Churna) एक आयुर्वेदिक औषधि है। प्राचीन काल के महान ग्रन्थ चरक चिकित्सा स्थान के राजयक्ष्मा अध्याय में इसका उल्लेख है। कुछ अन्य ग्रन्थ जैसे शारंगधर संहिता, गद निग्रह, योग रत्नाकर, भैषज्य रत्नावली आदि में भी इसका उल्लेख खांसी, कफ और बहुत सी अन्य बिमारियों के उपचार में है।सितोपलादि चूर्ण का सेवन विभिन्न प्रकार के रोगों…
Read More...

सारस्वतारिष्ट स्वर्ण युक्त (सारस्वतारिष्टम गोल्ड)

सारस्वतारिष्ट या Saraswatharishtam) एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसका उपयोग प्राचीन काल से कई मानसिक रोगों के उपचार ले लिए किया जाता रहा है। यह स्मरण शक्ति, ध्यान केंद्रित करना, बुध्दिमत्ता, तनाव, आयु, बल, वीर्य, यौन एवम सामान्य दुर्बलता, अवसाद, अनिद्रा, व्यग्रता, हृदय रोग, भूख न लगना, बेचैनी आदि की एक उत्तम आयुर्वेदिक औषधि है। इसे स्वर-भंग और हकलाने में…
Read More...

आइसोटीन गोल्ड (आइसोन्यूरॉन और आइसोटीन प्लस आई ड्रॉप्स)

आइसोटीन गोल्ड (Isotine Gold) आँखों के लिए उपयोगी आयुर्वेदिक दवाओं का एक पैकेज है। इस में आइसोटीन प्लस आई ड्रॉप और आइसोन्यूरॉन कैप्सूल होते है। आँखों के लिए यह एक आयुर्वेदिक टॉनिक है जो आँखों की रोशनी बढ़ाता है और नेत्र रोगों से बचाता है। यह आँखों की थकान को दूर करता है और आँखों के तनाव को कम करता है।आँखों का चश्मा उतारने के लिए इसका प्रयोग किया…
Read More...

आइसोटीन प्लस आई ड्राप (Isotine Plus Eye Drop)

आइसोटीन प्लस आई ड्राप (Isotine Plus Eye Drop) डॉ बासु की एक पेटेंट दवा है जो आंख के रोगों में बहुत फायदेमंद हैं। इसका प्रयोग मोतियाबिंद (cataract) जैसे और अन्य नेत्र रोगों के इलाज के लिए किया जाता है। मोतियाबिंद के कई रोगियों को इस से लाभ हुआ हैं। यह आँखों की दृष्टि को बढ़ाती है और अपरिपक्व मोतियाबिंद के उपचार में (बिना किसी आपरेशन के) मदद करती हैं।…
Read More...

आइसोटीन आई ड्राप (Isotine Eye Drop)

आइसोटीन आई ड्राप (Isotine Eye Drops) एक आयुर्वेदिक दवाई है जो की नेत्रों की रौशनी को बढ़ाती है। यह मोतियाबिंद, रेटिनाइटिस, मंददृष्टि तथा अन्य आंख के रोगों का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाती है। घटक द्रव्य (Ingredients) आइसोटीन बनाने के लिए प्रयोग की जाने वाली सामग्री/द्रव्यों की सूचि निम्न लिखित है:घटक द्रव्य मात्रा (%)पलाश (Butea…
Read More...