दिव्य मुक्ता वटी

दिव्य मुक्ता वटी स्वामी रामदेव जी की देखरेख में चलने वाली दिव्य फार्मेसी द्वारा निर्मित एक आयुर्वेदिक औषधि है। यह मीडिया और स्वामी रामदेव योग शिविर के माध्यम से उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए प्रसिद्ध हो गयी है। इस लेख में, हम इसके अवयवों, लाभों, उपयोगों और दुष्प्रभावों की विस्तार से समीक्षा करेंगे, जिससे कि लोग अच्छी तरह से विश्लेषण कर सकें कि यह उनके लिए उपयुक्त है या अनुपयुक्त।

मुक्त वटी एक एंटीह्यपरटेंसिव (उच्च रक्त दाबरोधी) और एंटीडिप्रेससेंट (अवसादरोधी) आयुर्वेदिक औषधि है। यह रक्तचाप को कम करता है और यह तनाव संबंधित विकारों में फायदेमंद है। इसे रावोल्फिया सर्पिनिना (जिसे भारतीय स्नैकरूट या सरपगंधा भी कहा जाता है) और अन्य जड़ी-बूटियों के साथ इसकी क्षमता बढ़ाने के लिए संसाधित (process) किया जाता है। आयुर्वेद में सर्पगंधा अपने आप में ही एक अच्छी एंटीह्यपरटेंसिव (उच्च रक्त दाबरोधी) जड़ी बूटी है।

दिव्य मुक्ता वटी के घटक

दिव्य मुक्ता वटी निम्नलिखित घटको का मिश्रण हैं:

ब्राह्मी46 मिली ग्राम
शंखपुष्पी46 मिली ग्राम
वच46 मिली ग्राम
गाजवाँ69 मिली ग्राम
ज्योतिष्मती19 मिली ग्राम
गिलोय या गुडूची20 मिली ग्राम
अश्वगंधा46 मिली ग्राम
मुक्ता पिष्टी (मोती पिष्टी) – Moti Pishti2 मिली ग्राम
प्रवाल पिष्टी – Praval Pishti6 मिली ग्राम

उपरोक्त सामग्री के मिश्रण को आगे दी गयी जड़ी बूटियों से तैयार किए हुए काढ़े के साथ संसाधित किया जाता है।

  • ब्राह्मी
  • शंखपुष्पी
  • गिलोय या गुडूची
  • सर्पगंधा
  • जटामांसी

औषधीय कर्म (Medicinal Actions)

दिव्य मुक्ता वटी में निम्नलिखित औषधीय गुण है:

  • एंटीडिप्रेसेंट (अवसादरोधी)
  • एंटी-हाइपरटेन्सिव (उच्च रक्त दाबरोधी)
  • तनाव विरोधी
  • चिंता विरोधी
  • दिमाग को आराम देने वाला
  • एंटीऑक्सिडेंट
  • हल्का दाहक विरोधी
  • अडाप्टोजेनिक (अनुकूलजन्य)
  • शामक
  • एंटिकॉनविल्सेट (आक्षेपरोधी)

चिकित्सकीय संकेत (Indications)

दिव्य मुक्ता वटी निम्नलिखित व्याधियों में लाभकारी है:

  • उच्च रक्तचाप (अति रक्तदाब)
  • डिप्रेशन (अवसाद)
  • चिंता
  • मानसिक तनाव
  • मानसिक उत्तेजना
  • चिड़चिड़ापन
  • भावनात्मक आघात
  • अनिद्रा

दिव्य मुक्ता वटी लाभ एवं उपयोग

दिव्य मुक्ता वटी उच्च रक्तचाप को संतुलित करने की सबसे अच्छी आयुर्वेदिक औषधि हैं। मुक्ता वटी अवसाद में भी लाभदायक है और यह मानसिक उत्तेजना और चिड़चिड़ेपन को शांत करती है। ज्यादातर लोग तनाव से प्रेरित उच्च रक्तचाप से ग्रसित होते हैं। इस मामले में यह अधिक प्रभावी है। हालांकि, मुक्ता वटी को सर्पगंधा और जटामांसी के साथ भी संसाधित किया जाता है, जो की एंटीहाइपरटेन्सिव (उच्चरक्तदाबरोधी) जड़ी बूटियां हैं। यहां आपकी जानकारी के लिए मुक्ता वटी के कुछ लाभ दिए गए हैं।

अवसाद, चिंता, मानसिक तनाव, मानसिक उत्तेजना या चिड़चिड़ापन

मुक्ता वटी की सभी जड़ी-बूटियों में एंटीडिप्रेसेंट (अवसादरोधी), चिंता निवारक और तनाव विरोधी लक्षण होते हैं।

ये जड़ी-बूटियां मन को शांत करती हैं और व्यक्ति को सुखदायक और शिथिलता का महसूस कराती हैं। इसलिए, यह अवसाद, चिंता, मानसिक तनाव और उत्तेजना के लिए एक अच्छी दवा है।

अनिद्रा

मुक्ता वटी में उपस्थित मन को आराम देने वाली जड़ी बूटियों के कारण यह गहरी नींद लाती है। ब्रह्मी, शंखपुष्पी, अश्वगंधा, मुक्ता-पिष्टी और प्रवाल पिष्टी सहित सभी जड़ी-बूटियों का मन को शांत करने और अच्छी नींद लाने के लिए बहुत प्रभाव है।

उच्च रक्तचाप

जाहिर है, सभी जड़ी-बूटियों में कुछ हद तक एंटीहाइपरटेन्सिव (उच्चरक्तदाबरोधी) क्रिया और तनाव से राहत देने वाले गुण होते हैं, जो उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद करते हैं।

आप इसे एक गोली दिन में दो बार के साथ शुरू कर सकते हैं और एक महीने तक इसे दूध के साथ लेना जारी रखें। यदि कोई महसूस करता है कि उसका रक्तचाप नियंत्रण में नहीं है, तो वह इसे शुरू कर सकता हैं या दो गोली दिन में दो या तीन बार तक बढ़ा सकता है। कुछ लोगों में, इसका प्रभाव एक हफ्ते के भीतर प्रदर्शित होता है और कुछ लोग इसे 30 दिनों के लगातार उपयोग के बाद लाभदायक बताते हैं।

औषधीय मात्रा निर्धारण एवं व्यवस्था

दिव्य मुक्ता वटी का सेवन नीचे दी गयी सूची के अनुसार करना चाहिए:-

मुक्ता वटी की सामान्य खुराक इस प्रकार है।
रक्तचाप (एमएम एच जी)मात्रा
पूर्व-उच्च रक्तचाप (सिस्टोलिक 120 से 139 और डायस्टोलिक 80 से 89)आवश्यक नहीं है, आहार परिवर्तन सुझावयोग्य हैI
उच्च रक्तचाप चरण 1 (सिस्टोलिक 140 से 15 9 और डायस्टोलिक 90 से 99)1 गोली प्रतिदिन दो बार।
उच्च रक्तचाप चरण 2 (सिस्टोलिक 160 या उच्च और डायस्टोलिक 100 या अधिक)2 गोली प्रतिदिन दो बार।
उच्च रक्तचाप संबंधी संकट (सिस्टोलिक 180 या उच्च और डायस्टोलिक 110 या अधिक)मुक्ता वटी शायद काम नहीं करेगी और रोगी को आपातकालीन उपचार की आवश्यकता हो सकती है।
अधिकतम संभावित खुराकप्रति दिन 6 गोलियां (विभाजित मात्रा में)
नोट: यदि ऊपर बतायी गयी खुराक से रक्त चाप कम ना हो रहा हो तो खुराक बढ़ायी जा सकती है, लेकिन इसे प्रति दिन अधिकतम संभव खुराक से अधिक नहीं बढ़ाया जाना चाहिए।
औषधि लेने के लिए सर्वश्रेष्ठ समय: आप भोजन के एक घंटे बाद मुक्ता वटी ले सकते हैं। अधिक प्रभाव के लिए, मुक्ता वाटी को भोजन से पहले एक घंटा, सुबह में खाली पेट और नाश्ता या रात के खाने से एक घंटे पहले भी लिया जा सकता है।
अनुपान: ताजा पानी या गाय का दूध। सर्पगंधा (एक घटक जिसमें मुक्ता वटी को संसाधित किया जाता है) के दुष्प्रभावों को कम करने के लिए गुनगुने गाय का दूध अधिक बेहतर है।

मुक्ता वटी के दुष्प्रभाव

दिव्य मुक्ता वटी अधिकतर लोगों में अच्छी तरह सहन करने योग्य है।

निर्माता का दावा है कि इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है, लेकिन यह सच नहीं है। इसे रावोल्फिया सेर्पेंटिना (सर्पगंधा) के साथ संसाधित किया जाता है, जो कुछ लोगों में नाक बंद होने का कारण बनता है। यह प्रभाव अधिक प्रकट होता है, जब मुक्ता वटी को पानी के साथ लिया जाता है।

हालांकि, अगर इसे गाय के गुनगुने दूध के साथ लिया जाता है, तो नाक बंद होने की समस्या कुछ हद तक कम हो जाती है। यदि गाय के गुनगुने दूध के साथ लेने के बाद भी नाक बंद होने की समस्या बनी रहती है तो आपको मुक्ता वटी के उपयोग को बंद कर देना चाहिए।

कई रोगियों ने इसका उपयोग करने के बाद निम्नलिखित दुष्प्रभावों की सूचना दी है।

  1. नाक बंद होना (सबसे आम)
  2. मुंह सूखना (सबसे आम)
  3. हल्का सिरदर्द (सामान्य)
  4. सुबह में सुस्ती का अनुभव करना (कम प्रचलित)
  5. नाक बंद होने के कारण रात में श्वास लेने में कष्ट

दिव्य मुक्ता वटी प्रयोग डॉक्टर की सलाह के बाद ही करना चाहिए। गर्भवती महिलायो और स्तनपान कराने वाली माताओ को भी इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की राय लेनी चाहिए।

संदर्भ

  1. Divya Mukta Vati – AYURTIMES.COM

About Dr. Jagdev Singh

डॉ जगदेव सिंह (B.A.M.S., M.Sc. Medicinal Plants) आयुर्वेदिक प्रैक्टिशनर है। वह आयुर्वेद क्लिनिक ने नाम से अपना आयुर्वेदिक चिकित्सालय चला रहे हैं।उन्होंने जड़ी बूटी, आयुर्वेदिक चिकित्सा और आयुर्वेदिक आहार के साथ हजारों मरीजों का सफलतापूर्वक इलाज किया है।आयुर टाइम्स उनकी एक पहल है जो भारतीय चिकित्सा पद्धति पर उच्चतम स्तर की और वैज्ञानिक आधार पर जानकारी प्रदान करने का प्रयास कर रही है।

Check Also

हिमालय कॉन्फीडो टेबलेट (Himalaya Confido Tablet )

हिमालय कॉन्फीडो टेबलेट

हिमालय कॉन्फीडो टेबलेट (Himalaya Confido Tablet) एक आयुर्वेदिक प्रोप्राइटरी औषधि है जिसका उपयोग शीघ्र पतन, …