गाजर का अर्क

गाजर का अर्क (Gajar Ka Ark – Carrot Distillate) गाजर, गावजवाँ,  गावजवाँ के फूल, सफ़ेद चन्दन, तोदरी लाल और बहमन सफ़ेद से बनाया जाता है। यह हृदय के लिये हितकारी है और दिल को बल प्रदान करता है। यह दिल की धड़कन की वृद्धि को कम करता है। शरीर को बल देता है और निर्बलता दूर करता है। यह भूख को बढ़ाता है और मूत्र को साफ करता है। यह श्वसन सम्बंधित विरकारों को दूर करता है और यह अस्थमा, छींक, हिचकी, दस्त, शोथ, पीलिया आदि रोगों में लाभकारी है।

घटक द्रव्य एवं निर्माण विधि

गाजर का अर्क में निम्नलिखित घटक द्रव्यों है:

घटक द्रव्यों के नाम मात्रा
गाजर 1 किलो
गावजवाँ 120 ग्राम
गावजवाँ के फूल 60 ग्राम
सफ़ेद चन्दन 60 ग्राम
तोदरी लाल 60 ग्राम
बहमन सफ़ेद 60 ग्राम

गाजर का अर्क निर्माण विधि

गाजर का अर्क बनाने के लिए घटक द्रव्य लें। इन सभी को 8 लीटर जल में मिलाकर नलिकायंत्र द्वारा 4 बोतल अर्क बनायें।

औषधीय कर्म (Medicinal Actions)

गाजर का अर्क में निम्नलिखित औषधीय गुण है:

  • प्रतिउपचायक – एंटीऑक्सीडेंट
  • पौष्टिक – पोषण करने वाला
  • बल्य – शारीर और मन को ताकत देने वाला
  • मस्तिष्क बल्य – मस्तिष्क को ताकत देने वाला
  • ह्रदय – दिल को ताकत देने वाला
  • शोथहर
  • हिक्कानिअहण्
  • श्वासहर
  • क्षुधावर्धक – भूख बढ़ाने वाला

चिकित्सकीय संकेत (Indications)

गाजर का अर्क निम्नलिखित व्याधियों में लाभकारी है:

  1. दिल की धड़कन की वृद्धि
  2. निर्बलता
  3. भूख की कमी
  4. अस्थमा
  5. हिचकी
  6. दस्त
  7. शोथ
  8. पीलिया

मात्रा एवं सेवन विधि (Dosage)

गाजर के अर्क की सामान्य औषधीय मात्रा  व खुराक इस प्रकार है:

यह भी देखें  पेट सफा

औषधीय मात्रा (Dosage)

बच्चे 10 से 30 ग्राम
वयस्क 30 से 60 ग्राम

सेवन विधि

दवा लेने का उचित समय (कब लें?) ख़ाली पेट लें।
दिन में कितनी बार लें? दिन में तीन बार पिलायें।
अनुपान (किस के साथ लें?) गुनगुने पानी मिला सकते है
उपचार की अवधि (कितने समय तक लें) चिकित्सक की सलाह लें

आप के स्वास्थ्य अनुकूल गाजर के अर्क की उचित मात्रा के लिए आप अपने चिकित्सक की सलाह लें।

दुष्प्रभाव (Side Effects)

यदि गाजर का अर्क का प्रयोग व सेवन निर्धारित मात्रा (खुराक) में चिकित्सा पर्यवेक्षक के अंतर्गत किया जाए तो गाजर का अर्क के कोई दुष्परिणाम नहीं मिलते। अधिक मात्रा में गाजर का अर्क के साइड इफेक्ट्स की जानकारी अभी उपलब्ध नहीं है।

गर्भावस्था और स्तनपान (Pregnancy & Lactation)

गाजर के अर्क प्रयोग गर्भावस्था दौरान नहीं कारण चाहिए क्योंकि यह गर्भाशय उत्तेजक औषधि है।

स्तनपान दौरान गाजर के अर्क का प्रयोग करने से पहिले चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।

आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करें
AYURVEDIC CONSULTATION
अपने शरीर के बारे में जानें
Dosha Quiz (Body Type Test)

Ayurvedic Skin Type Quiz