गुड़ के फायदे और नुकसान

Jaggery

गुड़ कच्ची शक्कर का पारम्परिक रूप है या गन्ने के रस से प्राप्त अपरिष्कृत शक्कर है। इसे बनाने के लिए गन्ने के रस को गर्म करके गुड़ के मोटे क्रिस्टल बनाये जाते हैं। यह गहरे पीले या भूरे रंग का होता हैं और रासायनिक संसाधित या अपकेंद्री चीनी का बहुत अच्छा विकल्प है। इसका उपयोग भारत, म्यांमार और कुछ अन्य एशियाई और अफ्रीकी देशों में व्यापक रूप से किया जाता है।

गुड़ की सामग्री

सुक्रोज (इक्षुशर्करा) 50%
पल्टी हुई शक्कर 20%
नमी 20%
अघुलनशील पदार्थ (फाइबर, राख आदि) 10%

गुड़ खनिजों और पौधे के फाइटो रसायनों को सुरक्षित रखता है, जिसके कारण इसे स्वस्थ और परिष्कृत चीनी से बेहतर माना जाता है। शुद्ध चीनी बनाने की प्रक्रिया लगभग सभी पोषक तत्वों, खनिजों और पौधों के रसायनों को हटा देती है। लेकिन ऐसा परंपरागत तरीके से गुड़ बनाने की प्रक्रिया में नहीं होता है।

गुड़ के स्वास्थ्य लाभ

गुड़ में उसके मीठे स्वाद और शक्कर के विकल्प के अतिरिक्त कई स्वास्थ्य लाभ और औषधीय उपयोग हैं। सबसे महत्वपूर्ण कहावत है:

“प्राकृतिक या कम संसाधित खाद्य पदार्थ संसाधित खाद्य पदार्थों के मुकाबले बेहतर होते हैं।”

हमारे विभिन्न भोज्य पदार्थों को पकाने की विधि के समान गुड़ कम संसाधित और प्राकृतिक रूप से बनाया जाता है। इसमें परिष्कृत चीनी बनाने में प्रयोग किये गए रसायन भी नहीं होते हैं। हालांकि, कुछ लोग गुड़ बनाते समय बेकिंग पाउडर का उपयोग करते हैं।

गुड़ बनाने की प्रक्रिया में गन्ने के रस को निकालना, गाढ़ा पेस्ट बनाने के लिए रस को गर्म करना और छानना, ठंडा करके गहरा पीला पेस्ट बनाना, और गुड़ क्रिस्टल एकत्र करना है।

गुड़ बनाने की प्रक्रिया एक सरल प्रक्रिया है, इसलिए यह हानिकारक रासायनिक प्रसंस्करण से मुक्त है।

गुड़ से चिकित्सीय लाभ भी मिल सकते हैं, इसलिए इसका उपयोग आयुर्वेद और लोक चिकित्सा में विभिन्न औषधियों के सहायक के रूप में किया जाता है।

भूख और पाचन में सुधार

गुड़ में पाचन उत्तेजक गुण हैं, जो पाचन और भूख को सुधारने में मदद करते हैं।

कई प्राकृतिक चिकित्सक और वैकल्पिक चिकित्सक पाचन में सुधार करने के लिए भोजन के बाद गुड़ का उपयोग करने की सलाह देते हैं। भारत में, यह उन लोगों के बीच एक आम अभ्यास है, जो लोग भोजन करने के बाद पेट में भारीपन की समस्या से ग्रस्त हैं।

गुड़ की पाचन को उत्तेजित करने की क्रिया उसके पेट में जाकर एसिटिक एसिड में रूपांतरण के कारण होती है। यह पेट में पाचकरस सम्बन्धी गतिविधि को सुधारने में मदद करता है, जिससे अंततः यह पाचन को ठीक करता है और भूख में सुधार करता है।

आंतों को शक्ति और कब्ज से राहत देता है

गुड़ में खनिज और पौधे की राख होती है। 10 ग्राम गुड़ केवल 16 मिलीग्राम मैग्नीशियम प्रदान करता है, जो की दैनिक मैग्नीशियम की आवश्यकता के 4% के बराबर है। मैग्नीशियम आंतों के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। यह आंतों को मजबूती प्रदान करता है।

हालांकि, गुड़ अधिक पौष्टिक लाभ प्रदान नहीं करता है, लेकिन तनाव को कम करके आंतों को चिकना बनाना इसकी एक विशिष्ट विशेषता है। इस प्रकार, यह आंतों के संचालन में सुधार करता है, जिससे की मल त्याग में सुविधा होती है। इसलिए, यह तीव्र और साथ ही साथ पुरानी कब्ज में भी मदद करता है। गुड़ डेटॉक्स के रूप में काम कर सकता है, इसलिए यह आपके पेट को स्वाभाविक रूप से साफ़ करने में मदद कर सकता है।

आयुर्वेद के अनुसार, गुड़ की तासीर गर्म होती है, जिसका अर्थ है कि यह शरीर में गर्मी पैदा करता है और यकृत और पित्ताशय से पित्त स्रावित करता है। पित्त और क्रमाकुंचन एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। आंतों में पित्त लवण का स्राव, आंत्रों में सुधार लाने में मदद करता है। इस तथ्य के कारण, गुड़ कब्ज की समस्या को कम करने में भी मदद करता है और मल त्याग को नियमित करता है।

सामान्य दुर्बलता या शारीरिक कमजोरी

गुड़ एक स्वस्थ शक्कर है, जो शरीर को तुरंत ऊर्जा प्रदान करता है। सामान्य दुर्बलता में, इसका उपयोग दूध के साथ किया जा सकता है। गुड़ और दूध का संयोजन शरीर में मजबूती प्रदान करता है। इस प्रकार, यह शारीरिक कमजोरी को कम करने और ऊर्जा प्रदान करने में मदद करता है।

स्वस्थ गुड़ ऊर्जा पेय

यदि आप दूध के साथ गुड़ खाना पसंद नहीं करते हैं, तो नीचे बताया गया गुड़ ऊर्जा पेय आपके लिए बहुत लाभदायक हो सकता है।

पानी 1 कप
गुड़ 5 ग्राम
नींबू का रस 10 मिलीलीटर
काला नमक 1 ग्राम

एक कप पानी में सभी घटकों को मिलायें और इसे अन्य ऊर्जा पेय के स्थान पर पीयें। यह अधिक स्वस्थ तरीके से समान लाभ प्रदान करता है।

सामान्य शीत (सर्दी)

सामान्य गुड़ का उपाय आम सर्दी में बहुत मदद करता है। आप इसे सूखे अदरक और काली मिर्च के साथ खा सकते हैं और आप देखेंगे की इसका प्रभाव हैं परंपरागत दवाओं के समान ही होता है।

गुड़ 3 ग्राम
काली मिर्च 250 मिलीग्राम
सूखे अदरक का पाउडर 500 मिलीग्राम
शहद 1 चम्मच

गुड़ को कूटें और बाकी घटकों को इसमें मिला दें। दिन में तीन बार भोजन के बाद इसे खायें। यह पहली खुराक खाने के साथ ही तुरंत काम करता है।

पुरानी खांसी

गुड़ पुरानी खांसी में भी लाभ प्रदान करता है। यह गले के नरम ऊतकों पर सुखदायक और चिकनाईयुक्त प्रभाव के कारण गले की जलन को कम करता है। आयुर्वेद के अनुसार, यह फेफड़ों में गर्मी पैदा करता है और श्वसन तंत्र को फैलाता है, इसलिए यह खांसी, अस्थमा और साँस लेने में परेशानी में मदद करता है। यदि आप को किसी भी प्रकार का श्वसन विकार हो, तो आप चीनी के स्थान पर गुड़ का सेवन कर सकते हैं।

मूत्र प्रवाह में कठिनाई

गन्ने में मूत्रवर्धक गुण होते हैं। यह गुण गुड़ में भी होते हैं। यह मूत्र में रुकावट और मूत्र प्रवाह में कठिनाई होने पर लाभ देता हैं, लेकिन शायद यह पौरुष ग्रंथि के बढ़ने पर मदद ना करे। यह मूत्राशय की सूजन को कम कर सकता है और उचित मूत्र त्याग में मदद करता है।

इस उद्देश्य के लिए, आयुर्वेदिक चिकित्सक गुड़ को दूध में घोलकर पीने की सलाह देते हैं। यह मूत्र प्रवाह को बेहतर बनाता है।

हिचकी

हिचकी के लिए गुड़ एक अच्छा घरेलु उपाय है, लेकिन इसका उपयोग सूखे अदरक के पाउडर के साथ किया जाता है।

गुड़ 3 ग्राम
सूखे अदरक का पाउडर 500 मिलीग्राम

गुड़ को कूटें और इसे अदरक के पाउडर के साथ मिलायें। हिचकी से छुटकारा पाने के लिए इस मिश्रण को गर्म पानी के साथ खायें।

आँतों के कीड़े

लोक चिकित्सा में, कृमिनाशक औषधि खाने से पहले गुड़ का सेवन करने की सलाह दी जाती है। यह माना जाता है कि गुड़ आंतों में से कीड़ों को निष्कासित करने में मदद करता है और फिर कृमिनाशक औषधि आंतों के सभी कीड़ों को मार देती है।

माइग्रेन और सिरदर्द

गाय के घी (बिशुद्ध मक्खन) के साथ गुड़ का सेवन माइग्रेन और सिरदर्द में लाभ प्रदान करता है। इस उपाय का प्रयोग आम तौर पर पंजाब, भारत में किया जाता है। आप दिन में दो बार सोने से पहले और खाली पेट सुबह सूर्योदय से पहले 5 मिलीलीटर गाय के घी (cow’s ghee) के साथ 10 ग्राम गुड़ ले सकते हैं।

आँतों में वायु या पेट फूलना

गुड़ बादी नाशक है, इसलिए यह आँतों की गैस को कम करने में मदद करता है। इस उद्देश्य के लिए, आप हर बार भोजन के बाद 5 ग्राम गुड़ खा सकते हैं।

मांसपेशियों में तनाव और टूटा हुआ पुट्ठा

गुड़ मांसपेशियों में तनाव और टूटे हुए पुट्ठे में लाभ देता है। यह त्वरित उपचार में मदद करता है और मांसपेशियों में तनाव में राहत देता है।

पूर्व मासिक धर्म सिंड्रोम

गुड़ पूर्व मासिक धर्म सिंड्रोम के लक्षणों में मदद करता है। इसमें मांसपेशियों को शिथिल करने वाले गुण होते हैं, जो मासिक धर्म के पहले गर्भाशय की ऐंठन और पेट में दर्द को कम करते हैं।

कुछ महिलाएं मासिक धर्म की अवधि के दौरान, उसके दौरान या बाद में पीठ दर्द होने की शिकायत करती हैं। गुड़ से दर्द को कम करने में भी मदद मिलती है। इसका लाभकारी प्रभाव गुड़ का शरीर को ताकत प्रदान करने के गुण के कारण होता है।

इसके अलावा, गुड़ का सेवन करने से मन की व्यग्रता और मिजाज़ भी ठीक रहता है। यह प्रभाव गुड़ खाने के बाद एंडोर्फिन के निस्सारण के कारण होता है। यह हार्मोन आपके मूड को बदल सकता है और आपको आराम करने में मदद करता है।

रोग प्रतिरोधक शक्ति में सुधार

गुड़ में जस्ता और सेलेनियम जैसे खनिज शामिल होते हैं। ये खनिज उनके प्रतिउपचायक गुणों के लिए जाने जाते हैं। हालांकि, गुड़ में इन खनिजों की पर्याप्त मात्रा नहीं होती है, लेकिन फिर भी यह संक्रमण से लड़ने के लिए शरीर की सहायता कर सकता है।

गुड़ के अन्य लाभ और उपयोग

  1. आयुर्वेदिक विज्ञान के अनुसार, गुड़ एक हृदय टॉनिक है, इसलिए इसे हृदय की कमजोरी में प्रयोग किया जाता है।
  2. गुड़ रक्त शोधक भी है, इसलिए रक्त या त्वचा संबंधी विकार वाले व्यक्ति परिष्कृत चीनी के स्थान पर गुड़ का उपयोग कर सकते हैं।
  3. गुड़ लोहे का अच्छा स्रोत है, इसलिए यह रक्ताल्पता में मदद करता है।
  4. एक निवारक उपाय के रूप में, गुड़ अस्थमा और एलर्जी की स्थिति को रोक सकता है।
  5. गुड़ खाने से जोड़ों में दर्द और अकड़न कम हो जाती है। सूखे अदरक के पाउडर के साथ गुड़ का प्रयोग करने से अधिक लाभ मिलता है।

संदर्भ

  1. Jaggery – AYURTIMES.COM

संबंधित पोस्ट

Comments are closed.