हिमालय सिस्टोन सिरप और सिस्टोन टेबलेट

Himalaya Cystone Syrup and Cystone Tablets in Hindi

हिमालय सिस्टोन सिरप और सिस्टोन टेबलेट आयुर्वेदिक औषधि है जो हिमालय हर्बल हेल्थकेयर (हिमालय ड्रग कंपनी) द्वारा निर्मित है, जिसे गुर्दे की पथरी के लिए उपयोग किया जाता है। सिस्टोन मूत्र मार्ग में जीर्ण संक्रमण में सहायता भी प्रदान करता है और गुर्दे में पथरी के गठन की पुनरावृत्ति को रोकता है।

घटक द्रव्य (Ingredients)

हिमालय सिस्टोन सिरप और सिस्टोन टेबलेट में निम्नलिखित घटक द्रव्यों है:

  1. शिलापुष्प
  2. पाषाण भेद
  3. मंजिष्ठा
  4. नागरमोथा
  5. अपामार्ग
  6. सहदेवी
  7. हजरुल यहूद भस्म
  8. शिलाजीत

औषधीय कर्म (Medicinal Actions)

सिस्टोन सिरप और सिस्टोन टेबलेट में निम्नलिखित औषधीय गुण है:

  • लिथोन्त्रिपतिक (लीथोट्रिप्टिक) – गुर्दों में पथरी को गला देता हैं
  • मूत्रवर्धक
  • एंटी-लिथिआटिक – गुर्दे में पथरी के गठन को रोकता हैं
  • एंटी-माइक्रोबायल गुण – यूटीआई में प्रकट होता है
  • दाहक विरोधी

चिकित्सकीय संकेत (Indications)

सिस्टोन निम्नलिखित व्याधियों में लाभकारी है:

 

  1. गुर्दे की पथरी
  2. क्रिस्टललुरिया (मूत्र में क्रिस्टल)
  3. पेशाब में जलन
  4. यू टी आई में सहायक के रूप में
  5. हाइपरयूरीसेमिया (रक्त में यूरिक एसिड की अधिकता)
  6. पेशाब में जलन
  7. गैर विशिष्ट यूरेथ्राइटिस (मूत्रमार्ग में सूजन या जलन)

सिस्टोन के लाभ और उपयोग

मूत्रवर्धक, लिथोट्रिपिक, एंटीलिथिएटिक, दाहक विरोधी और माइक्रोबियल विरोधी गुणों के कारण, सिस्टोन गुर्दों की पथरी को भंग करने, हटाने और रोकने में मदद करता है और मूत्र विकारों में भी मदद करता है।

गुर्दे की पथरी

सिस्टोन को आमतौर पर गुर्दे की पथरी और इसकी रोकथाम के लिए उपयोग किया जाता है। सिस्टोन के घटक सभी प्रकार की पथरी पर काम करते हैं, पथरी को गलाने में मदद करते हैं, और मूत्र के माध्यम से पथरी की रोड़ी को बाहर निकाल देते हैं।

सिस्टोन मैं कई घटक होते हैं जो जो शक्तिशाली एंटी-लिथियैटिक और लिथियोट्रिप्टिक एजेंट होते हैं। ये घटक पथरी को गलाने में मदद करते हैं, और सिस्टोन घटकों की मूत्रवर्धक क्रिया मूत्र के माध्यम से पथरी के क्रिस्टल को बाहर निकाल देती है।

निम्नलिखित प्रकार की पथरी में सिस्टोन अच्छी तरह से काम करता है।

  • कैल्शियम ऑक्सलेट पथरी
  • यूरिक एसिड पथरी
  • कैल्शियम और फॉस्फेट पथरी

सिस्टोन सिरप को बाल चिकित्सा यूरोलिथियासिस में भी उपयोग किया जा सकता है। बच्चों में गुर्दे की पथरी के लिए, यह बाजार में उपलब्ध सर्वोत्तम सिरप आधारित औषधि है।

मूत्राशय की पथरी

सिस्टोन मूत्राशय की पथरी को गलाने और नष्ट करने के लिए भी उपयोगी है। अच्छे परिणाम के लिए, इसका उपयोग चन्दनासव के साथ किया जाना चाहिए। यह पथरी के क्रिस्टल और रोड़ी को भी साफ करने में भी मदद करता है।

बार-बार मूत्र आने पर जलन और यूटीआई

सिस्टोन में रोगाणुरोधी और दाहक विरोधी गुण होते हैं। सिस्टोन को चन्दनासव और चंदनादि वटी के साथ लेने से बार बार मूत्र आने पर जलन कण हो जाती है और मूत्र पथ के संक्रमण कम हो जाते हैं।

पथरी का बार-बार बनना

कुछ लोगों में, पथरी बार बार बनने लगती है। इन्हें उपचार के साथ साथ गुर्दे के पत्थर के आहार की भी आवश्यकता होती है। सिस्टोन को चंद्रप्रभा वटी के साथ लेने से गुर्दे की पथरी की पुनरावृत्ति को रोकने में मदद मिलती है।

क्रिस्टल्यूरिया (मूत्र में क्रिस्टल की उपस्थिति)

पथरी के साथ साथ, कुछ औषधियां जैसे सल्फोनामाइड, पेनिसिलिन या सिप्रोफ्लॉक्सासिन के कारण क्रिस्टल्यूरिया हो सकता है।

क्रिस्टल्यूरिया के लिए सिस्टोन और चंद्रप्रभा वटी का संयोजन सबसे अच्छा वैकल्पिक उपचार है। इस विकार के उपचार के लिए रोगी को कई हफ्तों तक इस संयोजन को लेना पड़ सकता है।

मात्रा एवं सेवन विधि (Dosage)

सिस्टोन सिरप और टेबलेट के रूप में उपलब्ध है। इसकी खुराक इस प्रकार है।

सिस्टोन टेबलेट की औषधीय मात्रा

बच्चे 1 गोली
वयस्क 2 गोली

सिस्टोन सिरप की औषधीय मात्रा

बच्चे 5 मिलीग्राम
वयस्क 10 मिलीग्राम

सेवन विधि

दवा लेने का उचित समय (कब लें?) खाली पेट लें
दिन में कितनी बार लें? दिन में दो या तीन बार
अनुपान (किस के साथ लें?) गुनगुने पानी
उपचार की अवधि (कितने समय तक लें) कम से कम 3 महीने या चिकित्सक की सलाह लें

सिस्टोन की खुराक रोगी की आयु और स्वास्थ्य स्थिति के अनुसार अलग-अलग हो सकती है, इसलिए सिस्टोन को लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

सिस्टोन के दुष्प्रभाव

अधिकतर लोगों के लिए सिस्टोन को सुरक्षित और सहन करने योग्य माना जाता है। सिस्टोन टेबलेट और सिरप के उपयोग के कारण होने वाले किसी भी प्रकार के दुष्प्रभाव की सूचना प्राप्त नहीं हुई है।

संदर्भ

  1. Cystone Syrup and Cystone Tablets – AYURTIMES.COM
आपको यह भी पसंद आ सकता हैं