कांस्य भस्म के लाभ, औषधीय प्रयोग, मात्रा एवं दुष्प्रभाव

कांस्य भस्म (जिसे कांसा भस्म भी कहा जाता है) एक धातु आधारित आयुर्वेदिक औषधि है। इसे कांस्य धातु अयस्क से बनाया जाता है, जिसमें लगभग 78% तांबा और 22% टिन होता है।

कांस्य भस्म (कांसा भस्म) को आंतों के कीड़ों, कठोर और शुष्क त्वचा वाले त्वचा रोगों और नेत्र विकारों के उपचार में प्रयोग किया जाता है। यह शायद अकेले काम न करे, इसलिए इसका लाभ लेने के लिए सहायकों की आवश्यकता होती है।

मूलभूत जानकारी
औषध श्रेणी भस्म – Bhasma
दोष प्रभाव कफ (Kapha) और वात (Vata) शांत करता है
संभावित क्रिया लेखन
मुख्य संकेत त्वचा रोग, नेत्र रोग और कृमि
विशेष अंगों पर प्रभाव त्वचा, रक्त और आंतें
सुरक्षा प्रोफाइल स्थापित नहीं
खुराक 125 मिलीग्राम से 250 मिलीग्राम
सर्वश्रेष्ठ सह-औषध शहद या गुलकंद (Gulkand)
शेल्फ जीवन जितना पुराना उतना अच्छा

घटक द्रव्य (संरचना)

कांस्य भस्म का मुख्य घटक कांसा है।

कांसे की रासायनिक संरचना

धातु तत्व प्रतिशत (अनुमानतः)
तांबा भार का 78%
टिन भार का 22%
लोहा
गंधक

औषधीय गुण

कांस्य (कांसा) भस्म के निम्नलिखित औषधीय गुण हैं।

  1. कृमिनाशक (वायविडंग के साथ प्रयोग किया जाता है)
  2. पाचन उत्तेजक
  3. आँखों के लिए शक्तिवर्धक औषध
  4. शांतिदायक

आयुर्वेदिक गुण

रस तिक्त और कषाय
गुण लघु, रूक्ष
वीर्य ऊष्ण
विपाक कटु
प्रभाव लेखना
दोष कर्म कफ (Kapha) और वात (Vata) को शांत करता है और पित्त (Pitta) को निर्दोष बनाता है
अंगों पर प्रभाव आंखें, त्वचा और आतें

लाभ और औषधीय उपयोग

कांस्य (कांसा) भस्म में ताम्र भस्म (Tamra Bhasma) और वंग भस्म (Vanga Bhasma) के गुण होते हैं। इसका उपयोग कृमि संक्रमण, त्वचा रोगों और रक्त विकारों में किया जाता है। हालांकि, कांस्य भस्म का वीर्य ऊष्ण है, लेकिन ये अपने तिक्त और कषाय स्वाद के कारण पित्त को शांत करता है। अपने लघु और रूक्ष गुणों के कारण यह वात विकारों में लाभदायक नहीं हो सकता है। इसलिए, इसका उपयोग कफ-पित्त विकारों में किया जाना चाहिए। कांस्य भस्म में तांबा और तीन के तत्व होते हैं। यहां मानव शरीर में तांबा और टिन के कुछ लाभ दिए गए हैं।

यह भी देखें  पिष्टी परिभाषा, अवधारणा, बनाने की विधि, भावना द्रव्य, पिष्टी के लक्षण, विशेषता और संरक्षण

तांबे के लाभ

  1. लाल रक्त गठन
  2. प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए महत्वपूर्ण
  3. मज्जा गठन
  4. प्रतिउपचायक
  5. तांबे को ऊर्जा बनाने की आवश्यकता होती है
  6. यकृत से पित्त स्राव को उत्तेजित करता है और पेशियों की गति को बढ़ाता है और कब्ज का उपचार करता है

टिन के लाभ

  1. अधिवृक्क ग्रंथि कार्यों को समर्थन करता है
  2. थकान को कम करता है और त्वचा की समस्याओं का उपचार करता है
  3. पाचन में सुधार करता है
  4. बालों की बढ़वार को समर्थन करता है
  5. सजगता बढ़ाता है
  6. कैंसर विरोधी
  7. नींद लाता है और अनिद्रा का उपचार करता है
  8. टिन अन्य उपचारों के साथ उपचार में विफलता के साथ अवसाद के मामलों में भी काम करता है
  9. आंत्र परजीवी

आंखों के लिए लाभदायक

कांस्य भस्म आँखों के लिए लाभदायक है। यह दृष्टि में सुधार लाने में मदद करता है। इसमें तांबा होता है, जो आयु से संबंधित आँख की मैक्यूला के व्यपजनन की रोकथाम और बाधित प्रगति के लिए आवश्यक है। तांबा प्रतिउपचायक भी होता है, जो शरीर में मुक्त कणों से लड़ने में मदद करता है। आंखों में, यह लचीले संयोजी ऊतकों का स्वास्थ्य बनाये रखता है। ऑप्टिक न्यूरोपैथी में, यह दृष्टि की गिरावट को रोकता है।

आंत्र परजीवी (कृमि)

कांस्य भस्म में टिन होता है जिसमें कृमिनाशक गुण होते हैं। तांबा शरीर की गैर-विशिष्ट रोग प्रतिरोधक शक्ति के निर्माण में मदद करता है, जो शरीर को सभी प्रकार के रोगाणुओं और साथ ही परजीवी से लड़ने में मदद करता है।

कृमि संक्रमण में, कांस्य भस्म को वायविडंग चूर्ण और अन्य उपचारों के साथ प्रयोग किया जाना चाहिए:

यह भी देखें  स्वर्ण भस्म (Swarna Bhasma in Hindi)
उपचार मात्रा
कांस्य भस्म 125 मिलीग्राम *
अजवायन – Carom Seeds 500 मिलीग्राम *
वायविडंग चूर्ण 1000 मिलीग्राम *
* कांस्य भस्म और भोजन या किसी भी प्रकार के भोजन के बीच 3 घंटे का अंतर रखते हुए एक दिन में दो बार

आतंरिक फोड़ा

हालांकि, मवाद निकालना आंतरिक फोड़ों और त्वचा के फोड़ों सहित सभी प्रकार के फोड़ों के लिए एक अच्छा तरीका है। कुछ मामलों में, एंटीबायोटिक उपचार के अतिरिक्त आंतरिक फोड़ों को सर्जरी की आवश्यकता भी होती है।

आयुर्वेद में, कांस्य भस्म सभी प्रकार के फोड़ों के लिए सबसे अच्छा है, खासकर आंतरिक फोड़ों के लिए। यह मवाद को सुखाता है और संक्रमण के प्रसार को रोकता है। कांस्य भस्म में रोगाणुरोधी, जीवाणुरोधी और एक कोशिकीय जंतुओं को नष्ट करने वाली क्रियाऐं भी होती हैं, इसलिए यह संबंधित संक्रमणों को भी समाप्त कर देता है।

मात्रा एवं सेवन विधि

कांस्य भस्म की खुराक तालिका
शिशु अनुशंसित नहीं
बच्चे 30 से 60 मिलीग्राम *
वयस्क 60 से 250 मिलीग्राम *
गर्भावस्था अनुशंसित नहीं
वृद्धावस्था 60 से 125 मिलीग्राम *
अधिकतम संभावित खुराक (प्रति दिन या 24 घंटों में) 500 मिलीग्राम (विभाजित मात्रा में)
* शहद या गुलकंद (Gulkand) के साथ एक दिन में दो बार

किस प्रकार सेवन करें

कांस्य भस्म को रोग के अनुसार उपयुक्त सह-औषधि और सहायक आयुर्वेदिक औषधियों के साथ लिया जाना चाहिए। भोजन और कांस्य भस्म के बीच तीन घंटे का अंतर रखा जाना चाहिए।

सुरक्षा प्रोफाइल

कांस्य भस्स उपरोक्त सूचीबद्ध स्थितियों में उपयोगी हो सकती है, लेकिन इसे किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक की देखरेख में लिया जाना चाहिए। थोड़े समय (4 सप्ताह से कम) के लिए कांस्य भस्म के उपयोग के साथ कोई दुष्प्रभाव नहीं देखा गया है।

यह भी देखें  हीरक भस्म (हीरा भस्म या वज्र भस्म) के लाभ, औषधीय प्रयोग, मात्रा एवं दुष्प्रभाव

कांस्य भस्म के दुष्प्रभाव

हालांकि, अच्छी तरह से निर्माण की गयी कांस्य भस्म का कोई दुष्प्रभाव नहीं देखा गया है, लेकिन ठीक से ना बनी हुई कांस्य भस्म अपूर्ण प्रसंस्करण विधियों के कारण निम्नलिखित दुष्प्रभावों का कारण हो सकती है।

  1. गुदा विदर (आमतौर पर कच्चे तांबे की उपस्थिति के साथ देखा जाता है)
  2. मतली
  3. चक्कर

विपरीत संकेत

निम्नलिखित रोगों में, कांस्य भस्म उपयोग करने के लिए उपयुक्त नहीं है।

  • गुदा विदर
  • गुर्दों की क्षति और वृक्कीय विफलता

संदर्भ

  1. Kansya (Kansa) Bhasma – AYURTIMES.COM
आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करें
AYURVEDIC CONSULTATION
अपने शरीर के बारे में जानें
Dosha Quiz (Body Type Test)

Ayurvedic Skin Type Quiz