भस्म एवं पिष्टी

कान्त लौह भस्म के लाभ, औषधीय प्रयोग, मात्रा एवं दुष्प्रभाव

कान्त लोह भस्म (Kaant Lauh Bhasma) आयरन आक्साइड से तैयार एक खनिज आधारित आयुर्वेदिक औषधि है। यह चिकित्सीय रूप से लौह-अल्पताजन्य रक्ताल्पता, पीलिया, इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम और रक्तलायी रक्ताल्पता के मामलों में  उपयोगी है।

घटक द्रव्य

कांत लौह (शुद्ध आयरन ऑक्साइड)

कांत लौह की शुद्धि के लिए प्रयुक्त की जाने वाली सामग्री:

  • छाछ
  • कुलथी काढ़ा

प्रसंस्करण के लिए प्रयुक्त जड़ी-बूटियों:

  1. एलो वेरा रस
  2. जांबुल पेड़ की छाल

रासायनिक संरचना

आयरन ऑक्साइड

औषधीय कर्म (Medicinal Actions)

कांत लौह भस्म में निम्नलिखित उपचार के गुण हैं।

  1. रक्तकणरंजक (हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ाता है)
  2. हेमेटोजेनिक (लाल रक्त कोशिकाओं के गठन में मदद करता है)
  3. बिलीरुबिन को कम करता है
  4. वसा दाहक

चिकित्सकीय संकेत (Indications)

कांत लौह भस्म निम्नलिखित रोगों में उपयोगी है।

  1. लौह-अल्पताजन्य रक्ताल्पता
  2. रक्तलायी रक्ताल्पता
  3. सामान्य दुर्बलता
  4. पीलिया
  5. शीघ्रकोपी आंत्र सिंड्रोम

लाभ और औषधीय उपयोग

आम तौर पर, कांत लौह भस्म के लौह यौगिकों का उपयोग रक्ताल्पता में किया जाता है। इसकी जैवउपलब्धता किसी भी अन्य लोहे के पूरक से अधिक है। यह लाल रक्त कोशिकाओं के गठन को बढ़ावा देता है।

लौह-अल्पताजन्य रक्ताल्पता (Iron deficiency anemia)

लौह आधारित औषधि होने के कारण, कांत लौह भस्म शरीर में लौह आवश्यकताओं की भरपाई करने में मदद करता है। यह आंतों के द्वारा रक्त में लोहे के अवशोषण में भी सुधार करता है।

यह रक्ताल्पता के लक्षणों जैसे अत्यधिक थकान, कमजोरी, पीली त्वचा और श्वास लेने में परेशानी, सिरदर्द, सिर  में भारीपन, जीभ पर छाले, हाथ या पैर ठंडे होना, तेज धड़कन, कमजोर नाखून इत्यादि को कम कर देता है। यह भूख में सुधार करता है और मिट्टी, धरती या गंदगी जैसी गैर-पौष्टिक चीजों की लालसा कम करता है।

रक्तलायी रक्ताल्पता (Hemolytic anemia)

रक्तलायी रक्ताल्पता लाल रक्त कोशिकाओं की एक असामान्य टूटन है। यह कारणों के आधार पर दो प्रकार के होते हैं।

  1. वंशानुगत (विरासत में मिली) रक्तलायी रक्ताल्पता
  2. अभिगृहीत रक्तलायी रक्ताल्पता

कांत लौह भस्म अधिग्रहित रक्तलायी रक्ताल्पता के मामले में अच्छी तरह से काम करता है। हालांकि, वंशानुगत या विरासत में मिली रक्तलायी रक्ताल्पता (थैलेसीमिया और सिकल सेल रोग सहित) के मामलों में भी इसका उपयोग किया जा सकता है।

पीलिया

आयुर्वेद में, लौह पूरक का उपयोग भी पीलिया के उपचार के लिए किया जाता है। कांत लौह भस्म रक्त में बिलीरुबिन के स्तर को कम करने और जिगर कार्यों का समर्थन करने में मदद करता है।

इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम

कांत लौह भस्म कब्ज के साथ इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम के लिए एक अच्छा उपाय है। यह कब्ज को ठीक करता है और पेट में परेशान और असुविधा को कम करता है।

इसका उपयोग गठिया, मधुमेह और जीर्ण ज्वर में भी किया जाता है।

मात्रा एवं सेवन विधि

कांत लौह भस्म की खुराक एक दिन में दो बार लगभग 50 मिलीग्राम से 250 मिलीग्राम तक है। कांत लौह भस्म की प्रति दिन खुराक 500 मिलीग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए।

सहौषधि

  • च्यवनप्राश (Chyawanprash): सामान्य दुर्बलता और रक्ताल्पता के मामले में
  • पिप्पली और शहद पीलिया के मामले में

संदर्भ

  1. Kanta Loha Bhasma – AYURTIMES.COM

Subscribe to Ayur Times

Get notification for new articles in your inbox

Dr. Jagdev Singh

डॉ जगदेव सिंह (B.A.M.S., M.Sc. Medicinal Plants) आयुर्वेदिक प्रैक्टिशनर है। वह आयुर्वेद क्लिनिक ने नाम से अपना आयुर्वेदिक चिकित्सालय चला रहे हैं।उन्होंने जड़ी बूटी, आयुर्वेदिक चिकित्सा और आयुर्वेदिक आहार के साथ हजारों मरीजों का सफलतापूर्वक इलाज किया है।आयुर टाइम्स उनकी एक पहल है जो भारतीय चिकित्सा पद्धति पर उच्चतम स्तर की और वैज्ञानिक आधार पर जानकारी प्रदान करने का प्रयास कर रही है।

Related Articles

Check Also
Close
Back to top button