मुक्ता पिष्टी (मोती पिष्टी) एवं मुक्ता भस्म (मोती भस्म)

Mukta Pishti (Moti Pishti) and Mukta Bhasma (Moti Bhasma)

मुक्ता पिष्टी (मोती पिष्टी) एवं मुक्ता भस्म (मोती भस्म) एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक औषधि है। यह शरीर में गर्मी को कम करता है और पाचन तंत्र में शीतलता लाता है। यह अम्ल स्राव को संतुलित करता है, इसलिए यह जठरांत्र और अम्ल अपच के आयुर्वेदिक प्रबंधन का एक महत्वपूर्ण अंग है।

दो प्रकार के निर्माण बाजार में उपलब्ध हैं।

  1. मुक्ता पिष्टी या मोती पिष्टी: इसे मोती के महीन चूर्ण को गुलाब जल के साथ पीसकर बनाया जाता है।
  2. मुक्ता भस्म या मोती भस्म: इसका निर्माण निस्तापन विधि द्वारा किया जाता है। पहले से ही कूटे हुए मोती के महीन चूर्ण को आंच दी जाती है।

मुक्ता भस्म की तुलना में मुक्ता पिष्टी अधिक लाभप्रद है। इसमें अधिक शीतलक गुण होते हैं और अच्छी गुणवत्ता का उच्च अवशोषित कैल्शियम प्रदान करता है।

घटक द्रव्य (संरचना)

  1. मोती (मुक्ता)
  2. गुलाब जल

रासायनिक संरचना

कैल्शियम कार्बोनेट 82-86%
कोंचिओलिन 10-14%
जल (H2O) 2-4%

औषधीय गुण

मुक्ता पिष्टी में निम्नलिखित उपचार के गुण हैं।

  • अम्लत्वनाशक
  • दाहक विरोधी
  • वातनिरोधक
  • ज्वरनाशक
  • उच्च रक्तचाप नाशक
  • शांतिदायक
  • उत्परिवर्तजन विरोधी
  • तापहर
  • अल्पशर्करारक्तता
  • वसा दाहक
  • गठिया नाशक
  • मांसपेशियों के लिए आरामदायक
  • प्रतिउपचायक
  • अडाप्टोजेनिक
  • कैंसर विरोधी
  • तनाव विरोधी
  • अवसाद नाशक
  • आक्षेपरोधी

आयुर्वेदिक गुण

रस मधुर
गुण लघु
वीर्य शीत
विपाक मधुर
प्रभाव – उपचारात्मक प्रभाव दृष्टि, पाचन में सुधार और शक्ति प्रदान करता है
दोष कर्म (भावों पर प्रभाव) पित्त (Pitta)और कफ (Kapha) को शांत करता है
अंगों पर प्रभाव पेट, आंतों, मस्तिष्क, हृदय, नसों, गुर्दों, मूत्राशय, प्रजनन अंग, अंत: स्रावी ग्रंथियां

चिकित्सीय संकेत

मुक्ता पिष्टी निम्नलिखित स्वास्थ्य स्थितियों में सहायक है।

  • तनाव संबंधी विकार
  • अवसाद
  • चिंता
  • दैहिक लक्षण विकार (SSD)
  • असहनीय भावनात्मक अतिरेक (मिर्गी)
  • क्रोध
  • अनिरंतर विस्फोटक विकार
  • अनिद्रा
  • कार्डियोमायोपैथी (हृदय की पेशियों का रोग)
  • उच्च रक्त चाप
  • बिना बलगम की खाँसी
  • गले में जलन के कारण खांसी
  • अम्लता या सीने में जलन
  • तीव्र और जीर्ण जठरशोथ
  • ग्रहणी व्रण और पाचक व्रण
  • मुँह में छाला
  • सव्रण बृहदांत्रशोथ
  • मसूड़े की सूजन
  • दांत की सड़न
  • ऑस्टियोपोरोसिस
  • अस्थिमृदुता
  • निम्न अस्थि खनिज घनत्व
  • जोड़ों में दर्द या ऑस्टियोपोरोसिस
  • पैरों में मृदुता और जलन जैसे लक्षणों के साथ गठिया
  • झिल्लीदार कष्टार्तव
  • प्रागार्तव (PMS)
  • रजोनिवृत्ति
  • अत्यधिक गर्भाशय रक्तस्राव
  • अल्पपरावटुता (पैराथायरेक्ट ग्रंथि की कम हुई गतिविधि)

मुक्ता पिष्टी के लाभ और औषधीय उपयोग

चिकित्सीय रूप से, मुक्ता पिष्टी रक्तस्राव विकारों, सीने में जलन, अम्लता, जठरशोथ, भाटापा रोग, नकसीर, मानसिक कमजोरी, चिंता, अवसाद, आँखों में जलन, सिरदर्द, बार बार पेशाब आना, कार्डियोमायोपैथी (हृदय की पेशियों का रोग), अनिद्रा आदि में मदद करता है।

मुक्ता पिष्टी प्राकृतिक कैल्शियम पूरक के रूप में भी व्यावहारिक है। इसका कैल्शियम अत्यधिक सूक्ष्म और उत्कृष्ट और पेट में अवशोषित होता है। यह हड्डियों, जोड़ों और मांसपेशियों को ताकत प्रदान करता है। कैल्शियम कोशिकाओं, मांसपेशी कोशिकाओं, नसों और हड्डियों के इष्टतम कार्य के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए, मुक्ता पिष्टी मानव शरीर में महत्वपूर्ण कार्यों में सहायता प्रदान करता है। आइए हम मुक्ता पिष्टी के महत्वपूर्ण स्वास्थ्य लाभ और औषधीय उपयोगों के बारे में चर्चा करें।

तनाव विकार, अवसाद, चिंता और क्रोध

आयुर्वेद के अनुसार, तीन दोष हर रोग में भूमिका निभाते हैं। यह मानसिक विकारों के लिए समान है। पित्त दोष बढ़ा हो तो मुक्ता पिष्टी काम करती है। पित्त उत्तेजना के लक्षण इस प्रकार हैं:

  • अत्यधिक क्रोध
  • छोटी छोटी बातों पर चिढ़ना
  • कुंठा
  • निद्रा संबंधी बाधा
  • अनिद्रा (नींद ना आना)
  • व्याकुलता
  • बेचैनी
  • घबराहट
  • आक्रामक व्यवहार
  • क्रोध
  • शोर सहन नहीं होना
  • अधिक पसीना आना
  • डर के साथ पसीना आना
  • आत्मघाती विचार
  • बालों का समय पूर्व सफ़ेद होना
  • बाल झड़ना
  • सिर में गर्मी महसूस करना
  • सिर में जलन महसूस करना

यदि किसी में उपरोक्त लक्षण हैं तो तनाव विकारों या अवसाद के उपचार के लिए मुक्ता पिष्टी एक पसंदीदा औषधि है। पित्त के लक्षणों के साथ अवसाद में, निम्नलिखित हर्बल चूर्ण का संयोजन लाभदायक है।

आयुर्वेदिक उपचार खुराक
मुक्ता पिष्टी (Mukta Pishti) 125 मिलीग्राम *
जटामांसी (Nardostachys Jatamansi) 500 मिलीग्राम *
मुलेठी चूर्ण – Mulethi 500 मिलीग्राम *
शंखपुष्पी (Shankhpushpi – Convolvulus Pluricaulis) 500 मिलीग्राम *
ब्राह्मी (Gotu Kola (Centella Asiatica) 500 मिलीग्राम *
गोमेद पत्थर पिष्टी या भस्म (Gomed Stone Pishti or Bhasma) 125 मिलीग्राम *

* दिन में दो बार पानी के साथ

क्रोध

हमने यह भी देखा है कि अधिकांश रोगियों में मुक्ता पिष्टी क्रोध और चिड़चिड़ेपन को कम कर देता है। हम निम्नलिखित उपचारों से क्रोध का करते हैं।

आयुर्वेदिक उपचार खुराक
मुक्ता पिष्टी 125 मिलीग्राम *
जटामांसी (Nardostachys Jatamansi) 500 मिलीग्राम *
मुलेठी चूर्ण – Mulethi 1000 मिलीग्राम *
आमला चूर्ण (Indian Gooseberry) 1000 मिलीग्राम *

* दिन में दो बार पानी के साथ

हम केवल अतिरिक्त पित्त दोष का उपचार करते हैं, जो अंततः गुस्सा होने और मानसिक चिड़चिड़ेपन की आदत को कम कर देता है।

दैहिक लक्षण विकार

दैहिक लक्षण विकार का पूर्व नाम सोमाटोफोर्म विकार है। रोगी अस्पष्टीकृत दर्द के बारे में शिकायत करते हैं, जिसका कोई भौतिक कारण नहीं होता है। यह विकार जीर्ण और दीर्घकालिक होता है। इस रोग में शरीर के कई अंग शामिल होते हैं। यदि रोगी में निम्न लक्षण उपस्थित है तो दैहिक लक्षण विकार के लिए मुक्ता पिष्टी आयुर्वेदिक उपचार होगा।

  • उदर में जलन के साथ दर्द
  • स्मृति हानि या विस्मरण
  • पीठ दर्द
  • चक्कर आना
  • सिरदर्द (तेज दर्द)
  • घबराहट
  • दृष्टि परिवर्तन

सीने में जलन या अम्लता

सीने में जलन या अम्लता के लिए मुक्ता पिष्टी एक पसंदीदा औषधि है। यह पेट में अतिरिक्त अम्ल को निष्क्रिय कर देता है और अम्लता और सीने में जलन से तत्काल राहत प्रदान करता है।

यह पाचन में सुधार और पेट में अतिरिक्त अम्ल के कारण अपच को कम करता है। हालांकि, हो सकता है की कफ के लक्षणों जैसे भोजन करते समय या बाद में पेट में भारीपन, सफ़ेद जीभ आदि के कारण होने वाले अपच में यह काम ना करे।

तीव्र और जीर्ण जठरशोथ

मुक्ता पिष्टी में दाहक विरोधी गुण होते हैं, जो जठरीय म्यूकोसा (पेट की परत) पर दिखाई देते हैं। जठरशोथ के संक्रमण, अल्सर, चोट, शराब, आदि सहित कई कारण हो सकते हैं। मुक्ता पिष्टी किसी भी अंतर्निहित कारण से होने वाले जठरशोथ में राहत प्रदान करता है।

मुक्ता पिष्टी तीव्र और जीर्ण दोनों प्रकार के जठरशोथ में मदद करता है। यह जलन के साथ दर्द, मतली और उदर के ऊपरी भाग में भारीपन जैसे लक्षणों में तुरंत आराम पहुंचाता है।

खुराक

न्यूनतम प्रभावी खुराक 25 मिलीग्राम *
मध्यम खुराक (वयस्क) 60 मिलीग्राम से 125 मिलीग्राम *
मध्यम खुराक (बच्चे) 25 मिलीग्राम ते 125 मिलीग्राम *
अधिकतम संभावित खुराक 250 मिलीग्राम *

* दिन में दो बार

दुष्प्रभाव

मुक्ता पिष्टी का कोई दुष्प्रभाव नहीं है और यह संभवतः सुरक्षित है। यह आधुनिक कैल्शियम कार्बोनेट पूरकों की तरह किसी भी तरह की जठरीय जलन, पेट की परेशानी, उबकाई या गैस का कारण नहीं है। यह प्राकृतिक स्रोत से प्राप्त होता है, इसलिए यह प्राकृतिक कैल्शियम है। गुलाब जल के साथ प्रसंस्करण इसे अधिक सौम्य और सूक्ष्म बना देता है, जिससे यह शरीर में अत्यधिक अवशोषित होता है और उन सभी रोगों में अत्यधिक प्रभावी होता है जिसमें इसका उपयोग चिकित्सीय रूप में किया जाता है। मुक्ता पिष्टी ज्यादातर रोगियों में बिना किसी अवांछित प्रभाव के अत्यधिक सहनीय है। किसी भी रोगी ने मुक्ता पिष्टी का उपयोग करने के कारण होने वाले दुष्प्रभाव की शिकायत नहीं की है।

गर्भावस्था और स्तनपान

मुक्ता पिष्टी गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए अच्छा प्राकृतिक कैल्शियम है। यह गर्भावस्था में संभवतः सुरक्षित और अच्छी तरह से सहनीय है।

विपरीत संकेत (Contraindications)

किसको मुक्ता पिष्टी (मोती कैल्शियम) नहीं लेना चाहिए?

यदि आपको निम्नलिखित रोगों में से कोई भी है, तो आपको मुक्ता पिष्टी शुरू करने से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

  1. गुर्दे की पथरी
  2. खून में बढ़े हुए कैल्शियम का स्तर
  3. शरीर के तरल पदार्थों का नुकसान
  4. पैराथाइरॉइड ग्रंथि की सक्रियता

संदर्भ

  1. Mukta Pishti (Moti Pishti)– AYURTIMES.COM

संबंधित पोस्ट

Comments are closed.