लोध्रासव (Lodhrasava or Lodhrasavam)

लोध्रासव

लोध्रासव (Lodhrasava or Lodhrasavam) का प्रयोग विशेषतः स्तंभनार्थ किया जाता है। यह रक्त का स्तंभन करता है इस लिए यह स्त्रियों में रक्तप्रदर, गर्भाशय से होने वाला असामान्य रक्तस्राव और माहवारी समय होने वाला भारी रक्तस्राव आदि में किया जाता है। इसका स्तंभन कार्य होने से यह श्वेतप्रदरह (leucorrhea) में …

Read More »

अश्वगंधारिष्ट (Ashwagandharishta or Aswagandharishtam)

अश्वगंधारिष्ट

अश्वगंधारिष्ट मुख्यतः बृहण और बल्य औषधि है जो शरीर और मन को ताकत देती है और शरीर के घटको को मजबूत बनाती है। यह शरीर में स्फूर्ति लाता है और वीर्य की शुद्धि और वृद्धि करता है। यह रक्त वाहिनियाँ (blood vessels), वातवाहिनियों (nerves) और सभी धातुओं को सबल बनाता है और …

Read More »

अर्जुनारिष्ट (Arjunarishta)

अर्जुनारिष्ट

अर्जुनारिष्ट (Arjunarishta) ह्रदय से सम्बंधित विकारों के लिए अत्यंत लाभदायक औषधि है। हालांकि यह बिना किसे दोष के विचार किये सभी ह्रदय रोगोयों को दिया जा सकता है। पर यह यह अरिष्ट पित्तप्रधान लक्षणों में अति उत्तम काम करता है। यह रक्त वाहिनियाँ की शिथिलता को दूर करता है और …

Read More »

दिव्य अर्शकल्प वटी (Divya Arshkalp Vati)

दिव्य अर्शकल्प वटी

दिव्य अर्शकल्प वटी (Divya Arshkalp Vati) बवासीर और भंगदर जैसी बिमारियों के निवारण के लिए के एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि हैं और इस औषधि का मुख्य रूप से प्रयोग इन्हीं बिमारियों के लिए किया जाता हैं। इस रोग में अक्सर आपरेशन की सलाह दी जाती हैं, ऐसे में यदि रोग की शुरुआत …

Read More »

दशमूलारिष्ट (Dasamoolarishtam)

दशमूलारिष्ट

दशमूलारिष्ट (Dasamoolarishtam या Dashmularishta) एक अति लाभप्रद औषधि है। इसके सेवन से विभिन्न प्रकार के रोगों में लाभ मिलता है। मुख्य रूप से वात संबंधी विकारों, उदर रोग और मूत्र रोगों में लाभ देती है। यह औषधि बन्ध्या महिला को संतान प्राप्ति में सहायक है, गर्भाशय की शुद्धि करती है …

Read More »

दिव्य मधुकल्प वटी (Divya Madhukalp Vati)

दिव्य मधुकल्प वटी

दिव्य मधुकल्प वटी (Divya Madhukalp Vati) मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए के बेहतरीन औषधि हैं। इसका प्रयोग मुख्य रूप से रक्त में शक्कर की मात्रा को नियंत्रित करने लिए किया जाता हैं। मधुकल्प वटी खून में ग्लूकोज़ की मात्रा कम करने में मदद करती हैं। इसके लगातार सेवन से मधुमेह …

Read More »

दिव्य मेधा वटी (Divya Medha Vati)

दिव्य मेधा वटी

दिव्य मेधा वटी एक आयुर्वेदिक औषधि है जो दिमाग, नसों एवं ज्ञान इंद्रियों पर काम करती है।  यह स्मरणशक्ति व बुद्धि वर्धक दवा है। यह औषधि ऐसी जड़ी-बूटियों का मिश्रण है जो याददाश्त को इसके साथ साथ एकाग्रता को भी बढाती है, इसलिये दिव्य मेधा वटी बड़ों के साथ साथ बच्चो …

Read More »

दिव्य हृदयामृत वटी (Divya Hridyamrit Vati)

दिव्य हृदयामृत वटी

दिव्य हृदयामृत वटी (Divya Hridyamrit Vati) दिल से सम्बंधित रोगो और ह्रदय रोगों के लिए एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि है। इसका सेवन मुख्य रूप से ह्रदय सम्बंधित रोगो का उपचार करने के लिए किया जाता हैं। यह औषधि मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करती हैं और दिल से सम्बंधित रोगो की …

Read More »

दिव्य मेदोहर वटी (Divya Medohar Vati in Hindi)

दिव्य मेदोहर वटी

दिव्य मेदोहर वटी (Divya Medohar Vati) आयुर्वेदिक गुणों वाली एक दवाई हैं जिसका प्रयोग वजन को कम करने के लिए किया जाता हैं। यह पेट की चर्बी को कम करने, चयापचय को सही करने और पाचन संबंधी स्वास्थ्य को सुधारने में बहुत असरकारक हैं। वजन कम करने का यह हर्बल …

Read More »

अस्थमा या दमा – श्वास रोग

अस्थमा या दमा (श्वास)

अस्थमा (Asthma) या दमा एक श्वास रोग है जिसमें श्वास नलिका अथवा वायुमार्ग में सूजन आ जाती है और वायुमार्ग संकीर्ण हो जाते है। कुछ में बलगम भी उत्पन्न होती है। जिस के कारण साँस लेने में तकलीफ होने लगती है। इसके अतिरिक्त रोगी को खांसी भी हो सकती है …

Read More »