जड़ी बूटी, आयुर्वेद, स्वास्थ्य, घरेलू नुस्खे, रोगों के बारे में हिंदी में जानें

चूर्ण – आयुर्वेदिक चूर्णों की सूची

चूर्ण या आयुर्वेदिक पाउडर एक प्रकार की आयुर्वेदिक औषधि की एक श्रेणी है जिसमें एक या एक से ज्यादा जड़ी बूटियों को महीन पीसकर, कपड़े या बारीक चलनी में छानकर तैयार किया जाता है। "रज" या "क्षोद" चूर्ण के ही पर्यायवाची नाम हैं। चूर्ण बनाने की विधि एवं तैयारी चूर्ण सूखी और साफ जड़ी बूटियों से तैयार किया जाता है। चूर्ण बनाने से पहले, धूल हटाने के लिए…
Read More...

गुड़मार अर्क

गुड़मार अर्क या गुरमार अर्क (Gudmar Arq) मधुमेह की एक उत्तम औषधि के रूप में प्रयोग की जाती है। यह रक्त शर्करा के स्तर को कम करने के लिए एक कारगर दवा है। इसका प्रयोग मुख्य रूप से रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है। इसके अतिरिक्त यह बड़े हुए कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को भी कम करता है। यह ह्रदय के लिए भी एक अच्छा…
Read More...

बंधानी हींग

बंधानी हींग (Compounded Asafoetida) पाचन रोगों तथा पेट की बीमारियों के लिए एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि है। हींग का पुराने ज़माने से ही पेट की बिमारियों को ठीक रखने के लिए प्रयोग किया जाता रहा हैं। यह गैस से राहत देता हैं और पाचन तंत्र को ठीक रखता हैं, इसके नियमित सेवन से खाना आसानी से और प्राकृतिक तरीके से पच जाता हैं। बन्धानी हींग न केवल पाचन रोगों…
Read More...

ऋतु हरीतकी – सदा स्वस्थ रहने के लिए कैसे करें हरड़ का प्रयोग

स्वास्थ्य लाभ के लिए ऋतु के अनुसार हरीतकी (हरड़) का सेवन उपयुक्त अनुपान के साथ करने की विधि को आयुर्वेद में ऋतु हरीतकी कहा जाता है। आयुर्वेद की मान्यता है कि प्रत्येक व्यक्ति की शारीरिक एवं मानसिक प्रकृति के अनुसार और वातावरण में होने वाले बदलाव के अनुसार औषधि और उनके अनुपानों में भी अंतर आता है। औषधि अच्छे गुणों के लिए हमें इन बातों का ध्यान रखना…
Read More...

शिवलिंगी बीज

शिवलिंगी बीज एक आयुर्वेदिक औषधि हैं जिसका घटक सिर्फ एक बीज ही हैं और वो हैं ब्रयोनोप्सिस लेसिनियोसा का बीज जिसे समान्यतया शिवलिंगी कहा जाता हैं। शिवलिंगी बीज का प्रयोग पुरे देश में प्रजनन क्षमता बढ़ाने और स्त्रियों के रोग विकारो को दूर करने के लिए किया जाता हैं,इसका प्रयोग स्वस्थ बच्चे के जन्म के लिए भी किया जाता हैं। इसके अलावा  शिवलिंगी बीज लिवर,…
Read More...

अश्वगंधा चूर्ण

अश्वगंधा चूर्ण एक आयुर्वेदिक औषधि हैं जो अश्वगंधा नाम का प्राकृतिक जड़ी-बूटी से युक्त हैं, अश्वगंधा जिसे यादाश्त बढ़ाने के लिए जाना जाता हैं।अश्वगंधा को अन्य बुद्धि-सम्बन्धी क्षमतायों  जैसे ध्यान बढ़ाना, ज्ञान-संबंधी निपुणता और एकाग्रता में सुधार करने के लिए प्रयोग किया जाता है। यह एक तनाव को दूर करने का काम भी करता हैं। यह सामान्य कमजोरी का इलाज़ करने…
Read More...

तनाव के लिए लाभदायक है ब्राह्मी

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में सबसे बड़ा रोग हैं तनाव और चिंता, जो दूसरी बिमारियों का भी मूल कारण हैं। इसी तनाव और चिंता को दूर करने के लिए सर्वोत्तम आयुर्वेदिक औषधि हैं- ब्राह्मी। कुदरती जड़ी-बूटियों से बनी यह औषधि तनाव, चिंता और अवसाद को दूर करके दिमाग को शांति प्रदान करती हैं। ब्राह्मी के बाजार में मिलने वाले पाउडर में जड़ी-बूटियों की पर्याप्त…
Read More...

बादाम रोगन (मीठे बादाम का तेल)

बादाम रोगन को आमतौर पर रोग़न बादाम शिरीन, बादाम का तेल और मीठा बादाम का तेल भी कहा जाता हैं। बादाम में लगभग 44 प्रतिशत तेल होता हैं, और इसका प्रयोग आंतरिक और बाहरी दोनों तरह प्रयोग किया जा सकता हैं जैसे की कुछ समस्याओ में बादाम के तेल से मालिश कर के राहत मिलती हैं वहीँ इसका दवाई के रूप में भी सेवन किया जाता हैं। बादाम का तेल त्वचा और बालों के लिए…
Read More...

अरविन्दासव घटक द्रव्य, प्रयोग एवं लाभ, मात्रा, दुष्प्रभाव

अरविन्दासव (Arvindasava या Aravindasavam) आसव श्रेणी में वर्गीकृत एक आयुर्वेदिक औषधि हैं। शिशुओं और बच्चों में पाचन टॉनिक के रूप में प्रयोग किया जाता है। अरविन्दासव विशेष रूप से बच्चों के विभिन्न रोगों का नाश करता है, उन्हें पुष्ट और निरोगी बनाता है, उनकी भूख बढ़ाता है और उनके गृहदोष और मानसिक समस्याएं दूर करता है। यह बच्चों की शारीरिक और मानसिक…
Read More...

जड़ी बूटियों के नाम

प्राचीन काल से ही जड़ी बूटियों का प्रयोग आयुर्वेद और अन्य चिकित्सा प्रणालियों में स्वास्थ्य लाभ के किया जाता रहा हैं। उनमें से हम कुछ विशेष जड़ी बूटियों के नाम की सूची यहाँ दे रहे हैं। जड़ी बूटियों के नामों की सूची जड़ी बूटियों के नाम की सूची हिंदी में निम्नलिखित हैं: अगरु अगस्त्य अग्निमन्थ अजमोदा अतसी अतिबला अतिविषा…
Read More...