पतंजलि अमृत रसायन (Patanjali Amrit Rasayan या Divya Amrit Rasayana) मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि है। इसमें मौजूद आयुर्वेदिक और हर्बल जड़ी-बूटियां शरीर के सभी अंगो का पोषण करती है और उनको बल प्रदान करती है। यह रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढानें के लिए अतिउत्तम औषधि है। यह मस्तिक को पोषण देने वाला और शारीरिक सवस्थ को ठीक रखने में सहायता करता है। इसमें मुख्य आमला होने के कारण यह विटामिन सी से भरपूर है और इसमें अन्य खनिज और विटामिन भी है जो शारीर को सवस्थ के लाभदायक है।

दिव्य अमृत रसायन से शरीर को ऊर्जा मिलती है और शरीर का कायाकल्प होता है। इसके अलावा यह स्वास्थ्य के लिए अच्छा टॉनिक है। इससे पाचन क्रिया सही रहती है। इससे उम्र बढ़ने का शारीर पर प्रभाव कम होता है और बहुत सी बीमारियों से बचाव होता है। यह रोगों से शरीर की सुरक्षा करने में यह औषधि बहुत ही आवश्यक है। बच्चो के दिमाग के लिए भी यह बहुत लाभदायक हैं। इससे बच्चो की स्मरण शक्ति बढ़ती है।

दिव्य अमृत रसायन  के घटक

दिव्य अमृत रसायन निम्नलिखित घटको से मिला कर बनाई गयी है :-

घटक द्रव्यमात्रा (10 ग्राम में है:)
चीनी7.4 ग्राम
आंवला पिष्टी2.4144 ग्राम
केशर0.6 मिलीग्राम
प्रक्षेप द्रव्य:
ब्राह्मी63.3 मिलीग्राम
शंखपुष्पी63.3 मिलीग्राम
बादाम64.4 मिलीग्राम
शतावरी31.5 मिलीग्राम
छोटी इलाइची31.5 मिलीग्राम
दालचीनी31.5 मिलीग्राम
पीपली बड़ी31.5 मिलीग्राम
शुद्ध कौंच बीज31.5 मिलीग्राम
वंशलोचन31.5 मिलीग्राम

औषधीय कर्म (Medicinal Actions)

दोष कर्म (Dosha Action)मुख्यतः पित शामक

पतंजलि अमृत रसायन (Patanjali Amrit Rasayan) में निम्नलिखित औषधीय गुण है:

  • रोग प्रतिरोधक शक्ति वर्धक
  • ओजोबर्धक
  • रसायन
  • मेध्य
  • बुद्धिवर्धक
  • स्मरण शक्ति वर्धक
  • चक्षुष्य – आंखों के लिए फायदेमंद
  • ह्रदय – दिल को ताकत देने वाला
  • पौष्टिक – पोषण करने वाला
  • बल्य – शारीर और मन को ताकत देने वाला

चिकित्सकीय संकेत (Indications)

पतंजलि अमृत रसायन (Patanjali Amrit Rasayan) निम्नलिखित व्याधियों में लाभकारी है:

  • क्षीण प्रतिरोधक क्षमता में कमी
  • मानसिक दुर्बलता
  • स्मरण शक्ति की क्षति
  • तनाव
  • चिंता
  • डिप्रेशन (अवसाद)
  • सिर दर्द – जलन के साथ होने वाला सिरदर्द
  • छाती में जलन
  • अमलपित्त
  • अमलपित्त के कारण होने वाला क्षुधा नाश या भूख में कमी
  • हृदय की निर्बलता या कमजोरी
  • बुढ़ापे में होने वाले रोग

पतंजलि अमृत रसायन का प्रयोग रसायन अर्थ किया जाता है अर्थात स्वस्थ व्यक्ति भी अपने मन व शरीर को निरोग रखने के लिए इसका सेवन कर सकते है।

लाभ एवं प्रयोग

पतंजलि अमृत रसायन शरीर को पुष्ट करती है और बल एवं वीर्य बढ़ाती है। शरीर और मन को आरोग्य प्रदान करने के लिए और स्वस्थ रखने के लिए यह उत्तम टॉनिक है जिसका हम लगातार बिना कोई हानि के उपयोग कर सकते है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए

दिव्य अमृत रसायन रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ने के लिए सबसे उपयुक्त प्राकृतिक औषधि है। सभी उम्र के लोगो के लिए यह उपयोगी है। शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को यह ठीक रखती है। यह शरीर की कोशिकाओं और ऊतकों को पोषक तत्व प्रदान करती है और पाचन क्रिया सही रखने में भी सहायक है।

बच्चो के दिमाग के लिए

दिव्य अमृत रसायन बच्चो के दिमाग के लिए बहुत लाभदायक है। इसका रोजाना सेवन करने से दिमाग को फायदा होता है और स्मरण शक्ति बढ़ती है। बच्चो के उचित विकास में भी यह औषधि मदद करती है क्योंकि यह शरीर की हड्डियों और ऊतकों के विकास के लिए उपयुक्त पोषक तत्व प्रदान करती है।

शरीर को साफ़ और युवा रखने के लिए

पतंजलि अमृत रसायन शरीर के लिए एक प्राकृतिक कायाकल्प टॉनिक है। यह खून में से हानिकारक और विषैले तत्वो को बाहर निकलने में सहायता करती है। जिससे शरीर के सभी अंग सही से काम कर सकते है। यह औषधि एक एंटी-ऑक्सीडेंट हैं और यह व्यक्ति को युवा और स्वस्थ रहने के लिए मदद करता है।

सर्दी, जुकाम, कमजोरी जैसी बिमारियों के लिए लाभदायक

दिव्य अमृत रसायन शरीर में होने वाले किसी भी तरह के संक्रमण को होने से रोकती है और सर्दी, खांसी, जुकाम, कमजोरी, बालों का झड़ना और आँखों के निचे काले घेरे जैसी बीमारियों की रोकथाम करने में सहायक है। और इन रोगों में इस औषधि को लेने से राहत मिलती है। इसके अलावा इसके सेवन से आँखों की रौशनी को भी बढ़ाती है।

थकान दूर करती है और शरीर को ताज़गी प्रदान करती है

पतंजलि अमृत रसायन शारीरिक और मानसिक थकान दूर करती हैं और शरीर को ताज़गी प्रदान करती हैं। जिन लोगो को लोग भूख न लगने की बीमारी हैं उन्हें भी नियमित रूप से इसका सेवन करने से लाभ मिलता है और कब्ज, अपच, अम्लता, पेट के फूलने और पेट के अन्य रोगों से भी छुटकारा दिलाती हैं।

मात्रा एवं सेवन विधि (Dosage)

पतंजलि अमृत रसायन की सामान्य औषधीय मात्रा व खुराक इस प्रकार है:

औषधीय मात्रा (Dosage)

बच्चे (6 वर्ष की आयु से ऊपर के बच्चे)1 छोटी चम्मच
वयस्क2 छोटी चम्मच

सेवन विधि

दवा लेने का उचित समय (कब लें?)सुबह और शाम
दिन में कितनी बार लें?2 बार
अनुपान (किस के साथ लें?)ऐसे ही खाए या ऐसे ही खाकर आधे घंटे बाद दूध ले सकते है
उपचार की अवधि (कितने समय तक लें)दीर्घकालिक

यदि इसका प्रयोग चिकित्सार्थ करना हो तो आप के स्वास्थ्य अनुकूल अमृत रसायन की उचित मात्रा के लिए आप अपने चिकित्सक की सलाह लें।

दुष्प्रभाव (Side Effects)

यदि पतंजलि अमृत रसायन का प्रयोग व सेवन निर्धारित मात्रा (खुराक) में चिकित्सा पर्यवेक्षक के अंतर्गत किया जाए तो अमृत रसायन के कोई दुष्परिणाम नहीं मिलते।

आयुर्वेदिक डॉक्टर से परामर्श करें
Click Here to Consult Dr. Jagdev Singh