पतंजलि बाम (Patanjali Balm) किसी भी तरह के सिर के दर्द को दूर के लिए एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि है। बाजार में उपलब्ध अन्य औषधियों से पतंजलि बाम सबसे बेहतर और प्राकृतिक उपाय हैं। यह जुकाम, सर्दी और सिर दर्द की रोकथाम के लिए यह बाम सबसे उपयोगी हैं, इसके अलावा जुकाम में होने वाली समस्याओं जैसे कि बुखार, थकावट, खांसी, बंद नाक, गले में दर्द इत्यादि से भी पतंजलि बाम का उपयोग  राहत देता हैं। खास कर कि सर्दियों के मौसम में होने वाले rhinitis जिसका मतलव हैं बहती नाक जैसे रोग और उसके दर्द और लक्षणों से भी मुक्ति दिलाने में पतंजलि बाम लाभदायक हैं।

पतंजलि बाम के घटक

पतंजलि बाम को निम्नलिखित घटको को मिला कर बनाया गया है:

घटक द्रव्यमात्रा
गंधपुरा तेल750 मिलीग्राम
पुदीना सत्व500 मिलीग्राम
नीलगिरि तेल400 मिलीग्राम

पतंजलि बाम के लाभ एवं प्रयोग

पतंजलि बाम में सभी घटकों का जुकाम और सिरदर्द पर प्रभाव पड़ता है। इस औषधि में मौजूद प्रत्येक घटक के प्रभाव का प्रदर्शन करने के लिए यहाँ कुछ महत्वपूर्ण लाभ लिखे हैं।

जुकाम, सर्दी और खाँसी के लिए

पतंजलि बाम जुकाम और खांसी के लिए सबसे असरदार औषधि हैं। सर्दी, खाँसी और जुकाम ऐसे कुछ सामान्य विकार हैं जो सबको होते हैं पर इस दौरान होने वाली समस्याओ से राहत पाना सबसे मुश्किल हैं पर पतंजलि बाम एक ऐसा उपाय हैं जो बिना किसी दुष्प्रभाव के और पूरी तरह से प्राकृतिक तरीके से इन मुश्किलो से राहत दिलाने में मदद करता हैं। ये समस्याएं हैं वहती नाक या rhinitis, थकावट, खांसी, बदन दर्द ,बुखार ,गले में दर्द और खराश आदि। अगर इस दौरान रोजाना पतंजलि बाम के लेप को सिर, गले और पीठ पर लगाया जाये या इस बाम से मालिश की जाये, तो अच्छे परिणाम मिलते हैं और इन समस्याओ से जल्दी ही राहत मिलती हैं।

सिर दर्द में राहत

पतंजलि बाम किन्ही भी वजहों से हो रही सिर दर्द से राहत देता है। सिरदर्द मौसम के बदलाव, असंतुलित खाना-पीना, पेट की गैस, सूर्य की तेज़ गर्मी या किसी भी अन्य कारण से हो सकता है। ऐसे में इस सिर दर्द से निजात पाने के लिए पतंजलि बाम सबसे उपयोगी और आयुर्वेदिक औषधि हैं। यह सिर के चारो के तंत्रिकाओं और ऊतकों का पोषण करता हैं और लगातार हो रहे सिर दर्द से राहत देता हैं। पतंजलि बाम को मालिश करने के लिए प्रयोग किया जा सकता हैं और इससे सिर को खून की आपूर्ति होती हैं और दर्द से राहत मिलती हैं।

आयुर्वेदिक डॉक्टर से परामर्श करें
Click Here to Consult Dr. Jagdev Singh