पित्त दोष के गुण, कर्म, मुख्य स्थान, प्रकार, असंतुलन, बढ़ने और कम होने के लक्षण

पित्त शरीर का ऐसा भाव(दोष) है जो शरीर की गर्मी, आग और ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है। जैविक रूप से, यह ऊर्जा और द्रव का संयोजन है। ऊर्जा सक्रिय सिद्धांत के रूप में कार्य करती है और द्रव एक वाहन की भूमिका निभाती है। पित्त तत्वों के कारण शरीर में सभी चयापचय प्रक्रियाएं होती हैं। पित्त कफ अणुओं (जटिल पदार्थों) को छोटे टुकड़ों में तोड़ता है और फिर ऊर्जा को बाहर निकालता है। पित्त शब्द तापा से बना है, इसका मतलब गर्मी, ऊर्जा या आग है। इसमें आग और पानी शामिल हैं।

विषय-सूची

पित्त की रचना

पित्त की रचना अग्नि (आग) + जल (पानी / द्रव) तत्व

आग ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करती है और वायु (हवा) के बाद आती है। आम तौर पर, इसे शरीर में गर्मी के द्वारा महसूस किया जा सकता है। भोजन करने के कुछ मिनट बाद शरीर में गर्मी महसूस हो सकती है और चयापचय दर बढ़ने से शरीर का तापमान थोड़ा सा बढ़ जाता है। आयुर्वेद के अनुसार यह पित्त की वजह से है। यह शरीर के पाचन और चयापचय प्रक्रिया में सहायता करता है। यह पित्त में मौजूद ऊर्जा तत्वों के कारण होता है। पित्त में मौजूद द्रव वाहन की तरह काम करता है और शरीर में ऊर्जा के कामों को करने में मदद करता है।

पित्त दोष के गुण

आयुर्वेद में पित्त के गुणों को वर्णित किया गया है

संस्कृत नाम हिंदी नाम
इरशीता स्निग्ध चिपचिपा या तेलिया
उष्ण गरम
तीक्ष्ण तीव्र या गतिशील शक्ति
द्रव तरल या द्रव
अमल खट्टा
सारा और छला मोबाइल या गतिशीलता
कटु कटु

चीज़ों और भोजन जिनमे यह समान गुण होते हैं, वो पित्त को बढ़ाते है वहीँ इनकी विपरीत विशेषताएं पित्त को शांत करती हैं।

पित्त के कार्य

संक्षेप में, पित्त के निम्नलिखित कार्य हैं

  • पाचन
  • अपचय
  • कोशिकाओं के कार्य
  • मानसिक गतिविधियों
  • विभिन्न विचारों को सोचना और उनका अवलोकन करना
  • गर्मी की उत्पत्ति
  • उत्तेजना
  • रंजकता
  • लिक्विडिटी

पित्त का कार्य भोजन के पचने से शुरू होता है और फिर यह प्रयोग की जाने वाली ऊर्जा में परिवर्तित हो जाती है। यह अपचय को नियंत्रित करता है और जटिल अणुओं को छोटे टुकड़ों में तोड़ देता है। यह प्रक्रिया ऊर्जा को भी निकालती है। यह कफ (Kapha)द्वारा निकाले गए उपचय की जांच करता है।

  • पित्त शरीर की गर्मी और तापमान के रखरखाव में भूमिका निभाता है।
  • यह भूख और प्यास के लिए जिम्मेदार है।
  • यह त्वचा, रंग, और चमक को नियंत्रित करता है।
  • इसके कारण आँखों की दृष्टि सही रहती है। यह दृष्टि को सही रखता है।
  • संतुलित पित्त से पाचन सही रहता है और यह कोशिकाओं की गतिविधियों को बनाए रखता है।
  • यह संवेदी जानकारी, विचारों और अन्य मानसिक गतिविधियों को सही बनाया रखता है।

हालांकि, पित्त शरीर में हर जगह मौजूद है, लेकिन आयुर्वेद में इसे आसानी से समझने के लिए कुछ निर्दिष्ट स्थानों का उल्लेख किया गया है और पित्त विकारों के इलाज के लिए इन का चिकित्सीय महत्व है। दिल और नाभि के बीच सभी भागों को पित्त का क्षेत्र माना जाता है।

  1. पेट
  2. छोटी आंत
  3. जिगर
  4. अग्न्याशय
  5. तिल्ली
  6. रक्त
  7. आंखें
  8. त्वचा में पसीने की ग्रंथियां

पित्त के उपप्रकार

पित्त के पांच उपप्रकार हैं:

  • पाचक पित्त
  • रंजक पित्त
  • साधक पित्त
  • आलोचक पित्त
  • भ्राजक पित्त

पाचक पित्त

पित्त जो खाने को पचाता है और इसका आगे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल प्रणाली में उपयोग किया जाता है उसे पाचक पित्त कहा जाता है। यह खाने को तोड़ने और शरीर को पोषण प्रदान करने में अहम भूमिका निभाता है। पित्त के बाकि प्रकारों से इस पित्त में कम द्रव गुण (तरल) है, पर उष्ण गुण(गर्म) अधिक है। इसलिए, आयुर्वेद में इसे अग्नि (पाचन आग) भी कहा जाता है।

स्थान

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल प्रणाली (पेट, पाचनांत्र और छोटी आंत) पाचक पित्त का मुख्य स्थान है। पाचन रस और सभी एंजाइमों को इसके हिस्से के रूप में माना जाता है।

सामान्य कार्य

भोजन के पचने और भोजन के उपयोगी हिस्से और अपशिष्ट भाग को अलग-अलग करना पाचक पित्त का मुख्य कार्य है।

इसके बढ़ने से होने वाले रोग

पाचक पित्त के कम होने से निम्नलिखित बीमारियां हो सकती है

  • भूख न लगना – यह पाचन रस के कम स्राव और पाचक पित्त के सभी गुणों में कमी होने के कारण होता है।
  • भूख का कम लगना
  • खट्टी डकार
  • मालबसोर्पशन

पाचक पित्त के बढ़ने से स्वास्थ्य की स्थितियां निम्नलिखित हो सकती है

भूख न लगना

यह समस्या पेट में एसिड के स्त्राव के बढ़ने से होती है। जिससे भूख न लगना , भूख में अरुचि, जलन और गैस्ट्रेटिस जैसी समस्याएं होती है। आयुर्वेद में इसे पित्तज अग्निमाद्य कहा जाता है। इस तरह की परेशानी में पाचक द्रव(तरल) की गुणवत्ता बढ़ती है, किन्तु उष्ण (गर्म) की गुणवत्ता बहुत कम होती है, जिसका परिणाम है मलशोधन और भूख न लगना।

भूख में वृद्धि

पाचक पित्त का द्रव्य (तरल) सामान्य स्तर की गुणवत्ता का होता है, लेकिन जब इसके उष्ण (गर्म) और तीक्ष्ण(तीव्र) गुण बढ़ जाते हैं, तो व्यक्ति की भूख में वृद्धि होती है और उसे सामान्य व्यक्ति की तुलना में खाना खाने और पचाने की लगातार इच्छा होती है।

रंजक पित्त

रंजक पित्त जिगर, तिल्ली, पेट और छोटी आंत में मौजूद होता है। यह रक्त को लाल रंग प्रदान करता है और हीमोग्लोबिन संश्लेषण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

स्थान

  1. जिगर
  2. तिल्ली
  3. पेट
  4. छोटी आंत

सामान्य कार्य

  • हीमोग्लोबिन संश्लेषण
  • हीमोग्लोबिन को लाल रंग देना

इसके बढ़ने से होने वाले रोग

  • पीलिया
  • रक्ताल्पता
  • जिगर और तिल्ली विकार

साधक पित्त

साधक पित्त हृदय और मस्तिष्क में रहता है। यह न्यूरॉन और प्रसंस्करण और सोचने की प्रक्रियाओं में होने वाली चयापचय गतिविधियों के लिए ज़िम्मेदार है।

स्थान

  1. दिल
  2. मस्तिष्क और नसें

सामान्य कार्य

  • न्यूरॉन में चयापचयी गतिविधियां
  • जानकारी प्रसंस्करण और सोचने की प्रक्रियाएं
  • मन के कार्यों को नियंत्रित रखना
  • यादाश्त

कुछ भावनाएं जैसे अहंकार, बुद्धि, क्रोध, आनन्द, लगाव, डर और दृढ़ संकल्प, सदाका पित्त के कारण ही होती हैं।

इसके बढ़ने से होने वाले रोग

  • यादाश्त कमजोर होना
  • दिमागी काम करने में समस्या

आलोचक पित्त

पित्त जो आँखों में रौशनी का अनुभव कराये उसे आलोचक पित्त कहा जाता है।

स्थान

1)आँखे – आलोचक पित्त के कारण रेटिना के रोड और शंकुओं में चयापचयी गतिविधियां होती है।

सामान्य कार्य

आलोचक पित्त का मुख्य काम है देखना। यह रौशनी को महसूस करता है और दिमाग की आगे की प्रक्रिया को करने में मदद करता है।

इसके बढ़ने से होने वाले रोग

आंखें के विकार या दृष्टि का कमजोर होना आलोचक पित्त के बढ़ने के कारण हो सकते है।

भ्राजक पित्त

जो पित्त त्वचा के रंग और वर्ण के लिए जिम्मेदार है और इसे गर्म बनाये रखता है उसे भ्राजक पित्त कहा जाता है।

स्थान

भ्राजका पित्त का मुख्य स्थान त्वचा है।

सामान्य कार्य

  • त्वचा का रंग और वर्ण
  • त्वचा की गर्मी को बनाये रखना
  • बाहर से लगाई गयी दवाओं को सोख लेना

इसके बढ़ने से होने वाले रोग

बहुत सी त्वचा सम्बन्धी बीमारियां पित्त दोष के लक्षणों के साथ पित्त के बढ़ने के कारण होती है

पित्त के प्रभाव और शरीर

अग्नि (पाचन आग का प्रकार) तीक्षणा – तीव्र (अच्छी भूख का प्रतिनिधित्व करता है)
कोष्ट(पाचन प्रणाली की प्रकृति और आँतों की गतिशीलता) मृदु (कोमल)
प्रकृति (शरीर का प्रकार ) मध्य (मध्यम)

पित्त का चक्र

भोजन के पाचन का संबंध भोजन के पाचन के दौरान (भोजन के बाद 2 घंटे तक)
खाना खाने के संबंध में खाना खाने से पहले
आयु का संबंध वयस्कता
दिन का संबंध देर सुबह से दोपहर करीब – 10 AM से 2 PM के लगभग
रात का संबंध आधी रात -10 PM to 2 AM के लगभग

पित्त चक्र के अनुसार दवाएं लेना

यह सिद्धांत तब लागू किया जाता है जब पित्त विकार और पित्त के लक्षण पूरे शरीर या पेट में दिखाई देते हैं।

  • स्वाभाविक रूप से, जैसा कि तालिका में ऊपर वर्णित है ,पित्त ऊपर दी अवधि में प्रभावशाली है,
  • पित्त को शांत करने वाली दवाईओं को भोजन से पहले खाना चाहिए। यह तब भी लागू होता है जब आप जठरांत्र, ईर्ष्या, GERD, अपच आदि से ग्रस्त होते हैं।
  • पित्त को शांत रखने वाली दवाएं भी देर रात दोपहर और मध्यरात्रि में ले जा सकती हैं। यह तब लागू होता है जब कोई सामान्यीकृत पित्त रोग से पीड़ित होता है।

पित्त और मौसम

पित्त का संग्रह (छाया पित्त) बरसात का मौसम (वर्षा)
पित्त में अतिरिक्त गड़बड़ (प्रकोप पित्त) शरद ऋतु (शरद)
बढ़ती पित्त का शमन (प्रशमा पित्त) सर्दी की शुरुआत(हेमंता)

बारिश का मौसम (वर्षा)

गर्मियों होने वाली गर्मी थकावट, ताकत का कम होना और पाचन का कम होना जैसी समस्याओं का कारण हो सकता है। गंदे पानी के कारण यह पाचन की शक्ति और ताकत बारिश के मौसम में कम हो जाती है। इस दौरान अमल रस(खट्टा स्वाद) भोजन और पानी में अधिक हो जाता है। इन चीज़ों से पित्त दोष का संचय होता है। इस चरण को पित्त छाया कहा जाता है।

शरद ऋतु का मौसम (शरद)

शरद ऋतु के मौसम में गर्मी के कारण संचित पित्त बढ़ती है। इस चरण को पित्त प्रकोप कहा जाता है।

शीत ऋतु का प्रारंभिक मौसम (हेमंत)

इस मौसम में भोजन और पानी का स्वाद मीठा हो जाता है। पर्यावरण भी इसी दौरान ठंडा होता है। यह स्वाभाविक विशेषताएं अललाय पित्त हैं। इस चरण को पित्त प्रशमन कहा जाता है।

पित्त असंतुलन और इसके लक्षण

एक संतुलित चरण में पित्त अच्छे स्वास्थ्य का प्रतिनिधित्व करता है। पित्त का अधिक या कम होना रोगग्रस्त चरण का संकेत देता है। पित्त का बढ़ना या कम होने को पित्त का असंतुलन कहा जाता है। दोनों विभिन्न पित्त असंतुलन के लक्षण हैं।

पित्त के लक्षण और स्वास्थ्य की परिस्थितियों में कमी

निम्नलिखित लक्षण और नैदानिक अभिव्यक्तियाँ इंगित करते हैं कि पित्त दोष में कमी आई है

  • हाइपोथर्मिया – शरीर का कम तापमान
  • अचिर्लहाइड्रिया – गैस्ट्रिक स्राव में हाइड्रोक्लोरिक एसिड की अनुपस्थिति
  • ह्य्पोचलोरिदरिआ – गैस्ट्रिक स्राव में हाइड्रोक्लोरिक एसिड के स्राव का नहीं होना या कम होना

पित्त के लक्षण और स्वास्थ्य की परिस्थितियों में वृद्धि

बढे हुए पित्त का संकेत निम्न लक्षण और स्वास्थ्य स्थितियों से मिलता है

  • ठन्डे भोजन की लालसा
  • सामान्यकृत कमजोरी
  • उन्निद्रता
  • चेतना खोने की भावना
  • त्वचा का पीला रंग
  • असामान्य रूप से पीले रंग का मल

बढ़ते पित्त के लक्षण

  • मुंह का खट्टा या तीखा स्वाद
  • जलन का अहसास
  • बेहोशी
  • अत्यधिक डिस्चार्ज
  • बहुत ज़्यादा पसीना आना
  • थकावट महसूस करना
  • अधिक गर्मी महसूस होना
  • जलने की भावना के साथ दर्द
  • लाली
  • पीप आना – मवाद जमना
  • बेहोशी
  • पीले, नीले या हरे रंग का मलिनकिरण
  • बुखार

संदर्भ

  1. Pitta Dosha – AYURTIMES.COM

संबंधित पोस्ट

Comments are closed.