पुनर्नवा अर्क (Punarnava Ark)

पुनर्नवा अर्क (Punarnava Ark) जिगर (लीवर), गुर्दे (किडनी) और मूत्राशय के लिए एक लाभकारी आयुर्वेदिक औषधि है। हालांकि, इसका मुख्य रूप से शोथ व सूजन कम करने के लिए प्रयोग किया जाता है। पर यह जिगर के रोग जैसे पीलिया, जिगर शोथ और जिगर वृद्धि आदि के इलाज के लिए एक प्रवाभी दवा है। यह समस्त शरीर में होने वाली सूजन और शोथ को कम करती है। इसमें मूत्रल गुण होता है जिस से मूत्र की उत्पति अधिक होती है और शरीर में जमा हुआ पानी बहार निकल जाता है। यह हृदय रोगों के कारण होने वाले शोथ में भी लाभदायक है।

इसका प्रयोग आंखों के रोगों में भी किया जाता है। यह नेत्र प्रदाह को शान्त करती है। नेत्र प्रदाह में इस के 2-2 बूँद दोनों आँखों में दिन में 3 से 4 बार डालने से लाभ मिलता है।

घटक द्रव्य एवं निर्माण विधि

पुनर्नवा अर्क में निम्नलिखित घटक द्रव्यों है:

घटक द्रव्यों के नाममात्रा
पुनर्नवा पंचांग1 भाग
पानी4 भाग

पुनर्नवा पंचांग को पानी में भिगोकर कुच्छ घंटे रख दें। फिर अर्क यन्त्र में डालकर पुनर्नवा पंचांग का अर्क निकाल लें।

आयुर्वेदिक गुण धर्म एवं दोष कर्म

रस (Taste)मधुर, तिक्त, कषाय
गुण (Property)लघु, रुक्ष
वीर्य (Potency)उष्ण (गरम)
विपाक (Metabolic Property)मधुर
दोष कर्म (Dosha Action)त्रिदोष शामक

औषधीय कर्म (Medicinal Actions)

पुनर्नवा अर्क (Punarnava Arq) में निम्नलिखित औषधीय गुण है:

  • चक्षुष्य – आंखों के लिए फायदेमंद
  • स्वेदजनक – पसीना लाने वाला – Diaphoretic
  • ह्रदय – दिल को ताकत देने वाला
  • रक्तवर्धक
  • शोथहर
  • कासहर
  • यकृत वृद्धिहर
  • कामलाहर
  • पितसारक
  • प्रतिउपचायक – एंटीऑक्सीडेंट

चिकित्सकीय संकेत (Indications)

पुनर्नवा अर्क (Punarnava Arq) निम्नलिखित व्याधियों में लाभकारी है:

  • सर्वांग शोथ
  • कामला या पीलिया (Jaundice)
  • जिगर शोथ
  • जिगर वृद्धि
  • हृदय रोगों के कारण होने वाले शोथ
  • नेत्र प्रदाह

मात्रा एवं सेवन विधि (Dosage)

पुनर्नवा अर्क की सामान्य औषधीय मात्रा  व खुराक इस प्रकार है:

औषधीय मात्रा (Dosage)

बच्चे5 से 15 मिलीलीटर
वयस्क10 से 30 मिलीलीटर

सेवन विधि

दवा लेने का उचित समय (कब लें?)ख़ाली पेट लें या खाना खाने के 1 घंटे पहिले लें या खाना खाने के 3 घंटे बाद लें
दिन में कितनी बार लें?2 बार – सुबह और शाम
अनुपान (किस के साथ लें?)गुनगुने पानी में मिलकर लिया जा सकता है

आप के स्वास्थ्य अनुकूल पुनर्नवा अर्क की उचित मात्रा के लिए आप अपने चिकित्सक की सलाह लें।

दुष्प्रभाव (Side Effects)

यदि पुनर्नवा अर्क का प्रयोग व सेवन निर्धारित मात्रा (खुराक) में चिकित्सा पर्यवेक्षक के अंतर्गत किया जाए तो पुनर्नवा अर्क के कोई दुष्परिणाम नहीं मिलते।

गर्भावस्था और स्तनपान (Pregnancy & Lactation)

गर्भावस्था और स्तनपान दौरान पुनर्नवा अर्क का प्रयोग करने से पहिले चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।

About Dr. Jagdev Singh

डॉ जगदेव सिंह (B.A.M.S., M.Sc. Medicinal Plants) आयुर्वेदिक प्रैक्टिशनर है। वह आयुर्वेद क्लिनिक ने नाम से अपना आयुर्वेदिक चिकित्सालय चला रहे हैं।उन्होंने जड़ी बूटी, आयुर्वेदिक चिकित्सा और आयुर्वेदिक आहार के साथ हजारों मरीजों का सफलतापूर्वक इलाज किया है।आयुर टाइम्स उनकी एक पहल है जो भारतीय चिकित्सा पद्धति पर उच्चतम स्तर की और वैज्ञानिक आधार पर जानकारी प्रदान करने का प्रयास कर रही है।

Check Also

चन्दनादि अर्क

चन्दनादि अर्क (Chandanadi Arq)

चन्दनादि अर्क (Chandanadi Arq) का प्रयोग मूत्र प्रणाली के रोगों में मुख्य रूप से होता …