रजत भस्म (चांदी भस्म या रौप्य भस्म) के लाभ, प्रयोग, मात्रा एवं दुष्प्रभाव

Rajat Bhasma (Raupya Bhasma) Benefits, Uses and Dosage in Hindi

रजत भस्म (Rajat Bhasma) एक आयुर्वेदिक औषधि है जिस को रौप्य भस्म (Raupya Bhasma) और चाँदी भस्म (Chandi Bhasma) भी कहा जाता है। यह एक रसायन (रेजुवेनातिंग एजेंट) की भान्ति प्रयोग में आने वाली औषधि है जो शारीर के कायाकल्प करने में मदद करती है। यह चांदी से भस्मीकरण प्रक्रिया के द्वारा बनाई गई दवा है।

रौप्य भस्म (रजत भस्म) मुख्यतः वात पित्त शामक है। यह औषधि मुख्यतः गुर्दों, तंत्रिकाओं और मस्तिष्क पर प्रभाव डालती है। यह तंत्रिकाओं और मस्तिष्क से संबंधित विभिन्न रोगों के उपचार में आने वाली औषधि है। इस के अतिरिक्त, यह विभिन्न प्रकार के रोगों में लाभ प्रदान करती है जैसे नेत्र रोग, दुर्बलता, गुदा विदर (anal fissure), पीला बलगम, बार-बार पेशाब आना, पीलिया, एनीमिया, प्लीहा की वृद्धि, जिगर की वृद्धि, अल्पशुक्राणुता, शारीरिक कमजोरी, मिर्गी, हिस्टीरिया और मस्तिष्क संबंधी बीमारियों में।

रौप्य भस्म के घटक एवं निर्माण विधि

भस्म बनाने के लिए उत्तम गुण की चाँदी के निम्नलिखित गुण होते है:

  • भारी
  • नरम
  • तोड़ने या तपाने पर सफ़ेद
  • स्निग्ध
  • चमकदार
  • लचीली
  • देखने में सुन्दर

भस्मीकरण करने के पहले चांदी का आयुर्वेदिक तरीके से शोधन किया जाता है। शोधन करने के लिए इस के पतले पत्रों को पहले आग में तपाया जाता है और फिर इस तपी हुई चांदी को शोधन द्रव्य जैसे तिल तेल, कुल्थी क्वाथ, गौमूत्र, कांजी या छाछ के डाल कर सात सात बार बुझाया जाता है। इस प्रक्रिया से चांदी शुद्ध व दोष मुक्त हो जाती है और भस्म बनाने के योग्य मानी जाती है।

रौप्य भस्म को आयुर्वेदिक विधि से बनाने के लिए पहले उसका शोधन किया जाता है।

शोधन में प्रयुक्त घटक हैं:

  1. चाँदी पत्र
  2. तिल का तेल
  3. तक्र
  4. कांजी
  5. गौ मूत्र
  6. कुल्थी काढ़ा

शोधन के बाद मारण की क्रिया के घटक है:

  1. चांदी
  2. पारद
  3. नीम्बू रस
  4. गंधक
  5. हरताल

आयुर्वेदिक तरीके से शोधन और मारण की प्रक्रिया कर के चांदी को आग में तपाकर भस्म बनाई जाती है। इसी चांदी भस्म का प्रयोग औषधि के रूप में किया जाता है।

शुद्ध रौप्य भस्म के लक्षण

इस विधि से जब रौप्य भस्म बन जाती है तो इसका मानक स्तर जांचने के लिए रस शास्त्र के अनुसार कुछ प्रयोग किये जाते हैं।

  1. रेखापुरन: शुद्ध रौप्य भस्म को आप अपनी उँगलियों पर मलेंगे तो वह इतनी महीन होगी की वो आप की ऊँगली की रेखाओं में घुस जायेगी किसी टेलकॉम पाउडर की तरह।
  2. निसचन्द्रिकरण: शुद्ध रौप्य भस्म अपनी धातु वाली चमक खो चुकी होगी, उसमें बिलकुल भी चमक नहीं होगी।
  3. अपुनर्भव: भस्म इस प्रकार बनानी चाहिए कि वो पुनः धातु के रूप में प्राप्त ना की जा सके।
  4. वारितर: शुद्ध भस्म को स्थिर पानी पर डालेंगे तो वह तैरती रहेगी, धातु की भांति डूबेगी नहीं।

आयुर्वेदिक गुण धर्म एवं दोष कर्म

रस (Taste) कषाय, अम्ल और मधुर
गुण (Property) सौम्य, बल्य, लेखन, सारक
वीर्य (तासीर) शीत (ठंडा)
विपाक (Metabolic Property) मधुर
दोष कर्म (Dosha Action) मुख्यतः वात शामक, पित शामक

चांदी भस्म के औषधीय कर्म

रौप्य भस्म के औषधीय गुण इस प्रकार हैं।

  1. रसायन – कायाकल्प करने में मदद करती है
  2. आक्षेपशमन – आक्षेप को शांत करने वाला – Anticonvulsant
  3. मेध्य – बुद्धिवर्धक – बुद्धि को बढ़ाने वाला
  4. स्मरण शक्ति वर्धक
  5. वेदनास्थापन – पीड़ाहर (दर्द निवारक)
  6. मस्तिष्क बल्य – मस्तिष्क को ताकत देने वाला
  7. चक्षुष्य – आंखों के लिए फायदेमंद
  8. दृष्टि वर्धक – नजर बढ़ाने वाला
  9. ह्रदय – दिल को ताकत देने वाला
  10. रक्तप्रसादक – रक्त परिसंचरण क्रिया को बढ़ाने वाला
  11. कासहर
  12. श्लेष्मपूतिहर
  13. क्षयकृमिनाशक
  14. रक्तपित्तघ्न
  15. अम्लत्वनाशक (अम्लपित्तहर)
  16. यकृत वृद्धिहर
  17. प्लीहवृद्धिहर
  18. वाजीकरण
  19. शुक्रजनन
  20. वीर्यवर्धक
  21. शोथहर
  22. व्रणहर
  23. वणर्य – त्वचा का वर्ण में सुधार लाने वाला और चमक बढ़ाने वाला
  24. कुष्ठघ्न
  25. कांति वर्धक
  26. दाहहर या दाहप्रशम – जलन कम करे
  27. जीवाणु नाशक
  28. पूतिहर – हानिकारक जीवाणु और इन के विषाक्त पदार्थों का नाश करने वाला

रजत भस्म के चिकित्सीय संकेत

रजत भस्म को स्वास्थ्य की निम्न स्थितियों में उपयोग करने में काफी लाभ मिलता है।

  1. तंत्रिका संबंधी रोग: तीव्र सिरदर्द, माइग्रेन, अशांत मस्तिष्क, स्मृति हानि, अल्जाइमर रोग, पार्किंसंस रोग, सिर में चक्कर आना, दौरे के रूप में मस्तिष्क संबंधी रोग, वॉलेनबर्ग सिंड्रोम, मस्तिष्क का क्षय, अक्षिदोलन (आंखों की अनैच्छिक गति)
  1. मनोवैज्ञानिक रोग: चिंता, अनिद्रा, अवसाद, चिड़चिड़ापन, भय, पागलपन, चिंता और तनाव के कारण भूख न लगना, उदासी या मानसिक / भावनात्मक दर्द, तनाव, उन्मत्त अवसादग्रस्तता की बीमारी (द्विध्रुवी विकार / उन्मत्त अवसादग्रस्तता मनोविकृति), हिस्टीरिया, हिंसक मानसिक विचार, हिंसक भावनात्मक प्रकोप, एडीएचडी (ध्यान अभाव सक्रियता विकार)
  1. उदर रोग: मस्तिष्क संबंधी कारणों की वजह से भूख कम लगना, हिपेटोमिगेली (यकृत वृद्धि), फैटी लीवर, स्प्लेनोमेगाली (प्लीहा वृद्धि), आहार क्रिया विकार, ह्रदय में जलन, अम्लता, पेप्टिक अल्सर और ग्रहणी
  1. गुर्दे और मूत्राशय विकार: गुर्दे कार्यों में सुधार, गुर्दे की बीमारियों को रोकना, मूत्र मार्ग में संक्रमण, UTIs में एंटीबायोटिक के रूप में काम करता है, उपदंश (यौन बीमारी), अन्नसारमेह (मूत्र में प्रोटीन की उपस्थिति)
  1. श्वसन रोग: सूखी खाँसी, पीले या हरे बलगम के साथ खांसी
  1. ह्रदय और रक्त वाहिका रोग: उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर, धमनीकलाकाठिन्य (अथेरोस्क्लेरोसिस)
  1. पुरुषों के रोग: वीर्य में मवाद के कारण पुरुष बांझपन (त्रिफला और दसमूलारिष्टम के साथ लें), नपुंसकता, अल्पशुक्राणुता
  1. त्वचा रोग: त्वचा संक्रमण, गैंग्रीन (मांस का सड़ना)
  1. महिलाओं के रोग: प्रसवोत्तर अवसाद, महावारी पूर्व सिंड्रोम, रजोनिवृत्ति के लक्षण, यौन संबंधों के दौरान दर्द

रजत भस्म के लाभ एवं औषधीय उपयोग

रजत भस्म (रौप्य भस्म) एक विशिष्ट आयुर्वेदिक औषधि है। आम तौर पर, रजत भस्म को वायरल संक्रमण, आंखों के रोग, गुदा रोगों विशेष रूप से गुदा विदर, मस्तिष्क संबंधी रोग, मस्तिष्क का शोष, स्मृति हानि, अल्जाइमर रोग, हिस्टीरिया, मिर्गी, पागलपन, अनिद्रा, अवसाद आदि विभिन्न रोगों के उपचार में प्रयोग किया जाता है।

यह नपुंसकता, हिपेटोमिगेली, तिल्ली का बढ़ना, पेशाब संबंधी समस्या, मांसपेशियों में दर्द, फाईब्रोम्यल्गिया, अथेरोस्क्लेरोसिस और रक्त वाहिकाओं में बाधा के उपचार में लाभप्रद है। इसके अलावा, यह त्वचा और चेहरे की चमक बढ़ाती है, नसों और मांसपेशियों को शक्ति देती है और रक्त वाहिकाओं को कोलेस्ट्रॉल जमने से बचाती है।

पक्षाघात

रौप्य भस्म (चांदी भस्म) पक्षाघात की जीर्ण अवस्था में लाभकारी है। यह तंत्रिकाओं को मजबूत बनाने के साथ साथ शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार का भी काम करता है।

धमनीकलाकाठिन्य (अथेरोस्क्लेरोसिस)

यह रोग मुख्यतः  रक्त वाहिकाओं की भीतरी दीवारों में सूजन के कारण होता है। इस सूजन के कारण धमनियों की दीवारों पर कोलेस्ट्रॉल, वसा जमने लगता हैं और इससे धमनी संकुचित हो जाती है। यह रोग सूजन के कारण होता है, इसके लिए कोलेस्ट्रॉल, वसा जिम्मेदार नहीं है। वो तो सूजन के कारण धमनी में जमा हो जाती हैं। रौप्य भस्म सूजन के विरुद्ध कार्य करती है, यह धमनियों की सूजन को कम कर देती है जो इस रोग का कारण है। रजत भस्म एक शक्तिशाली आयुर्वेदिक दवा है जो कि अथेरोस्क्लेरोसिस में सुरक्षित रूप से प्रयोग की जा सकती है।

अथेरोस्क्लेरोसिस के लिए उपचार मात्रा (एकल खुराक के लिए)
रजत भस्म 125 मिलीग्राम
अभ्रक भस्म 50 मिलीग्राम
गुग्गुल 250  मिलीग्राम
पुष्करमूल 125  मिलीग्राम
अर्जुन – Arjuna 500  मिलीग्राम
शिलाजीत – Shilajit 500  मिलीग्राम

यकृत रोग

रौप्य भस्म (चांदी भस्म) यकृत में विषाक्त पदार्थों (टोक्सिन) का संचय होने की मात्रा को कम करता है जिससे यकृत अधिक सुचारू रूप से कार्य करता है। हालांकि, आयुर्वेद में यकृत विकार के लिए ताम्र भस्म (tamra bhasma) मुख्य औषधि है, परंतु यह यकृत के कार्यों को उत्तेजित करती है और पित्त स्राव बढ़ाती है। रौप्य भस्म सिर्फ यकृत के प्राकृतिक कार्यों को करने में मदद करती है।

हृद्‍शूल और ह्रदय के रोग

रौप्य भस्म हृदय को रक्त की आपूर्ति में सुधार करती है और हृदय को पर्याप्त ऑक्सीजन प्रदान करने के लिए मदद करती है। इस प्रकार, यह हृद्‍शूल और अन्य हृदय रोगों विशेष रूप से हृद – धमनी रोग के कारण सीने में दर्द होता है उसमें मदद करती है।

मानसिक थकान

मस्तिष्क का अत्यधिक उपयोग, कंप्यूटर पर काम, अनिद्रा, अत्यधिक बात करना, चिंता, व्यग्रता, भय आदि के कारण शरीर में वात वृद्धि होती है, जो अंततः मानसिक शक्ति और ताकत का नाश करती है। मानसिक थकान का अनुभव कर रहे लोग चक्कर, मानसिक थकान, तनाव, मानसिक तनाव, माइग्रेन, निराशा, सिर दर्द, और स्मृति हानि से पीड़ित हो जाते हैं। चांदी भस्म अपने गुण के कारण इन सभी परिस्थितियों में आपको बल प्रदान करती है।

यदि यह सभी मानसिक लक्षण पित्त के कारण हैं तो रजत भस्म में मुक्त पिष्टी मिलाएं। यदि लक्षण उच्च रक्तचाप के कारण हो, तो साथ में शिलाजीत लें।

रौप्य भस्म 125 मिलीग्राम
मुक्ता पिष्टी – Mukta Pishti 125 मिलीग्राम
बादाम 1/2 छोटा चम्मच कुचले हुए
सफ़ेद मिर्च 125 मिलीग्राम

हिस्टीरिया, मिर्गी और एक प्रकार का पागलपन

रजत भस्म नसों, न्यूरोट्रांसमीटर और मस्तिष्क के कार्यों को सही करती है। यह मस्तिष्क से उत्पन्न बायोइलेक्ट्रिकल आवेगों में सामंजस्य लाती है। इसलिए, यह औषधि हिस्टीरिया, मिर्गी और एक प्रकार का पागलपन (स्चिज़ोफ्रेनिया) में बहुत लाभदायक है।

दृष्टि दोष

कभी कभी, दृष्टि हानि ऑप्टिक तंत्रिका चोट, अत्यधिक गर्मी, सूरज की गर्मी, अत्यधिक कंप्यूटर का उपयोग करने पर, अत्यधिक टेलीविजन देखने पर, अत्यधिक क्रोध और अत्यधिक आंखों के व्यायाम के कारण होती है। दृष्टि हानि के इस प्रकार में, रजत भस्म बहुत लाभदायक औषधि है। यह तीव्र और जीर्ण नेत्रश्लेष्मलाशोथ (कंजंक्टिवाइटिस) में भी काम करती है। निम्नलिखित मिश्रण नेत्रश्लेष्मलाशोथ के उपचार के लिए उपयोगी है।

रौप्य भस्म 125 मिलीग्राम
स्वर्ण मशिक भस्म – Swarna Makshik Bhasma 250 मिलीग्राम
गंधक रसायन – Gandhak Rasyana 1000 मिलीग्राम
प्रवाल पिष्टी – Praval pishti 500 मिलीग्राम

शक्ति की हानि

शारीरिक शक्ति के ह्लास के लिए आयुर्वेद में बहुत से उपचार हैं। कभी कभी, अत्यधिक शारीरिक श्रम करने के कारण भी कमजोरी का अनुभव होता है। इस प्रकार की कमजोरी के लक्षण होते हैं मूत्र में जलन, व्याकुलता, चिड़चिड़ापन, दर्द, कमर में जकडन आदि। इस स्थिति में रौप्य भस्म एक असरकारक औषधि है। यदि रोगी शरीर में भारीपन, शक्ति की हानि और संभोग में असमर्थता अनुभव कर रहा है तो उसे बंग भस्म देनी चाहिए।

क्षय रोग (टी बी)

हालाँकि तपेदिक के लिए सर्वोत्तम औषधि स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) है , परंतु चांदी भस्म तब दी जाती है जब रोगी को जलन होने लगती है और अत्यधिक पसीना आने लगता है। इस स्थिति में, निम्नलिखित मिश्रण उपयोगी है:

रौप्य भस्म 125 मिलीग्राम
स्वर्ण भस्म 25 मिलीग्राम
शहद 3 ग्राम

गुदा विदर

गुदा विदर मल त्यागने के स्थान के बाहरी हिस्से पर एक दरार है जिसमें गंभीर दर्द, जलन, खुजली और कभी-कभी खून भी बहता है। इस औषधि से गुदा विदर में लाभ मिलता है। गुदा विदर की समस्या में पिलेक्स मरहम लगाना भी लाभदायक है।

रौप्य भस्म (चांदी भस्म) 125 मिलीग्राम
गंधक रसायन 500 मिलीग्राम
प्रवाल पिष्टी 500 मिलीग्राम
स्वेत अंजन 1 ग्राम

बवासीर

आयुर्वेद में बवासीर कई उपाय है परंतु रौप्य भस्म एक महंगी परंतु असरकारक औषधि है। यदि रोगी को किसी और औषधि से आराम नहीं मिलता है तो रौप्य भस्म बहुत उपयोगी है।

जठरशोथ (गैस्ट्राइटिस) और हर्निया

आयुर्वेद में गैस्ट्राइटिस अम्लपित्त के अन्तर्गत आता है। जब रोगी को सीने या पेट में जलन, तांत्रिक खराबी के कारण बेचैनी, लगातार अम्ल के कारण परेशानी, भूख न लगना, अपच, पेट दर्द या हर्निया के लक्षण दिखाई दे रहे हों तो रौप्य भस्म बहुत लाभदायक होती है।

खांसी

जीर्ण सूखी खाँसी: 

जब गले में खराश के कारण, गले में जलन के कारण, गले में सूखेपन के कारण, गले में या स्वास नाली में सूजन के कारण खांसी आती है तो इसके लिए रजत भस्म (चांदी भस्म) रामबाण के रूप में काम करती है। इसका औषधि मिश्रण इस प्रकार है।

रजत भस्म 125  मिलीग्राम
नद्यपान पाउडर 2  ग्राम
घी 1-3  मिलीलीटर

पीले या हरे बलगम के साथ खांसी:

पीले या हरे बलगम के साथ खांसी आने का मतलब है सीने में संक्रमण। इस प्रकार की खांसी में रौप्य भस्म बहुत लाभ देती है। इसकी औषधि इस प्रकार है।

रौप्य भस्म (चांदी भस्म) 125 मिलीग्राम
प्रवाल पिष्टी 200 मिलीग्राम
टंकण भस्म – Tankan bhasma 125 मिलीग्राम
श्रृंग भस्म – Shring Bhasma  50 मिलीग्राम
समीरपन्ग रस  25 मिलीग्राम

रक्ताल्पता

एनीमिया के कई कारण हैं और उनमें से कुछ हैं मानसिक तनाव, चिंता, निरंतर चिंता और भोजन में अरुचि। रौप्य भस्म इस मामले में सहायक है। एनीमिया की औषधि है।

रजत भस्म 125 मिलीग्राम
लोह भस्म – Loha Bhasma  50 मिलीग्राम
स्वर्णमाशीक भस्म 250 मिलीग्राम
अमला – Indian Gooseberry 2  ग्राम
पुनर्नवा 1 ग्राम

गैंग्रीन

रजत भस्म गैंग्रीन के लिए एक अदभुत उपाय है। यह त्वचा के ऊतकों को खस्ताहाल होने से रोकता है और गले हुए ऊतक के उपचार में मदद करता है। कुछ रोगियों को त्वचा में गैंग्रीन होने पर तीव्र दर्द और जलन का अनुभव होता है। रौप्य भस्म इन लक्षणों को कम करने में मदद करता है। इसके माइक्रोबियल विरोधी प्रभाव के कारण, गैंग्रीन के उपचार में मदद करता है। इसकी औषधि इस प्रकार है। इस औषधि को दिन में तीन बार दें।

रजत भस्म 125 मिलीग्राम
इलायची 1 ग्राम
बांस मन्ना 1 ग्राम
भारतीय करौदा 1 ग्राम
गिलोय सत्व 1 ग्राम
चोपचिन्यादि चूर्ण 2 ग्राम

मात्रा एवं सेवन विधि (Dosage)

रजत भस्म की सामान्य औषधीय मात्रा  व खुराक इस प्रकार है:

रजत भस्म की औषधीय मात्रा

बच्चे (5 वर्ष तक) 1 मिली ग्राम प्रति किलोग्राम वजन के हिसाब से; पर एक खुराक में 30 मिली ग्राम से मात्रा अधिक नहीं होनी चाहिए और प्रतिदिन 60 मिली ग्राम से मात्रा अधिक नहीं होनी चाहिए
बच्चे (5 वर्ष के बाद) 30 से 65 मिली ग्राम
वयस्क 65 से 125 मिली ग्राम

सेवन विधि

दवा लेने का उचित समय (कब लें?) खाली पेट लें
दिन में कितनी बार लें? 2 बार – सुबह और शाम
उपचार की अवधि (कितने समय तक लें) चिकित्सक की सलाह लें

आप के स्वास्थ्य अनुकूल रजत भस्म की उचित मात्रा के लिए आप अपने चिकित्सक की सलाह लें।

अनुपान (किस के साथ लें?)

वात रोग अभ्रक भस्म (Abhrak Bhasma), वंश्लोचन (Vanshlochan), इलायची बीज (Green cardamom), गिलोय सत्व (Giloy Satva), शहद
पित्त रोग अमला मुरब्बा (Amla Murabba) या गुलकन्द (Gulkand)
वात-पित्त रोग त्रिफला चूर्ण (Triphala Powder)
उन्मांद, मानसिक रोग, शिरोरोग, सिर दर्द, ज्वर, दाह इलायची बीज + घी (Cow’s Ghee) + मिश्री
राजयक्ष्मा में ज्वर त्रिकटु चूर्ण (Trikatu Powder) + शहद
प्रमेह अभ्रक भस्म + Ginger Juice
तिमिर रोग लौह भस्म (Loha Bhasma) + पिप्पली चूर्ण (Long Pepper Powder) + शहद
नेत्र रोग त्रिफला घृत
सूखी खांसी मक्खन
पाण्डु रोग त्रिकटु चूर्ण
यकृत-प्लीहा वृद्धि मंडूर भस्म
बवासीर इसबगोल भूसी
मस्तिष्क की कमजोरी अश्वगंधा चूर्ण
उपदंश/सुजाक शिलाजीत

संदर्भ

  1. Rajat Bhasma (Chandi Bhasma) – AYURTIMES.COM
आपको यह भी पसंद आ सकता हैं