रसायन उस चिकित्सा का नाम है जो शारीर में जीवनीय तत्त्वों को बढ़ाता है और व्यक्ति को बल, वीर्य, ऊर्जा, और ओज से परिपूर्ण करता है। रसायन सेवन से व्यक्ति की जीवनीय शक्ति बढ़ती है, आयु लंबी होती है और वह सदा स्वस्थ जीवन  बतीत करता है।

रसायन आयुर्वेद की एक चिकित्सा प्रणाली है जिस में मन और शरीर को स्वस्थ रखने के लिए उपयो का वर्णन किया गया है। इन उपयो में अच्छा और हितकारी सदाचार, अचार-विहार, और औषिधियो का उलेख है जो व्यक्ति को मन और शरीर से स्वस्थ रखने में सहायक होते है।

रसायन औषधियों

शरीर का कायाकल्प (Rejuvenation) करने वाले घटको, औषधियों, टॉनिकों को रसायन कहा जाता है।

यदि किसी दवा या औषधि को रसायन कहा गया है तो इस का मतलब होता है कि वह शरीर का कायाकल्प (Rejuvenation) करने में सक्षम है और व्यक्ति को स्वस्थ रखने के लिए हितकारी है।

रसायन के उद्देश्य

जो आयुर्वेद का उद्देश्य है वही रसायन का भी उद्देश्य है।

“प्रयोजनं चास्य स्वस्थस्य स्वास्थ्यरक्षणं आतुरस्यविकारप्रशमनं च”

रसायन का वर्णन मुख्यतः आयुर्वेद के पहले उद्देश्य की पूर्ति के लिए किया गया है।

यह स्वस्थ व्यक्ति को स्वस्थ रखने में सहायता करता है और व्यक्ति इस का पालन करने से लंबे समय तक रोगमुक्त रहता है।

आयुर्वेदिक डॉक्टर से परामर्श करें
Click Here to Consult Dr. Jagdev Singh