आयुर्वेद

ऋतु हरीतकी – सदा स्वस्थ रहने के लिए कैसे करें हरड़ का प्रयोग

स्वास्थ्य लाभ के लिए ऋतु के अनुसार हरीतकी (हरड़) का सेवन उपयुक्त अनुपान के साथ करने की विधि को आयुर्वेद में ऋतु हरीतकी कहा जाता है। आयुर्वेद की मान्यता है कि प्रत्येक व्यक्ति की शारीरिक एवं मानसिक प्रकृति के अनुसार और वातावरण में होने वाले बदलाव के अनुसार औषधि और उनके अनुपानों में भी अंतर आता है। औषधि अच्छे गुणों के लिए हमें इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

हरीतकी (हरड़) के साथ भी कुश ऐसा ही है। इसका प्रयोग मौसम (ऋतू) के अनुसार करना अनुसार करना चाहिए। हरीतकी में रसायन गुण हैं। जिसके कारण इसका प्रयोग सभी ऋतुओं में किया जा सकता है परतु अनुपान में अंतर आ जाता है। हरड़ का सेवन ऋतू अनुसार निम्नलिखित अनुपानों के साथ करना चाहिए:

ऋतुअनुपान
वर्षा ऋतुसैंधव लवण
शरद ऋतुखांड (शर्करा)
हेमंत ऋतुशुंठी
शिशिर ऋतुपिप्पली
वसंत ऋतुक्षौद्रमधु
ग्रीष्म ऋतुनवीन गुड़

नोट: अनुपान का अर्थ है जिसके साथ औषधि का सेवन करना चाहिए।

हरड़ सेवन के अयोग्य व्यक्ति

चरक संहिता के अनुसार निम्नलिखित व्यक्तियों को हरीतकी सेवन नहीं करना चाहिए:

  1. अजीर्ण के रोगी
  2. अधिक मैथुन करने वाले
  3. भूख, प्यास व गर्मी से पीड़ित लोगों
  4. मधपान करने वाले
  5. रूक्ष पदार्थों का सेवन करने वाले
  6. विषपान करने से कृशित शरीर वाले

Reference

  1. Ritu Haritaki: How To Take Harad In Different Seasons

Subscribe to Ayur Times

Get notification for new articles in your inbox

Dr. Jagdev Singh

डॉ जगदेव सिंह (B.A.M.S., M.Sc. Medicinal Plants) आयुर्वेदिक प्रैक्टिशनर है। वह आयुर्वेद क्लिनिक ने नाम से अपना आयुर्वेदिक चिकित्सालय चला रहे हैं।उन्होंने जड़ी बूटी, आयुर्वेदिक चिकित्सा और आयुर्वेदिक आहार के साथ हजारों मरीजों का सफलतापूर्वक इलाज किया है।आयुर टाइम्स उनकी एक पहल है जो भारतीय चिकित्सा पद्धति पर उच्चतम स्तर की और वैज्ञानिक आधार पर जानकारी प्रदान करने का प्रयास कर रही है।

Related Articles

Back to top button