सेंधा नमक (सैंधव लवण) के लाभ और आयुर्वेद में चिकित्सार्थ उपयोग

Health Benefits of Sendha Namak (Saindhava Lavana)

सेंधा नमक (सैंधव लवण) सोडियम क्लोराइड के प्राकृतिक रूप से घटित खनिज रूप में आइसोमेट्रिक क्रिस्टल होते हैं। इसका रंग इसमें उपस्थित अलग-अलग अशुद्धियों के अनुसार भिन्न हो सकता है।

आयुर्वेद के अनुसार सेंधा नमक का सर्वोत्तम रूप सफेद या रंगहीन होता है। हालांकि, लाल गुलाबी सेंधा नमक का उपयोग भी किया जाता है, जिसे हिमालयन नमक भी कहा जाता है। नियमित रूप से खाना पकाने में उपयोग करने के लिए सफेद और गुलाबी रंग की किस्में सर्वोत्तम हैं। आयुर्वेद सेंधा नमक को दो प्रमुख किस्मों में विभाजित करता है जिसमें सफ़ेद सेंधा नमक और लाल सेंधा नमक शामिल हैं। दोनों ही स्वास्थ्य के लिए उत्तम हैं और इनका उपयोग आयुर्वेदिक औषधियों में किया जाता है।

अन्य सभी प्रकार के सेंधा नमक जैसे गहरे या हल्के नीले, गुलाबी, बैंगनी या लाल,सलेटी, काले, नारंगी और पीले रंग के, उत्तम नहीं माने जाते हैं। काला नमक (Black salt) भी एक प्रकार का सेंधा नमक है, जिसमें सोडियम क्लोराइड के अलावा सल्फर की मात्रा भी होती है। आयुर्वेद के अनुसार, यह सफ़ेद सेंधा नमक के बाद भोजन में उपयोग करने के लिए दूसरा सबसे अच्छा नमक है।

सेंधा नमक क्या है और उसकी रासायनिक संरचना क्या है?

सेंधा नमक खनिज रूप में होता है और यह सोडियम क्लोराइड का आइसोमेट्रिक क्रिस्टल है। इसमें मैग्नीशियम, पोटेशियम, मैंगनीज, लौह, जस्ता आदि जैसे अन्य तत्व भी हो सकते हैं। खदान से निकला हुआ सेंधा नमक मानव उपभोग के लिए उपयुक्त है।

हालांकि, इसमें आयोडीन की मात्रा काफी कम होती है, लेकिन इसमें खनिजों की एक उचित मात्रा शामिल है, जो इसे नियमित आहार में खाने के लिए उचित बनाती है।

चूंकि इसमें आयोडीन की मात्रा काफी कम होती है, इसलिए हम अपने मरीजों को सुझाव देते हैं की अधिकतम स्वास्थ्य लाभ के लिए सेंधा नमक को आयोडीनयुक्त नमक के साथ मिलाकर खायें। आप दोनों लवणों को समान मात्रा में मिला सकते हैं और भोजन को बनाने में इसका उपयोग कर सकते हैं।

औषधीय कर्म

सेंधा नमक में निम्नलिखित उपचार के गुण हैं।

  1. एंटासिड (अम्लत्वनाशक)
  2. बादी नाशक
  3. कफोत्सारक (बलगम निकालने वाला)
  4. हेमाटोजेनिक
  5. वातहर
  6. पाचन उत्तेजक
  7. एंटीऑक्सीडेंट (प्रतिउपचायक) (उसमें उपस्थित खनिजों के कारण)
  8. दाहक विरोधी (सौम्य क्रिया)

चिकित्सीय संकेत

सेंधा नमक का उपयोग विभिन्न आयुर्वेदिक औषधियों के निर्माण में निम्नलिखित रोगों के उपचार के लिए  किया जाता है।

  • अम्लता
  • पेट दर्द
  • पेट में मरोड़
  • वायु
  • पेट फूलना
  • पेट अफरना
  • सूजन
  • वसा दाहक

सेंधा नमक (सैंधव लवण) के लाभ

सेंधा नमक को आयुर्वेदिक औषधियों में सहायक घटक के रूप में प्रयोग किया जाता है, जो मुख्य रूप से पाचन विकारों में लाभप्रद होती हैं। यहां कुछ मुख्य लाभकारी प्रभाव दिए गए हैं।

भूख में कमी

सेंधा नमक में पाचन उत्तेजक गुण है, जो उसमें उपस्थित खनिजों के कारण हो सकते हैं। यह पाचन को बढ़ावा देता है और भूख में सुधार करता है।

आयुर्वेद में, भूख में सुधार करने के लिए सेंधा नमक का उपयोग काली मिर्च, अदरक, पिप्पली और दालचीनी के साथ किया जाता है।

अम्लता, सीने में जलन और अल्सर

सेंधा नमक अम्लत्वनाशक है, इसलिए यह पेट में अम्ल के उत्पादन को घटाता है। यह अम्ल प्रतिवाह को भी रोकता है, जिसके कारण सीने में जलन हो सकती है।

आयुर्वेद में, सेंधा नमक का उपयोग पेट में अम्लता कम करने और पाचन में सुधार करने के लिए सौंफ (fennel seeds), धनिया पाउडर और जीरे के साथ किया जाता है।

वायु, पेट फूलना और उदर विस्तार

सेंधा नमक में बादी नाशक गुण होते हैं, जो आँतों में वायु, पेट फूलना और पेट के विस्तार को कम करने में मदद करता है।

इस उद्देश्य के लिए, लहसुन के पेस्ट के साथ सेंधा नमक का उपयोग करना सर्वोत्तम है। उदर विस्तार को कम करने के लिए आप सेंधा नमक छिड़का हुआ एक अदरक का टुकड़ा भी खा सकते हैं।

निम्न रक्त चाप

सभी जानते हैं कि नमक रक्तचाप बढ़ाने में मदद करता है। आप इस उद्देश्य के लिए सेंधा नमक का उपयोग भी कर सकते हैं। निम्न रक्तचाप में, आप एक गिलास पानी में आधा चम्मच सेंधा नमक ले सकते हैं। आपको इस उपाय को दिन में दो बार लेने की आवश्यकता हो सकती है।

वजन घटाना

आयुर्वेद के अनुसार, सेंधा नमक वसा दाहक है। यह शरीर में चयापचय में सुधार करता है, भोजन के प्रति लालसा को रोकता है। सैंधव लवण का वसा दाहक प्रभाव उसमें उपस्थित खनिजों के कारण होता है। हालांकि, वसा को नष्ट करने का इसका प्रभाव महत्वपूर्ण नहीं है, लेकिन आप इसका उपयोग वजन घटाने के लिए सहायक चिकित्सा के रूप में कर सकते हैं। यह मृत वसा कोशिकाओं को हटाने में भी मदद करता है।

सूजन सम्बन्धी विकारों में सहायक चिकित्सा

हालांकि, सेंधा नमक में भले ही सूजन विरोधी प्रभाव न हों, लेकिन यह शरीर में अन्य सूजन विरोधी जड़ी बूटियों की क्रियाओं को बढ़ावा दे सकता है। इसलिए, आप इसका उपयोग संधिशोथ और सूजन सम्बन्धी त्वचा रोगों में सहायक चिकित्सा के रूप में कर सकते हैं।

आंत के कीड़े

सेंधा नमक आँतों के कीड़ों को समाप्त करने के लिए अन्य कृमिनाशक औषधियों की सहायता करता है। आयुर्वेद में, इस उद्देश्य के लिए आमतौर पर सेंधा नमक के साथ विडंग का उपयोग किया जाता है।

सेंधा नमक के पानी के गरारे

सेंधा नमक के पानी से गरारे करने से गले में खराश से आराम मिलता है, शुष्क खाँसी में गले को राहत मिलती है, कफ वाली खांसी में कफ बनना कम हो जाता है, गले में सूजन और दाह कम हो जाती है।

सहायक चिकित्सा के रूप में, यह अस्थमा, ब्रोंकाइटिस और ऊपरी श्वसन पथ के लगातार संक्रमण वाले रोगियों के लिए भी लाभदायक हो सकता है।

सेंधा नमक के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या सेंधा नमक पोटेशियम सल्फेट है?

सैंधव नमक सोडियम क्लोराइड है। इसमें सोडियम क्लोराइड लगभग 98% और अन्य खनिज लगभग 2% होते हैं। इसलिए, यह पोटेशियम सल्फेट (K2SO4) नहीं है। सेंधा नमक में पोटेशियम, मैग्नीशियम, जस्ता, लोहा और अन्य खनिजों की थोड़ी मात्रा होती है।

क्या सेंधा नमक में आयोडीन होता है?

सेंधा नमक में आयोडीन काफी कम होता है, इसलिए यह आपके आयोडीन नमक को प्रतिस्थापित नहीं कर सकता है। सैंधव नमक में स्वास्थ्य लाभ के प्रचुर गुणों के कारण, आप इसे अपने भोजन में समान अनुपात में आयोडीनयुक्त नमक के साथ मिश्रण कर के उपयोग कर सकते हैं।

क्या सेंधा नमक उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है?

सेंधा नमक में लगभग 98% सोडियम क्लोराइड भी होता है, इसलिए यह उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद नहीं कर सकता है। इसका प्रभाव आम नमक की तरह रक्तचाप पर पड़ सकता है।

हालांकि, सेंधा नमक में मैग्नीशियम, पोटेशियम, जस्ता, लोहा और अन्य खनिज भी होते हैं, लेकिन रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए इन खनिजों की मात्रा नगण्य है। हालांकि, नमक और इसके खनिजों की जटिलता के कारण प्रति दिन 3.5 ग्राम से कम मात्रा में लेने पर इसे उच्च रक्तचाप वाले मरीजों के लिए बेहतर माना जाता है।

संदर्भ

  1. Rock Salt (Sendha Namak) – AYURTIMES.COM
आपको यह भी पसंद आ सकता हैं