Tag Archives: First Edition

त्रिफला चूर्ण लाभ, उपयोग, खुराक और दुष्प्रभाव

त्रिफला चूर्ण - Thriphla

त्रिफला अथवा त्रिफला चूर्ण एक आयुर्वेदिक हर्बल औषधि है जिसमें तीन प्रकार के फलों का चूर्ण होता हैं। इसके समान मात्रा में आमला, बहेड़ा और हरड़ होते है। त्रिफले का प्रयोग चूर्ण, गोलियों और सत्त कैप्सूल्स के रूप में किया जाता है। यह कब्ज, वजन घटाने, पेट की चर्बी को …

Read More »

अलसी के बीज लाभ, उपयोग, मात्रा और दुष्प्रभाव

Alsi Beej

अलसी बीज, जिसको फ्लैक्स सीड्स (flax seeds) के नाम से भी जाना जाता है, हृदय रोग, पाचन रोग, कैंसर और मधुमेह में लाभप्रद होते हैं। अलसी के बीज दुनिया के प्रसिद्ध सुपर खाद्य पदार्थों में से एक है। यह बीज बहुत ही पौष्टिक होते हैं और कई बीमारियों को रोकने …

Read More »

पुनर्नवा अर्क (Punarnava Ark)

पुनर्नवा अर्क

पुनर्नवा अर्क (Punarnava Ark) जिगर (लीवर), गुर्दे (किडनी) और मूत्राशय के लिए एक लाभकारी आयुर्वेदिक औषधि है। हालांकि, इसका मुख्य रूप से शोथ व सूजन कम करने के लिए प्रयोग किया जाता है। पर यह जिगर के रोग जैसे पीलिया, जिगर शोथ और जिगर वृद्धि आदि के इलाज के लिए …

Read More »

सौंफ का अर्क

सौंफ का अर्क

सौंफ का अर्क (Saunf Arq) पाचक होता है। यह पाचन शक्ति में सुधार लाता है और भूख को सामान्य करता है। इसका प्रयोग आयुर्वेद और यूनानी चिकित्सक पेट के रोगों के लिए करते है।  यह दाह कम करता है और उदर में बने आम विष को शरीर से बाहर निकालता …

Read More »

उदरामृत योग

उदरामृत योग

उदरामृत योग एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसका प्रयोग उदर विकार, यकृत विकार, प्लीहा विकार और गर्भाशय विकार आदि के उपचार के लिए किया जाता है। यह यकृत से पित्त का स्राव करता है और पाचन क्रिया सुधारता है।  यह पुराणी कब्ज में भी लाभदायक है। यह आंत्र की क्रिया को …

Read More »

बाल बन्धु अर्क

बालबन्धु अर्क

बाल बन्धु अर्क का प्रयोग बालकों के उदार रोगों के उपचार के लिए किया जाता है। यह आमाशय  में पाचन रसों का स्त्राव करता है और भूख बढ़ाता है। यह उदर शूल, अपचन, मंदाग्नि, कब्ज, जुकाम आदि में लाभदायक है। घटक द्रव्य एवं निर्माण विधि बालबन्धु अर्क में निम्नलिखित घटक …

Read More »

काला नमक (Black Salt)

काला नमक

काला नमक को हिमालयन काला नमक और ब्लैक साल्ट कहते हैं। यह खनिज नमक का एक प्रकार है जो आम तौर पर गहरे लाली लिए हुए काले रंग का होता है। इसमें से तीखी और सल्फर जैसी गंध आती है। चूर्ण के रूप में यह गुलाबी भूरा या हलके बैंगनी …

Read More »

शंखपुष्पी सिरप (Shankhpushpi Syrup) घटक द्रव्य, संकेत, प्रयोग एवं लाभ, मात्रा, दुष्प्रभाव

शंखपुष्पी सिरप

शंखपुष्पी सिरप (Shankhpushpi Syrup) स्मृति और मस्तिष्क शक्ति को बढ़ाने के लिए एक आयुर्वेदिक टॉनिक है। यह मस्तिष्क को बल प्रदान करता है और मन को शांत करता है। इसका प्रयोग टॉनिक रूप में मानसिक कमजोरी, भूलने की बीमारी, स्मृति हानि, कम प्रतिधारण शक्ति आदि में किया जाता है। शंखपुष्पी …

Read More »

मेध्य रसायन और मेध्य गुण वाले अन्य द्रव्य

मेध्य रसायन

मेध्य रसायन (Medhya Rasayana) शब्द संस्कृत के दो शब्दों के मेल से बना है – मेध्य और रसायन। मेध्य का अर्थ है बुद्धि, अनुभूति, बोध या संज्ञान। आयुर्वेद में रसायन वह होता है जो स्वास्थ्य को बढ़ावा देने और रोगों के होने की संभावना को कम कर देता है। मेध्य …

Read More »

आयुर्वेद के त्रिसूत्र

आयुर्वेद के त्रिसूत्र

हेतुलिँगौषधज्ञानं स्वस्थातुरपरायणम्। त्रिसूत्रं शाश्वतं पुण्यं बुबुधे यं पितामहः।। आयुर्वेद में चिकित्सा के तीन अंग – हेतु, लिंग, और औषध माने जाते है। इन तीनो को त्रिसूत्र कहा जाता है। आयुर्वेद अनुसार चिकित्सक को इन तीनों अंगों का ज्ञान होने चाहिए। व्याख्या: कभी कभी, भारतीय आयुर्वेदिक विद्वान आयुर्वेद को त्रिसूत्र आयुर्वेद …

Read More »