प्रागैतिहासिक काल से ही, मनुष्य स्वास्थ्य और रोगों के उपचार के लिए दवाओं के विभिन्न स्रोतों का उपयोग कर रहा है। धातु और खनिजों का उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा का एक प्रमुख भाग रहा है। ताम्र (तांबा) एक ऐसी ही धातु है जिसे विधिपूर्वक संसाधित और विषहरण करने पर यह कई रोगों में उपयोगी है। परन्तु अशुद्ध ताम्र भस्म बहुत ही हानिकारक है और इसे सख्ती से चिकित्सक की देखरेख में ही लिया जाना चाहिए।

ताम्र भस्म तांबा आधारित आयुर्वेदिक औषधि है जिसे ट्यूमर, कैंसर, यकृत रोग, रक्ताल्पता, मोटापा, प्लीहा और यकृत वृद्धि, हिचकी, पेट फैलावट, अम्लता के साथ अपच के लिए और कुछ अन्य रोगों में प्रयोग किया जाता है।

यह एक बहुत अच्छा उबकाई की दवा है और सभी बीमारियों में तुरंत उल्टी पैदा करती है और विशेष रूप से जब जहर अंदर चला गया हो। यदि छोटी मात्रा में ले लिया जाये तो यह विषाक्त भोजन में या शरीर में जहर के अवशेष बाकी हों तो यह उसको साफ़ करती है।

ताम्र भस्म के घटक एवं निर्माण विधि

ताम्र भस्म को आयुर्वेदिक विधि से बनाने के लिए पहले उसका शोधन किया जाता है। ताम्र में मिलावट, मिश्र धातु, बाहरी निकाय आदि हो सकते हैं जो बुरा प्रभाव डाल सकते हैं।

ताम्र भस्म में ताम्बा होता है, जिसे एलो वेरा और नींबू का रस के साथ क्रिया करके बनाया जाता है।

रासायनिक संरचना

अमिश्रित तांबा इसका प्राथमिक घटक है।

ताम्र भस्म के शोधन की दो विधियां हैं: सामान्य शोधन और विशेष शोधन

सामान्य शोधन

  • धातु को गर्म करके उसे सात बार तेल, तक्र, अर्नाला, कुलैथ क्वथन और गौ मूत्र में ठंडा किया जाता है।
  • धातु को गर्म करके उसे सात बार तेल, तक्र, कोंजी, रवीदुग्दान और गौ मूत्र में ठंडा किया जाता है।
  • धातु को गर्म करके उसे सात बार तक्र, कोंजी, गौ मूत्र, तिल तेल और कुलैथ क्वाथ ठंडा किया जाता है।
  • धातु को गर्म करके उसे सात बार कदलीमूल स्वरस में ठंडा किया जाता है।

विशेष शोधन 

सामान्य शोधन के बाद इसके गुण बढ़ाने के लिए विशेष शोधन करना चाहिए।

ताम्र मारण

शोधन के बाद मारण एक महत्त्वपूर्ण चरण है ताम्र को चूर्ण में परिवर्तित करने का। इस क्रिया में ताम्र को पारद के साथ मिलाकर कूटकर चूर्ण में बदला जाता है।

ताम्र भस्म बनाने की विभिन्न विधियां

  1. कश्ट औषधि के साथ – ताम्र पत्र को तिलपर्णी पौधे के रस के साथ मिलाया जाता है और पुत्तन की क्रिया करके सफ़ेद रंग की ताम्र भस्म प्राप्त होती है।
  2. कज्जली के साथ – ताम्र पत्र को कज्जली और नीम्बू रस के साथ मिलाकर पुत्तन की क्रिया की जाती है। इस क्रिया को तीन बार दोहराया जाता है।
  3. अरदमाश पारद के साथ (कूपीपक्व विधि) – ताम्र पत्र और उसकी आधी मात्रा में पारद को नीम्बू के रस में मिलाया जाता है। ताम्र के बराबर मात्रा में गंधक को इसमें दो घंटे तक मसला जाता है और उसको कांच के बर्तन में 24 घंटे तक पुत्तन की क्रिया की जाती है।
  4. पादांश पारद के साथ (वालुका यन्त्र) – ताम्र पत्र और उसकी चौथाई मात्रा में पारद को कांजी मिलाकर तीन दिन तक मसलना चाहिए। फिर इसमें दो भाग गंधक मिलाकर मसलें और गेंद के रूप में बना लें। इसमें मिनाक्षी, चंगेरी और पुनर्वा का लेप मिलाएं। इसपर आठ पहर के लिए पुत्तन की क्रिया की जाती है।
  5. निर्गंध – ताम्र पत्र को उसकी दुगनी मात्रा में पारद के साथ मिलाकर नीम्बू रस और सीता मसला जाता है। इसपर तीन बार पुत्तन की क्रिया की जाती है।

इसके अतिरिक्त और भी प्रक्रियाएं हैं ताम्र भस्म को बनाने की।

भस्म के लक्षण

इस विधि से जब भस्म बन जाती है तो इसका मानक स्तर जांचने के लिए रस शास्त्र के अनुसार कुछ प्रयोग किये जाते हैं।

रेखापुरन- शुद्ध भस्म को आप अपनी उँगलियों पर मलेंगे तो वह इतनी महीन होगी की वो आप की ऊँगली की रेखाओं में घुस जायेगी किसी टेलकॉम पाउडर की तरह।

निसचन्द्रिकरण- शुद्ध भस्म अपनी धातु वाली चमक खो चुकी होगी, उसमें बिलकुल भी चमक नहीं होगी।

अपुनर्भव- भस्म इस प्रकार बनानी चाहिए कि वो पुनः धातु के रूप में प्राप्त ना की जा सके।

वरितर- शुद्ध भस्म को स्थिर पानी पर डालेंगे तो वह तैरती रहेगी, धातु की भांति डूबेगी नहीं।

ताम्र भस्म में खट्टा दही मिलाकर कुछ देर तक छोड़ दिया जाए। यदि दही का रंग नीला हो जाए तो ताम्र भस्म विषाक्त (जहरीली) है, इसका उपयोग ना करें।

ताम्र भस्म के औषधीय गुण

ताम्र भस्म में निम्नलिखित उपचार के गुण हैं:

  1. अम्लत्वनाशक (एंटासिड) (तभी लाभ करती है जब आपको अपच के साथ अम्लता है)
  2. कफ निस्सारक
  3. हल्के जुलाब का असर (यकृत के पित्त लवण को उत्तेजित करती है और पेशियों की गति में क्रमिक सुधार लाती है)
  4. पाचन बढ़ाती है
  5. आर्तवजनक
  6. हेमटोगेनिक (लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करती है)
  7. रक्तिम-पित्तवर्णकता (बिलिरूबिन) कम करती है
  8. वसा दाहक (फैट बर्नर)
  9. जिंक प्रतिपक्षी

ताम्र भस्म के चिकित्सीय संकेत

ताम्र भस्म कुछ सह-औषध के साथ निम्नलिखित रोगों में लाभ देती है।

रोगसहायक औषधि
हिचकीनींबू का रस, लंबी काली मिर्च पाउडर
बलगम निर्वहन के साथ चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (आईबीएस)सूखा अदरक और शहद
बलगम निर्वहन के साथ पतले दस्तलंबी काली मिर्च और आंवला पाउडर या सूखा अदरक और छाछ
यकृत में जलनअनार का रस
भूख ना लगना या अपचलंबी काली मिर्च और शहद या अदरक का रस और शहद
कब्जशहद और फिर गेहूं के बीज या जौ के बीज खाएं
अपच के साथ अम्लतागुड़, मुनक्का और शहद
पित्तीहल्दी, काली मिर्च और शहद या बाबची बीज
प्लीहा या जिगर वृद्धिलंबी काली मिर्च और शहद या पुनर्नवा पाउडर या पुनर्नवारिष्ट
पित्ताशय की पथरीकरेला के पत्ते का रस
उन्माद मेंब्राह्मी का रस, बच, कूठ, शंखपुष्पी, मिश्री
बुद्धि वृद्धिबच
कान्ति वृद्धिपद्मकेसर चूर्ण
पुनरयौवन/तारुण्यशंखपुष्पी चूर्ण
राजयक्ष्मामक्खन, मिश्री, शहद
उल्टी आना, दस्त-अतिसार, पेट के कीड़े, अरुचि, उबकाईशुद्ध सोनागेरू, मोती पिष्टी के साथ शहद में मिला कर
क्षय, आतिसारदाड़िमावलेह
दाह शमनमिश्री
नेत्रों की निर्बलतापुनर्नवा चूर्ण
जीर्ण नेत्रदाहमुक्तापिष्टी और गिलोय सत्व
श्वासत्रिकुट और घी
भयंकर प्रदरचौलाई की जड़ का अर्क, घृत और शहद
खांसीहल्दी, पीपल का चूर्ण और शहद
जीर्णकासद्राक्षासव के साथ
सुजाक और मूत्रकच्छछोटी इलायची, कर्पूर, मिश्री का चूर्ण
रजोधर्म शुद्धिकरणमकोय का अर्क

ताम्र भस्म के औषधीय उपयोग और स्वास्थ्य लाभ

ताम्र भस्म की मुख्य क्रिया यकृत, प्लीहा, पेट, आंतों, त्वचा और मांसपेशियों पर होती है। यह यकृत और पित्ताशय से पित्त स्राव को उत्तेजित करता है। इसलिए, यह पेशियों की गति में क्रमिक सुधार लाता है, पाचन आसान बनाता है और भूख को बढ़ाता है।

यकृत (लिवर) और प्लीहा की वृद्धि

आयुर्वेद में यकृत (लिवर) और प्लीहा की वृद्धि के लिए ताम्र भस्म एक पसंदीदा औषधि है। यकृत और प्लीहा के उपचार के लिए आयुर्वेदिक औषधियां आरोग्यवर्धिनी वटी और सूतशेखर रस दी जाती है जिसमें ताम्र भस्म होती है । ताम्र भस्म सूजन को समाप्त करके प्लीहा और यकृत के आकार को कम कर देती है। इस रोग में इसको लंबी काली मिर्च और शहद के साथ या एलो वेरा के रस के साथ प्रयोग किया जाता है।

अपच और पेट फैलावट (पेट अफरना) के साथ अम्लता

तथापि, ताम्र भस्म को आम तौर पर अम्लता और सीने में जलन के लिए उपयोग में नहीं लाया जाता है। परंतु जब रोगी को अपच और पेट फैलावट (पेट अफरना) के साथ अम्लता होती है, तो यह बहुत लाभ देती है। यह भूख बढ़ाती है, शरीर में बने अम्ल को संशोधित करती है, पेट के अफरने का उपचार करती है। इस रोग में, इसे आंवला पाउडर और नद्यपान पाउडर के साथ प्रयोग किया जाता है।

पित्ताशय की पथरी

पित्ताशय की पथरी में कुछ आयुर्वेदिक ग्रंथों में ताम्र भस्म का उपयोग करेला की पत्तियों के रस के साथ करने को कहा गया है।

हालांकि, हमने पाया कि यह पित्ताशय की पथरी से जुड़े दर्द के इलाज के लिए यह प्रभावी है।

दुर्भाग्यवश, हम पित्ताशय की पथरी को हटाने के लिए इस दवा के प्रभावों का अनुमान नहीं लगा पाए।

क्योंकि हमारे अधिकांश रोगियों ने दर्द से राहत मिलने के बाद दवा बंद कर दी।

इसी प्रकार, हमने पाया कि सुतशेखर रस – Sutshekhar Ras (जो एक ताम्र भस्म का ही योग है) भी पित्ताशय की पथरी के कारण होने वाले दर्द में लाभदायक है।

इस दवा प्रयोग जारी रखने वाले कुछ रोगियों ने पित्ताशय की पथरी के आकार में कमी पाई। पित्ताशय पथरी के उपचार में ताम्र भस्म के प्रभावों का मूल्यांकन करने के लिए इसे और अध्ययन की आवश्यकता है।

ताम्र भस्म की सेवन विधि और मात्रा

ताम्र भस्म की गलत सेवन विधि से रोगी को हानि हो सकती है, इसलिए चिकित्सक की देख रेख में ही इसका उपयोग करें। ताम्र भस्म की सही खुराक इस प्रकार है:

सबसे सुरक्षित खुराक (पूरक खुराक)1 to 2 मिलीग्राम
अधिकतम अति सुरक्षित दैनिक खुराक (पूरक खुराक)5 मिलीग्राम
चिकित्सीय खुराक5 से 15 मिलीग्राम
अधिकतम दैनिक चिकित्सीय खुराक30 मिलीग्राम
उपयोग की अधिकतम अवधि45 दिन से कम

आपको ताम्र भस्म की खुराक प्रति दिन 30 मिलीग्राम से अधिक कभी नहीं करनी चाहिए। अन्यथा, इसके गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं। एक आम दुष्प्रभाव गुदा विदर है।

सावधानी और दुष्प्रभाव

ताम्र भस्म की अधिक खुराक या गलत क्रियान्वयन से गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जिसमें शामिल हैं:

  1. नाक से खून बहना
  2. उच्च रक्तचाप
  3. गुदा विदर
  4. मुँह के छाले
  5. चक्कर (वर्टिगो)
  6. मतली
  7. उल्टी
  8. दस्त
  9. रक्तस्राव विकार

आपको लाइसेंसशुदा आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श के बिना ताम्र भस्म को नहीं लेना चाहिए।

5 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए

5 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए ताम्र भस्म एक असुरक्षित चिकित्सीय खुराक है।

गर्भावस्था और स्तनपान

गर्भावस्था और स्तनपान में ताम्र भस्म एक असुरक्षित चिकित्सीय खुराक है।

मतभेद

निम्नलिखित रोगों में आपको ताम्र भस्म का उपयोग नहीं करना चाहिए।

  1. गुदा विदर
  2. रक्तस्राव विकार
  3. भारी माहवारी रक्तस्राव
  4. अत्यधिक गर्भाशय रक्तस्राव
  5. नकसीर
  6. किडनी (गुर्दे) की विफलता या गुर्दे की हानि
  7. दस्त बिना बलगम के
  8. सूर्यदाह (सनबर्न)

दवाओं का पारस्परिक प्रभाव

ताम्र भस्म तांबे का एक स्रोत है, इसलिए यह पेनिसिल्ल्मिने पर प्रभाव डाल सकता है, जो संधिशोथ और विल्सन रोग (इसमें रोगी के शरीर में अधिक मात्रा में ताम्बा जमा हो जाता है) में प्रयोग किया जाता है। यह शरीर में पेनिसिल्ल्मिने के प्रभाव और अवशोषण को कम कर सकता है।

संदर्भ

  1. Tamra Bhasma – AYURTIMES.COM
आयुर्वेदिक डॉक्टर से परामर्श करें
Click Here to Consult Dr. Jagdev Singh